तहसीलदार दस हजार रुपए रिश्वत लेते गिरफ्तार

- सिवाना तहसील कार्यालय में एसीबी की कार्रवाई
- खातेदारी भूमि से रास्ता निकालने की रिपोर्ट पक्ष में बनाने के बदले ली रिश्वत

By: Vikas Choudhary

Published: 27 Jan 2021, 05:36 PM IST

जोधपुर.
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने खातेदारी भूमि से रास्ता निकालने की रिपोर्ट पक्ष में बनाने की एवज में दस हजार रुपए रिश्वत लेते बाड़मेर जिले में सिवाना के कार्यवाहक तहसीलदार को बुधवार को रंगे हाथों गिरफ्तार किया।
ब्यूरो के उप महानिरीक्षक डॉ विष्णुकांत ने बताया कि सिवाना तहसील में थापन गांव निवासी थानाराम पुत्र भुदराराम सैन की गांव में खातेदारी भूमि है। उसमें से रास्ता निकालने के लिए उन्होंने सिवाना के एसडीओ कोर्ट में राजस्थान काश्तकारी अधिनियम के तहत राजस्व आवेदन कर रखा है। सिवाना के एसडीएम ने सिवाना के तहसीलदार को रास्ता के विवाद संबंधी नियमानुसार जांच रिपोर्ट बनाकर भेजने के निर्देश दिए। इस संबंध में कार्यवाहक तहसीलदार बाबूसिंह राजपुरोहित ने दस हजार रुपए रिश्वत मांगी। इसकी शिकायत थानाराम ने १९ जनवरी को एसीबी से की। २१ जनवरी को गोपनीय सत्यापन कराया गया तो कार्यवाहक तहसीलदार बाबूसिंह ने मौका देखने व रिपोर्ट पक्ष में बनाकर भेजने की एवज में दस हजार रुपए रिश्वत मांगी थी।
इस बीच, बुधवार को परिवादी थानाराम को रिश्वत राशि देने के लिए तहसील कार्यालय भेजा गया, जहां उसने कार्यवाहक तहसीलदार बाबूसिंह को दस हजार रुपए दे दिए। इतने में इशारा मिलते ही एसीबी की जालोर चौकी प्रभारी व उपाधीक्षक अन्नराजसिंह ने दबिश देकर बाड़मेर में समदड़ी थानान्तर्गत भलरों का बाड़ा निवासी कार्यवाहक तहसीलदार बाबूसिंह पुत्र (५४) खेतसिंह राजपुरोहित को रंगे हाथों गिरफ्तार किया। उसके पेंट की दाहिनी जेब से रिश्वत राशि बरामद की गई।

Vikas Choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned