सूर्यनगरी में श्वानों का आंतक

- दो जनों को श्वानों ने काटा
- विशेषकर भीतरी शहर के लोग श्वानों से परेशान
- लोगों का आरोप शिकायत के बाद भी नहीं सुनते जिम्मेदार

By: Om Prakash Tailor

Published: 24 Jul 2020, 10:31 PM IST

जोधपुर. अलसुबह या शाम ढलने के बाद आप भीतरी शहर की गलियों में जा रहे है तो थोड़ा संभल कर चले। क्योंकि न जाने किसी गली में श्वान अचानक आप पर हमला कर आपको घायल कर दे।
क्योंकि इन दिनों शहर में श्वानों का मानो आंतक सा हैं। आए दिन किसी न किसी को काट रहे है। शुक्रवार को भी दो जनों पर हमला कर श्वानों ने घायल कर दिया। लोगों को शिकायत है कि गलियों में घूमने वाले श्वानों को पकडऩे के लिए कई बार निगम में शिकायत की लेकिन इन्हें पकडऩे की कार्रवाई नहीं की जा रही। जिम्मेदारों की इस लापरवाही का नुकसान उन्हें उठाना पड़ रहा है।

घूमने जा रहे थे, श्वानों ने अस्पताल पहुंचा दिया
निगम के जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा आम नागरिकों को उठाना पड़ रहा है। शुक्रवार अलसुबह गुंदी का मोहल्ला निवासी कांतिलाल घूमने जा रहे थे। इस दौरान अचानक 8-10 श्वानों ने उन पर हमला कर दिया। जिससे वे बुरी तरह जख्मी हो गए। जिन्हें तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया। श्वानों ने उनके हाथ व पेट में जगह-जगह काट लिया।

गली से गुजरने वालों के पीछे पड़ जाते है श्वान
शहर के चांदपोल इलाके के अंदर पुरबियों की गली, उन्दरगढ़ ब्रह्मपुरी की गलियों के अंदर श्वानों का आंतक सा है। पूर्व में भी कई बार लोगों को काटकर श्वान अस्पताल पहुंचा चुके है। शुक्रवार को भी गली से गुजर रहे एक व्यक्ति पर हमला कर श्वानों ने घायल कर दिया। जिन्हें लोगों ने अस्पताल पहुंचाया। सोशल मीडिया पर भी क्षेत्रवासियों ने पोस्ट डाल अपना विरोध जताया।

आए दिन श्वान पड़ जाते है पीछे
सुबह में निकल रहा था। इस दौरान व्यक्ति के पीछे चार-पांच श्वान पड़ गए तथा उन्हें काट लिया। मैंने व अन्य लोगों ने श्वानों को भगाया। पुरबियों की गली, उन्दरगढ़ ब्रह्मपुरी की गली में श्वानों का आंतक है। आने-जाने वालों के पीछे पड़ जाते है। क्षेत्रवासी भी परेशान है। मैंने राज संपर्क पर इसको लेकर शिकायत भी की है।
- हेमन्त त्रिवेदी, महादेवरा गली, ब्रह्मपुरी

Om Prakash Tailor
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned