JODHPUR---कृषि विवि में उच्च कृषि शिक्षा का होगा विकास

- भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने तीन साल के लिए बढ़ाया कृषि विवि का एक्रीडीटेशन

- मिलेंगे करोड़ों रुपए

By: Amit Dave

Published: 06 Apr 2021, 04:54 PM IST

जोधपुर।

जोधपुर कृषि विश्वविद्यालय में उच्च कृषि शिक्षा के विकास व विस्तार कार्यक्रम जारी रहेंगे। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद नई दिल्ली ने विश्वविद्यालय के शैक्षणिक स्तर, विभिन्न कृषि शिक्षा उन्नयन कार्यक्रम को सराहा है। इस पर परिषद ने कृषि विवि का एक्रीडीटेशन को तीन साल के लिए बढ़ाया है। परिषद के राष्ट्रीय कृषि शिक्षा प्रत्यायन मण्डल की ओर से कृषि विश्वविद्यालय को वर्ष 2024 तक एक्रीडीटेशन प्रदान किया है। विश्वविद्यालय का एक्रीडीटेशन होने से कृषि उच्च शिक्षा सुदृढ़ीकरण के अंतर्गत केन्द्र सरकार की विभिन्न परियोजनाओं की धनराशि विश्वविद्यालय को प्राप्त हो सकेगी। इससे विश्वविद्यालय के संस्थागत और आधारभूत ढांचे का विकास होगा। जिनमें ढांचागत विकास, पुस्तकालय व कक्षाओं का आधुनिकीकरण आदि शामिल है।

--

इन कार्यक्रमों का हो रहा आयोजन

विवि के डॉ एमएल मेहरिया के अनुसार, इन परियोजनाओं के माध्यम से विश्वविद्यालय का ढांचागत विकास, प्रयोगशालाओं व पुस्तकालयों का उन्नयन, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, आदिवासी युवाओं के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम, कृषि से संबंधित विभिन्न विषयों पर ख्याति प्राप्त विषय विशेषज्ञों के व्याख्यान, तकनीकी सत्रों के आयोजन आदि से लाभान्वित कर समाज की मुख्य धारा से जोडऩे का कार्य किया जा रहा है।

----

करोड़ों रुपयों की धनराशि मिलेगी

इस वित्त वर्ष में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद से विश्वविद्यालय को विभिन्न परियोनाओं के लिए धनराशि स्वीकृत हो चुकी है। जिसमें टीएसपी के अंतर्गत 35 लाख रुपए, एससी-एसपी के अंतर्गत 70 लाख रुपए, विश्वविद्यालय विकास मद के अंतर्गत 62.53 लाख रुपए, स्टूडेंट रेडी 'रावेÓ के अंतर्गत 17.10 लाख रुपए सहित कुल 1.84 करोड़ रुपए की धनराशि स्वीकृत हुई है।

-----

परिषद की ओर से एक्रीडीटेशन मिल जाने से विश्वविद्यालय में उच्च कृषि शिक्षा का विकास होगा। इसके साथ ही, विश्वविद्यालय का ढांचागत विकास-विस्तार होगा।

प्रो बीआर चौधरी, कुलपति

कृषि विश्वविद्यालय जोधपुर

Amit Dave Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned