कानपुर में जल्द बनकर तैयार होगा देश का पहला लेदर पार्क, इंटरनेशनल ब्रांड का होगा उत्पाद, लाखों को मिलेगा रोजगार

India's first leather park in Kanpur soon. उत्तर प्रदेश सरकार ने दावा किया कि कानपुर के "मेगा लेदर पार्क" (Mega Leather Park) परियोजना में तेजी से काम आगे बढ़ रहा है और जल्द ही जिले के लिए ये एक "गेम चेंजर" होगा।

By: Abhishek Gupta

Published: 19 Jun 2021, 03:59 PM IST

कानपुर. कानपुर के रमईपुर गांव में जल्द ही देश का पहला लेदर पार्क (India first leather park) बनकर तैयार हो जाएगा। उत्तर प्रदेश सरकार ने दावा किया कि कानपुर के "मेगा लेदर पार्क" (Mega Leather Park) परियोजना में तेजी से काम आगे बढ़ रहा है और जल्द ही जिले के लिए ये एक "गेम चेंजर" होगा। मेगा लेदर पार्क परियोजना के लिए 235 एकड़ जमीन पहले ही अधिग्रहित की जा चुकी है। इसे पिछले वर्ष केंद्रीय वाणिज्य मंत्रालय ने मंजूरी दी थी। पार्क से 150 से अधिक टेनरीज चलेंगी, जिससे लगभग 50,000 लोगों को प्रत्यक्ष व लगभग 1.5 लाख लोगों को अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा। यहां जूते, पर्स, बेल्ट और जैकेट सहित चमड़े के अन्य उत्पाद के इंटरनेशनल ब्रांड का प्रोडक्शन होगा। साथ ही उनके निर्यात को बढ़ावा दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें- कानपुर में बनेगा देश का पहला मेगा लेदर पार्क

पिछले साल केंद्र से मिली थी मंजूरी-
2012 में पहली बार इस परियोजना को प्रस्तावित किया गया था, इसके तुरंत बाद अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी की सरकार हरदोई जिले में इस तरह की एक और परियोजना के साथ सत्ता में आई थी। लेकिन तमाम कोशिशों के बाद भी यह प्रोजेक्ट धरातल पर नहीं उतर सका। कानपुर में लेदर पार्क स्थापित करने के प्रस्ताव को पिछले साल केंद्र से फिर से मंजूरी मिल गई थी। यह परियोजना इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि गंगा में बढ़ते प्रदूषण के बाद कानपुर में टेनरीज जांच के दायरे में हैं। इस परियोजना के जरिए प्रदूषण की जाँच करते हुए चमड़ा उद्योग को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है।

ये भी पढ़ें- २० देशों में चमड़ा बाजार तलाशेंगे शहर के कारोबारी

7,000 लोगों को मिलेगा रोजगा-
सरकारी सूत्रों का कहना है कि भूमि के संबंध में कुछ बाधाएं थीं, जिन्हें हल कर लिया गया है, और इस परियोजना के अगले कुछ महीनों में शुरू होने की संभावना है। इस बीच, सरकार ने दावा किया कि कानपुर जल्द ही एक कपड़ा और चमड़े के शहर में रूप में जाना जाएगा। सरकार को कानपुर शहर के साथ-साथ कानपुर ग्रामीण क्षेत्रों में उद्योग स्थापित करने के लिए 23 प्रस्ताव मिले हैं। बताया जा रहा है कि लगभग 4,000 करोड़ रुपये की इन परियोजनाओं के पूरा होने और काम शुरू होने के बाद लगभग 7,000 लोगों को रोजगार मिलेगा।

इन कंपनियों ने किया निवेश-
अधिकारियों के अनुसार, आरपी पॉलीपैक्स और कानपुर प्लास्टिक्स लिमिटेड ने कानपुर शहर और कानपुर (ग्रामीण) में क्रमश: 150 करोड़ रुपये और 200 करोड़ रुपये की लागत से कपड़ा कारखाने स्थापित किए हैं और पहले ही उत्पादन शुरू कर दिया है। स्पर्श इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने कानपुर (ग्रामीण) में एक प्लास्टिक फैक्ट्री के निर्माण के लिए 600 करोड़ रुपये का निवेश किया है, जबकि रिमझिम स्टील कंपनी 550 करोड़ रुपये की लागत से कानपुर (ग्रामीण) में स्टील रोलिंग मिल का निर्माण कर रही है।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned