जोधपुर के शिवालयों में महाशिवरात्रि की तैयारियां शुरू , अचलनाथ मंदिर में 12 ज्योतिर्लिंग पर होगा अभिषेक

भगवान शिव की आराधना का प्रमुख पर्व महाशिवरात्रि 21 फरवरी को मनाया जाएगा। सूर्यनगरी के प्रमुख शिवालयों में महारुद्राभिषेक, पंचामृत अभिषेक, ऋतुपुष्पों से शृंगार किया जाएगा। मंदिरों में भक्ति संध्या, रात्रि जागरण का आयोजन होगा।

By: Harshwardhan bhati

Published: 18 Feb 2020, 03:18 PM IST

जोधपुर. भगवान शिव की आराधना का प्रमुख पर्व महाशिवरात्रि 21 फरवरी को मनाया जाएगा। सूर्यनगरी के प्रमुख शिवालयों में महारुद्राभिषेक, पंचामृत अभिषेक, ऋतुपुष्पों से शृंगार किया जाएगा। मंदिरों में भक्ति संध्या, रात्रि जागरण का आयोजन होगा। शहर की विभिन्न भजन मंडलियों की ओर से शिव ब्यावले का वाचन किया जाएगा। प्रमुख शिवालयों में देवाधिदेव शिव शंकर के विवाह से जुड़ी झांकियां और रात्रि के चारों प्रहर चतुर्याम पूजन किया जाएगा। उम्मेद उद्यान परिसर में स्थित शिवालय में भोलेनाथ का महाशृंगार, फूल मंडली, संकीर्तन व आकर्षक रोशनी की जाएगी।

जालोरीबारी बड़लेश्वर, तखतसागर सिद्धनाथ, कायलाना गोरेश्वर महादेव मंदिर, दईजर संवित धाम स्थित गिरिश्वर महादेव, सोजतीगेट भोमेश्वर व चांदपोल रामेश्वरनाथ सिद्धपीठ, सिवांचीगेट भूतेश्वर वनक्षेत्र में स्थित भूतनाथ, इकलिंग महादेव, जागनाथ में दिनभर अभिषेक व धार्मिक अनुष्ठान किए जाएंगे। सूर्यनगरी के प्रमुख ज्योतिषियों के अनुसार इस बार महाशिवरात्रि पर्व कई शुभ संयोंगों से युक्त रहेगा। ग्रह नक्षत्रों के मेल और शुभ योग होने से यह पर्व अत्यंत शुभ फलदायी होगा।

12 ज्योर्तिलिंग पर होगा महारुद्राभिषेक
भीतरी शहर के कटला बाजार अचलनाथ मंदिर में सुबह पांच बजे भस्मारती और सुबह 11 बजे शृंगार आरती का आयोजन किया जाएगा। मंदिर के कैलाशचन्द्र ने बताया कि दोपहर 12 बजे से महारुद्राभिषेक, शाम पांच बजे कर्पूर आरती, शाम 7.30 बजे विजया शृंगार आरती होगी। रात्रि 9.30 बजे से शिव ब्यावले का वाचन होगा। मंदिर परिसर में सभी 12 ज्योर्तिलिंग पर महारुद्राभिषेक किया जाएगा।

Harshwardhan bhati
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned