करंट की चपेट में आने से दो प्रवासी पक्षियों की टूटी सांसें

फलोदी (जोधपुर). उपखण्ड के खीचन गांव में कुरजां के शीतकालीन पड़ाव स्थलों के आस-पास लगी करंट प्रवाहित नंगी विद्युत लाइनें प्रवासी पक्षी कुरजां की जान की दुश्मन साबित होने लगी है।

By: pawan pareek

Published: 19 Oct 2020, 04:02 PM IST

फलोदी (जोधपुर). उपखण्ड के खीचन गांव में कुरजां के शीतकालीन पड़ाव स्थलों के आस-पास लगी करंट प्रवाहित नंगी विद्युत लाइनें प्रवासी पक्षी कुरजां की जान की दुश्मन साबित होने लगी है।

विद्युत करंट की चपेट में आने से सोमवार को दो प्रवासी पक्षियों की सांसें थम गई। यहां शीतकालीन प्रवास पर आए मेहमान पक्षी हर साल करंट हादसों के शिकार होते रहते हैं, इसके बावजूद पड़ाव स्थलों के आस-पास नंगी विद्युत लाइनें हटाकर भूमिगत केबल बिछाने के प्रति विद्युत निगम लापरवाही बरत रहा है।

कुरजां संरक्षण में कार्यरत पक्षी प्रेमी सेवाराम माली ने बताया कि आज सुबह एक कुरजां पक्षी पड़ाव स्थल पर विद्युत लाइन के नीचे करंट से जला हुआ एवं मृत हालात में पाया गया। वहीं एक पक्षी करंट से घायल हालात में विजयसागर तालाब में पाया गया। इसे तालाब से सुरक्षित बाहर निकाला गया, लेकिन इसने भी कुछ समय बाद दम तोड़ दिया।

अधिकारी आए हरकत में

खीचन में कुरजां के साथ हुए करंट हादसे की सूचना मिलने पर एडीएम हाकम खां, क्षेत्रीय वन अधिकारी कृष्ण कुमार व्यास, वरिष्ठ पशु चिकित्सक डॉ. भागीरथ सोनी, मनीष कुमावत, अभिषेक शर्मा, झूमरलाल माली आदि मौके पर पहुंचे। मौके पर 2 कुरजां बिजली की तारों के चपेट में आई हुई मिली। इनमें एक को कम करंट लगा। जो विजय सागर तालाब के अंदर जाकर गिरी तो दूसरी की मौके पर ही मृत्यु हो गई।

एडीएम ने डिस्कॉम के अधिकारियों को कुरजां के पड़ाव स्थलों से गुजर रही विद्युत लाइनों को इन्सुलेशन करने या भूमिगत केबल लगाने के निर्देश दिए।

Show More
pawan pareek Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned