बाबा के जातरुओं के लिए नहीं लग सकेंगे राम रसोड़े

 

गुजरात-मध्यप्रदेश व प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से आते है बाबा के लाखों जातरू

मंदिर खुले होने से इस बार बढ़ सकती है भक्तों की भीड़

 

By: Nandkishor Sharma

Published: 30 Jul 2021, 11:15 AM IST

NAND KISHORE SARASWAT

जोधपुर. जैसलमेर जिले के रामदेवरा और जोधपुर के मसूरिया बाबा रामदेव मंदिर में 8 सितम्बर को भाद्रपद सुदी बीज का मेला राज्य सरकार की गाइडलाइन के चलते नहीं हो सकेगा, लेकिन जातरुओं के पहुंचने का क्रम अभी से ही शुरू हो चुका है।

जोधपुर की विभिन्न सामाजिक, धार्मिक संस्थाएं जातरुओं के लिए पिछले कई दशकों से लगातार नि:शुल्क भोजन, चाय, नाश्ता, चिकित्सा शिविर, दवाइयों, विश्राम स्थलों का नि:शुल्क प्रबन्ध करती हैं, लेकिन लगातार दूसरे वर्ष भी कोविड गाइडलाइन के चलते जातरु इस बार भोजन व विश्राम सुविधाओं से वंचित रहेंगे। जगह-जगह भव्य भक्तिसंध्या और भक्तिगीतों पर थिरकते जातरुओं का नजारा भी नहीं दिखेगा।

सोशल डिस्टेंसिंग की पालना चुनौतीपूर्ण

रामदेवरा और मसूरिया बाबा मंदिर में दर्शन खुले रहने से गत वर्ष की तुलना में जातरुओं की संख्या में बढ़ोतरी की संभावना है। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना के साथ पैदल व दुपहिया वाहनों पर आने वाले जातरुओं को रोकना जिला प्रशासन के लिए चुनौतिपूर्ण होगा।

होगी वैकल्पिक व्यवस्था

कोरोना गाइडलाइन की पालनार्थ इस साल जोधपुर में राम रसोड़ों का संचालन नहीं किया जाएगा। जातरुओं के लिए भोजन पैकेट की वैकल्पिक व्यवस्था पर विचार-विमर्श चल रहा है। हर साल बाबा की बीज पर रावण चबूतरा मैदान में होने वाली राज्य स्तरीय भव्य भजन संध्या इस बार भी नही होगी।
-करण सिंह राठौड़, राष्ट्रीय अध्यक्ष बाबा रामदेव समाज सेवा संस्थान जोधपुर

प्रतिदिन 600 से अधिक जातरू

मसूरिया में बाबा रामदेव मंदिर परिसर में जातरुओं के लिए किसी भी तरह का राम रसोड़ा संचालित नहीं होगा। इन दिनों प्रतिदिन 600 से अधिक जातरू मसूरिया मंदिर में आने लगे है। मंदिर में कोविड गाइडलाइन पालना के साथ ही दर्शन व्यवस्था की गई है।
नरेन्द्र चौहान, अध्यक्ष, बाबा मंदिर पीपा क्षत्रिय समस्त न्याति ट्रस्ट

Patrika
Nandkishor Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned