अब कैसे उठेगी डोली, शादी से पहले छीना पिता का साया, मां की मौत पहले हो चुकी

अब कैसे उठेगी डोली, शादी से पहले छीना पिता का साया, मां की मौत पहले हो चुकी

kamlesh sharma | Publish: Apr, 17 2019 07:59:06 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2019 07:59:07 PM (IST) Karauli, Karauli, Rajasthan, India

जिस घर में सात दिन बाद बेटी की डोली सजनी थी, वहां अब मातम पसर गया है।

करौली। जिस घर में सात दिन बाद बेटी की डोली सजनी थी, वहां अब मातम पसर गया है। बेटी की मां की पहले मौत हो चुकी और पिता की विद्युत निगम के कर्मचारियों ने कथित तौर पर कुछ दिन पहले हत्या कर। बेटी की डोली उठने से पहले पिता की अर्थी उठ गई, जिससे दुल्हन की खुशियां और सपने चूर-चूर हो गए है। अब लड़की व परिवार बेसाहरा हो गया है, अब उसके हाथ पीले कौन करे। बेटी व उसके छोटे भाई दिन भर शादी के कार्डों के देखकर ही रोते रहते है।

मासलपुर थाना क्षेत्र के मेंगराकला गांव के राधेश्याम जाटव पुत्र गोपाली जाटव की बेटी की शादी 22 अप्रेल को होनी है, बेटी की शादी के कार्ड करौली में बग्गीखाना के पास अपनी बहन को देने आया था। 4 अप्रेल को घूमने के लिए विद्युत निगम ग्रिड स्टेशन से सटकर घूम रहा था। आरोप है कि विद्युत निगम के सुरक्षाकर्मी व कर्मचारियों ने चोर समझकर उसकी पिटाई कर दी, जिससे वह घायल हो गया। घायल को करौली के अस्पताल से जयपुर रैफर किया गया, जिसने 15 अप्रेल को दम तोड़ दिया। पिता की मौत के सूचना के बाद घर व गांव में कोहराम मच गया। इसकी प्राथमिकी कोतवाली थाने में दर्ज कराई, जिसमें एक कनिष्ठ अभियंता व सुरक्षाकर्मियों पर पिटाई का आरोप लगाया था।

लग्न के दिन उठी पिता की अर्थी
16 अप्रेल को मृतक राधेश्याम जाटव की बेटी शिमला की लग्न मामचारी गांव में जानी थी, लेकिन उसी दिन पिता की अर्थी उठी,भाई अजय जाटव ने मुखाग्नि दी। इस कारण 16 अप्रेल को लग्न नहीं हो सकी। उससे छोटा भाई पिता की राख को लेकर गंगा नदी में गया हुआ है। घर पर दुल्हन शिमला व उसके दोनों छोटे भाइयों का रो-रोकर बुरा हाल है। पड़ोसी तथा कुटम्ब के लोग ढांढस बंधा रहे हैं। लेकिन शिमला की आंखों से आंसू थम ही नहीं रहे हैं।

घर में नहीं दाने, फिर शादी कैसे हो
शिमला के शादी के कार्ड छप गए है, कुटम्ब व दूल्हा पक्ष के लोग 22 अप्रेल को शादी की बात कह रहे है। दुल्हन के मौसरे भाई पप्पू जाटव ने बताया कि आर्थिक स्थिति पहुत खराब है, विद्युत निगम या अन्य अधिकारियों ने मुआवजा नहीं दिलाया, जिससे वह शिमला की शादी कर सके। घर में रोटी खाने को अनाज तक नहीं है, इस कारण शादी का सामान भी नहीं आया है। किसी भी प्रकार की तैयारी नहीं की है। 22 अप्रेल को शादी करने की सोच जरूर रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned