'बांधों की सुरक्षा के लिए बने आयोग, देश के 20 प्रतिशत बांध 70 साल और 50 प्रतिशत बांध 50 साल पुराने'

केन्द्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह ने कहा, राज्य सरकार
इस पर ध्यान दे, केन्द्र सरकार सहायता करेगी

 

 

 

By: Jaggo Singh Dhaker

Published: 01 Mar 2020, 07:32 PM IST

कोटा. केन्द्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह ने चंबल पर बने बांधों सहित देश के पुराने बांधों की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है। उन्होंने कहा, देश में ऐसा आयोग बनना चाहिए जो बांधों की सुरक्षा की चिंता करें। कोटा में बाढ़ के समय चंबल के बांधों की स्थिति को लेकर सिंह ने कहा, पिछली बारिश में बहुत चिंताजक हालात सामने आए। जब गांधी सागर के सभी गेट खोले गए और पानी तेजी से बढ़ा उस समय वे वायु मार्ग से दिल्ली आने वाले थे, तभी उन्हें सूचना मिली कि गांधी सागर टूट सकता है। उस समय दिल्ली पहुंचने तक का दो घंटे का समय बहुत चिंता में निकला। दिल्ली पहुंचते ही मध्यप्रदेश और राजस्थान सरकार से इस बारे में बात की। वे खुद महसूस करते हैं कि बांधों की सुरक्षा पर बहुत ध्यान देने की जरूरत है। देश में छोटे-बड़े 5 हजार 800 से ज्यादा बांध हैं।

Read more : कांग्रेसियों का हंगामा, केन्द्रीय मंत्री स्मृति इरानी को
काले झंडे दिखाने की कोशिश, पुलिस ने लिया हिरासत में

70 के दशक के अंत में गुजरात के मोरवी में हुए बांध हादसे के बाद देश में इस तरह का प्रोटोकॉल बनना जरूरी हो गया है कि जिससे बांधों की सुरक्षा हो। बांधों की आयु बढ़ रही है। 20 प्रतिशत से ज्यादा बांध 70 साल से ज्यादा पुराने हैं और 50 प्रतिशत बांध ऐसे हैं जिनकी आयु 50 साल से ज्यादा हो गई है। बांधों की सुरक्षा के लिए प्रोटोकॉल बने यह अत्यंत आवश्यक है।

BJP
Show More
Jaggo Singh Dhaker
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned