scriptControversy on Taj Mahal | ताजमहल का निर्माण रुकवाना चाहते थे राजा जयसिंह, शाहजहां के फरमानों से हुआ चौंकाने वाला खुलासा | Patrika News

ताजमहल का निर्माण रुकवाना चाहते थे राजा जयसिंह, शाहजहां के फरमानों से हुआ चौंकाने वाला खुलासा

मुगल सल्तनत के शाही फरमानों से चौंकाने वाला खुलासा हुआ है कि राजा जय सिंह ने ताजमहल का निर्माण रुकवाने की कोशिश की थी।

कोटा

Published: October 26, 2017 05:32:07 pm

ताजमहल के निर्माण के लिए मुगल बादशाह शाहजहां को अपने पुरखों की ‘मान हवेली’ सौंपने वाले आमेर (जयपुर) के राजा जय सिंह इस फैसले से खुश नहीं थे। 380 साल पहले मुगल शहंशाह शाहजहां की ओर से जारी फरमानों से यह चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। फारसी में लिखे इन शाही फरमानों से इस बात का भी खुलासा हुआ है कि राजा जयसिंह ने ताजमहल के लिए आमेर और राजनगर की खदानों से संगमरमर की खुदाई का काम भी रोकने की कोशिश की थी। राजा जय सिंह के लोगों ने संगमरमर की खदानों में काम करने वाले मजदूरों और संगतराशों को आमेर और राजनगर में रोकना शुरू कर दिया था। जिससे संगमरमर की खुदाई का काम बंद होने के कगार पर पहुंच गया था। इस बात की खबर लगते ही शाहजहां खासा नाराज हुआ और तत्काल मजदूरों और संगतराशों को काम पर भेजने का हुक्म कर दिया था।
Taj Mahal, Controversy on Taj Mahal, Royal decree of the Mughals, Shahi Farman Mugal, Mugal Farman On Tajmahal, Raja Jay Singh Tajmahal, Mugal King Shahjahan, Taj Mahal News, Rajasthan Patrika Kota, Kota Rajasthan Patrika, Patrika News
ताजमहल का निर्माण रुकवाना चाहते थे राजा जयसिंह, शाहजहां के फरमानों से हुआ चौंकाने वाला खुलासा
Taj Mahal, Controversy on Taj Mahal, Royal decree of the Mughals, Shahi Farman Mugal, Mugal Farman On Tajmahal, Raja Jay Singh Tajmahal, Mugal King Shahjahan, Taj Mahal News, Rajasthan Patrika Kota, Kota Rajasthan Patrika, Patrika News
IMAGE CREDIT: patrika
 

यह भी पढ़ें

नोटबंदी के बाद सरकार ने बनाई ये घातक प्लानिंग, कभी भी हो सकती है लागू

मुहब्बत की निशानी कहे जाने वाले विश्व के सात अजूबों में से एक ताजमहल को लेकर इन दिनों देश की राजनीति खूब गर्मायी हुई है। राजनीतिक गलियारों से लेकर इतिहासकारों तक के बीच में ताजमहल के निर्माण को लेकर खासा विवाद छिड़ा हुआ है। बावजूद इसके, तमाम दावों और विवादों के बीच कभी किसी ने उन ऐतिहासिक दस्तावेजों को देखने की कोशिश नहीं की जिनसे ताजमहल के निर्माण और उस वक्त के हालात से पर्दा उठ सके। यह तो तमाम लोग जानते है कि शाहजहां ने आगरा में ताजमहल का निर्माण यमुना किनारे बनी आमेर (जयपुर) के राजा जयसिंह की आलीशान ‘मान हवेली’ को तोड़कर किया था। इस हवेली का निर्माण राजा जयसिंह के दादा मान सिंह ने करवाया था। वह अकबर के सेनापति थे, लेकिन यह बात कम ही लोग जानते होंगे कि मुगल बादशाह के इस फैसले से राजा जयसिंह खुश नहीं थे।
Taj Mahal, Controversy on Taj Mahal, Royal decree of the Mughals, Shahi Farman Mugal, Mugal Farman On Tajmahal, Raja Jay Singh Tajmahal, Mugal King Shahjahan, Taj Mahal News, Rajasthan Patrika Kota, Kota Rajasthan Patrika, Patrika News
IMAGE CREDIT: patrika
 

जयसिंह पर नहीं था भरोसा

मुगल बादशाह शाहजहां जयसिंह की तारीफों के कसीदे तो खूब पढ़ता था, लेकिन इसके बाद भी वह जयसिंह पर भरोसा नहीं करता था। मुगल बेगमों पर शोध करने वाले डॉ. शहंशाह बताते हैं कि मान हवेली लेने के बाद मुगल बादशाह शाहजहां ने ताजमहल के निर्माण कार्य से राजा जयसिंह को हमेशा दूर ही रखा। इतना ही नहीं उसे यह भी लगता था कि ताजमहल के निर्माण कार्य में जयसिंह दिलचस्पी नहीं ले रहे और शाही फरमानों का पूरी तरह पालन भी नहीं कर रहे। इसलिए उसने हमेशा अपने खास दरबारियों को काम की निगरानी के लिए तैनात कर रखा था। इस बात का खुलासा 21 जनवरी 1632 को जारी उस फरमान से होता है जिसमें शाहजहां ने जयसिंह से संगमरमर की खुदाई का काम छीनकर सारी जिम्मेदारी अपने खास दरबारी सय्यद इलाहदाद को सौंपने का हुक्म दिया था। डॉ. शहंशाह बताते हैं कि फारसी में लिखे इस फरमान में शाहजहां ने जयसिंह को आदेश जारी किया था कि पहले जितनी गाड़ियां मकराने की खान से संगमरमर लाने के लिए इन परगनों से दी गईं हों उन सबका हिसाब करके ततिम्मा (पूर्व में शेष रहे हिसाब को हाल के हिसाब में शामिल करके कुल हिसाब) करके सय्यद इलाहदाद को सौंप दो।
Taj Mahal, Controversy on Taj Mahal, Royal decree of the Mughals, Shahi Farman Mugal, Mugal Farman On Tajmahal, Raja Jay Singh Tajmahal, Mugal King Shahjahan, Taj Mahal News, Rajasthan Patrika Kota, Kota Rajasthan Patrika, Patrika News
IMAGE CREDIT: patrika
 

खुदवाई थी नई खदान

डॉ. शंहशाह बताते हैं कि संगमरमर के पत्थर की इतनी ज्यादा जरूरत थी कि मकराना (नागौर), आमेर (जयपुर) और राजनगर (राजसमंद) की खदानों से लगातार खुदाई होने के बावजूद नई खान खुदवाने की जरूरत पड़ गई थी। मुगल बादशाह शाहजहां की ओर से 9 सितंबर 1632 को राजा जयसिंह के नाम जारी फरमान से खुलासा होता है कि शाहजहां ने आमेर में नई खान से संगमरम निकालने के लिए अपने खास दरबारी मलूकशाह को आमेर भेजा था। इस फरमान में जयसिंह को आदेश दिया गया था कि इस संबंध में हर प्रकार की सहायता मलूकशाह को उपलब्ध करवाएं और आदेशों की अवहेलना ना होने पाए।
यह भी पढ़ें

इस खबर को पढ़ने के बाद हेलमेट लगाए बिना घर से बाहर नहीं निकल सकेंगे आप


शाहजहां से फैसले से खुश नहीं थे जयसिंह

डॉ. शहंशाह कहते हैं कि तमाम फरमानों से साफ होता है कि मुगल शंहशाह शाहजहां और आमेर के राजा जयसिंह के बीच कभी भी अच्छे संबंध नहीं रहे थे। आलम यह था कि राजा जयसिंह शाहजहां के साथ रहना तो दूर उनके दरबार में हाजिर होना तक पसंद नहीं करते थे। इसलिए वह कई बार बुलाने के बावजूद शाहजहां के दरबार तक में नहीं जाते और जब ज्यादा जरूरी हो जाता तो कभी अपने बेटे रामसिंह तो कभी अपने दरबारियों को भेज देते थे। मान हवेली छिनने के बाद मुगल बादशाह से उसकी तल्खियां और बढ़ गई थीं। शाहजहां को भी इस बात का एहसास हुआ और इन तल्खियों को दूर करने के लिए ताजमहल का निर्माण कार्य शुरू होने के पूरे एक साल बाद 18 दिसंबर 1633 में शाही फरमान जारी कर राजा जयसिंह को मान हवेली के बदले राजा भगवान दास की हवेली, माधो सिंह की हवेली और रूप सिंह की हवेलियां सौंपी थी।
यह भी पढ़ें

कोटा

के शाही दशहरे में 187 साल तक शर्मसार होती रही जयपुर रियासत

 

जयसिंह ने रुकवाना चाहा था ताजमहल का निर्माण

डॉ. शहंशाह बताते हैं कि मुगल बादशाह शाहजहां की ओर से राजा जयसिंह को जारी किए गए फरमानों से सबसे बड़ा चौंकाने वाला खुलासा यह होता है कि राजा जयसिंह ने ताजमहल का निर्माण कार्य रुकवाने की भी कोशिश की थी। 21 जून 1637 को जयसिंह के लिए शाहजहां की ओर से जारी किए गए फरमान से पता चलता है कि जयसिंह के लोगों ने संगमरमर की खुदाई में लगे मजदूरों और संतराशों को खदानों में जाने से रोक दिया था। जिससे पत्थर निकालने का काम लगभग रुक गया था। मुगल बादशाह शाहजहां को जब इस बात की जानकारी हुई तो वह खासा नाराज हुआ था। फारसी में जारी इस फरमान में शाहजहां ने लिखा है कि ‘आपके (राजा जयसिंह) के आदमी उस तरफ की सीमाओं के पत्थर काटने वालों को आमेर और राजनगर में एकत्र कर रहे हैं। इस कारण पत्थर काटने वाले मकराना (नागौर) कम पहुंच रहे हैं। अतः वहां पर कार्य बहुत कम ही होता है। इसलिए हम आदेश देते हैं कि आप अपने व्यक्तियों को निर्देश दें कि वे आमेर और राजनगर में पत्थर काटने वालों को बिल्कुल भी ना रोकें और जितने भी संगतराश वहां पहुंचे उनको मकराना के अधिकारियों के पास भेज दें। आप इस विषय में पूरी ताकीद जानकर किसी भी हाल में आदेशों की अवहेलना ना करें। इसे अपना उत्तरदायित्व समझें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: अयोग्यता नोटिस के खिलाफ शिंदे गुट पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, सोमवार को होगी सुनवाईMaharashtra Political Crisis: एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने पर दिया बड़ा बयान, कहीं यह बातBypoll Result 2022: उपचुनाव में मिली जीत पर सामने आई PM मोदी की प्रतिक्रिया, आजमगढ़ व रामपुर की जीत को बताया ऐतिहासिकRanji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबKarnataka: नाले में वाहन गिरने से 9 मजदूरों की दर्दनाक मौत, सीएम ने की 5 लाख मुआवजे की घोषणाअगरतला उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस नेताओं पर हमला, राहुल गांधी बोले- BJP के गुड़ों को न्याय के कठघरे में खड़ा करना चाहिए'होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा' की मानसिकता से निकलकर 'करना है, करना ही है और समय पर करना है' का संकल्प रखता है भारतः PM मोदीSangrur By Election Result 2022: मजह 3 महीने में ही ढह गया भगवंत मान का किला, किन वजहों से मिली हार?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.