हार्ट पेशेंट महिला के खेत में गिरा पायलट, बीपी बढ़ा तो बेटी दौड़कर दवाइयां लेकर आई

हार्ट पेशेंट महिला के खेत में गिरा पायलट, बीपी बढ़ा तो बेटी दौड़कर दवाइयां लेकर आई

Jitendra Singh Rajpurohit | Publish: Sep, 04 2018 07:46:14 PM (IST) Jodhpur, Rajasthan, India

एयरबेस से करीब 25 किलोमीटर दूर ही दुर्घटनाग्रस्त हुआ मिग-27

जोधपुर.

वायुसेना का मिग-27 विमान मंगलवार सुबह एयरबेस से करीब 25 किलोमीटर दूर ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हवा में विमान में आग की लपटें देख जालेली चम्पावता गांव में अपने खेत में काम कर रही काली देवी इधर-उधर भागने लगी। धमाका होने से हार्ट पेशेंट काली देवी की धड़कन व बीपी बढ़ गया। कुछ ही क्षण में उनके खेत में पायलट आकर गिरा। घर में काम कर रही काली देवी की बेटी दौड़कर आई और उसने मां को दवाइयां दी। इसके बाद अन्य ग्रामीण पहुंच गए। महिला ने अपने आपको संभालकर पायलट से बातचीत की और हेलमेट हटाने के लिए कहा। पायलट ने ग्रामीणों की सुनकर हेलमेट थोड़ा ऊपर किया। काली देवी ने पत्रिका को बताया कि पायलट को पानी का पीने और तबीयत के बारे में पूछा तो उसने गर्दन हिलाई। खाया-पीया कुछ नहंीं और आधे घण्टे तक केवल लेटा रहा। इसके बाद हेलीकॉप्टर आकर पायलट को लेकर चला गया। कॉकपिट को कंधों पर लेकर पहुंचे ग्रामीण

गांव के ही रामदीन ढाका, भरत चौधरी और रूप सिंह ने पायलट की कुशलक्षेम पूछी। पायलट के हेलीकॉप्टर से लौटने के बाद उन्होंने ग्रामीणों के सहयोग से कॉकपिट, पैराशूट और पायलट की कुर्सी को उठाकर दो सौ मीटर दूर विमान के हादसा स्थल तक लेकर गए। बाद में वायुसेना के अधिकारियों ने इन सामान को अपने कब्जे में लिया।

ढाणियों व फसलों को बचाया
मैं अपनी छत पर था, तब मैंने देखा कि विमान में धुंआ निकल रहा है और कुछ ही देर में पायलट बाहर आता दिखाई दिया। हम दौड़कर मौके पर पहुंचे और पायलट से कुशलक्षेम पूछी। पायलट ने अपनी सूझबूझ का बेहतरीन परिचय दिया। उसने आसपास की कई ढाणियों को बचाने के साथ खेत की फसल को भी नुकसान से बचा लिया।

रामदीन ढाका, मिठाई विक्रेता प्रत्यक्षदर्शी

मैं बाइक लेकर भागा
आसमान में धमाके की आवाज से हमें अहसास हो गया कि प्लेन व पायलट दोनों नीचे गिर गए हैं। यह मेरे घर से एक किलोमीटर दूर था। मैं बाइक लेकर मौके पर पहुंचा तब तक प्लेन धूं धूं कर जल रहा था।

रूपसिंह, किसान, प्रत्यक्षदर्शी

मवेशी भाग गए, अब तक नजदीक नहंी आ रहे
हम लोग यहां ५०-६० भैंसे चरा रहे थे। धमाके की आवाज और आसमान से आग में गिरा हुआ प्लेन देखकर हम लोग इधर उधर भागे। हमारी भैंसे भी जोर से आवाज करती हुई दूर भाग गई जो अब तक नजदीक नहीं आ रही।

तुलसी देवी, प्रत्यक्षदर्शी

हमारे ऊपर नहीं गिर जाए
आसमान में जोरदार धमाके के साथ आग का गोला था। हम तो सोच रहे थे कि प्लेन कहीं हमारे ऊपर नहीं गिर जाए इसलिए हम इधर उधर भाग रहे थे। गनीमत रही कि जानमाल का नुकसान नहीं हुआ।

नैनी देवी, प्रत्यक्षदर्शी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned