scriptInnocent panther is being victim of death | पानी की तलाश में बेकसूर पैंथर हो रहे मौत का शिकार | Patrika News

पानी की तलाश में बेकसूर पैंथर हो रहे मौत का शिकार


नहीं दिया गया ध्यान तो गड़बड़ा जाएगा इॅको सिस्टम बैलेंस

जोधपुर

Published: May 27, 2022 10:35:55 pm

जोधपुर. भीषण गर्मी में सिरोही व पाली जिले के जंगलों में अपने प्राकृतवास छोड़कर भोजन - पानी की तलाश में पलायन करने के दौरान पैंथर अपनी जान गंवाने लगे हैं । भोजन पानी के लिए लंबी दूरी तय करने के दौरान रिहायशी क्षेत्रों में कभी ग्रामीणों के हत्थे चढ़कर तो कभी शिकारियों के फंदे में फंसकर जान गंवाने की घटनाएं होने के बावजूद वनविभाग सुध नहीं ले रहा है। वन्यजीव विशेषज्ञों के अनुसार पाली व सिरोही जिलों में पैंथर की संख्या लगातार कम हो रही है। जोधपुर संभाग के जिलों में पैंथर की संख्या 136 से भी कम हो चुकी है।
पानी की तलाश में बेकसूर पैंथर हो रहे मौत का शिकार
पानी की तलाश में बेकसूर पैंथर हो रहे मौत का शिकार
भोजन भी हो रहा खत्म

वन्यजीव विशेषज्ञों के अनुसार कुंभलगढ़ सेंचुरी , राजसमंद , पाली की पहाड़ियां पैंथर के प्राकृत आवास है । इन क्षेत्रों में पैंथर के प्राकृतिक भोजन खुर वाले जानवर सांभर , नीलगाय आदि वन्यजीव खत्म हो चुके हैं । गर्मी में पानी और वैकल्पिक भोजन की तलाश में भटकते हुए पैंथर कई बार दूसरी टेरिटोरियल में चले जाते है जहां पहले से ही मौजूद पैंथर से संघर्ष करना पड़ता है। ऐसे में आपसी संघर्ष में जान गंवानी पड़ती है।
पैंथर की जोधपुर में मौत

पाली जिले के देसूरी रेंज में नाडोल के कोटडी गांव में 20 मई को पैंथर के आपसी संघर्ष में एक पैंथर गंभीर घायल होने से चेहरे व सिर में सूजन व खून जमा हो गया। सूचना मिलने के बाद वनविभाग की टीम जोधपुर के वन्यजीव चिकित्सालय लेकर पहुंची जहां उसका उपचार शुरू किया गया। दिमाग की सूजन व नर्वस सिस्टम के उपचार के दौरान फीड्स (ताणे) आने के कारण श्वसन तंत्र व मस्तिष्क काम करना बंद करने से पैंथर की मृत्यु हो गई।
पानी की व्यवस्था हो

जोधपुर संभाग के विभिन्न क्षेत्रों में विचरण करने वाले पैंथरों के प्राकृतवास में पर्याप्त मात्रा में पानी की व्यवस्था की जानी चाहिए। पूरे प्रदेश में सर्वाधिक बिग केट कुंभलगढ़ सेंचुरी व आसपास की पहाडि़यों में है जो इॅको सिस्टम को बैलेंस करते है और उनका संरक्षण आवश्यक है।
डॉ. हेमसिंह गहलोत, वन्यजीव विशेषज्ञ जोधपुर

पैंथर के दिमाग का हिस्सा क्षतिग्रस्त

आपसी संघर्ष में गंभीर घायल पैंथर के दिमाग का अधिकांश हिस्सा काम करना बंद कर चुका था । चार दिनों तक जोधपुर के वन्यजीव चिकित्सालय में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।विजय बोराणा, उपवन संरक्षक वन्यजीव जोधपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में हैदराबाद में शुरू हुई BJP राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठकUdaipur Kanhaiya Lal Murder Case में बड़ा खुलासा: धमकियों के बीच कन्हैयालाल ने एक सप्ताह पहले ही लगवाया था CCTV, जानिए पुलिस को क्या मिला...Udaipur Kanhaiya Lal Murder Case : कोर्ट तक यूं सुरक्षित पहुंचे कन्हैया हत्याकांड के आरोपी लेकिन...ऋषभ पंत 146, रवींद्र जडेजा 104, टीम इंडिया का स्कोर 416, 15 साल बाद दोनों ने रच दिया बड़ा इतिहासMumbai: बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने मुंबई की सड़कों पर गड्ढों को देखकर जताई चिंता, किया पुराने दिनों को याद250 मिनट में पूरा हुआ काशी का सफर, कानपुर-वाराणसी सिक्स लेन का स्पीड ट्रायल सफलनूपुर शर्मा के खिलाफ कोलकाता पुलिस ने जारी किया लुकआउट नोटिस, समन के बाद भी नहीं हुई हाजिरMaharashtra Politics: देवेंद्र फडणवीस किसके कहने पर महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम बनने के लिए हुए तैयार, सामने आई बड़ी जानकारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.