57 Pilot Resignation की खबर के बाद Air India ने दिया स्पष्टीकरण

  • Air India ने कहा, बेहतर विकल्पों की चाहत में 57 Pilots ने वित्तीय मजबूरी का हवाला देते हुए दिया इस्तीफा
  • AIr India ने कहा इन Pilots Service की आवश्यकता नहीं, सभी के इस्तीफे को कर लिया गया है स्वीकार

By: Saurabh Sharma

Updated: 16 Aug 2020, 04:44 PM IST

नई दिल्ली। एअर इंडिया मैनेजमेंट ( Air India Management ) और कर्मचारियों ( Air India Employees ) के बीच मामला उलझता ही जा रहा है। एअर इंडिया ( Air Indial Pilot ) से 57 पायलटों को गलत तरीके से निकाले जाने की खबर आ जाने के बाद एअर इंडिया ने सफाई ( Air India Clarification ) दी है। एअर इंडिया ( Air India ) ने अब स्वीकार किया है कि बेहतर विकल्पों की चाहत में 57 पायलटों ने वित्तीय मजबूरी का हवाला देते हुए एयरलाइन की सेवाओं से इस्तीफा दे दिया था। एयर इंडिया ने पायलटों के इस्तीफे की स्वीकृति के मुद्दे पर स्पष्टीकरण जारी किया। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर पूरा मामला क्या है।

यह भी पढ़ेंः- Gold ETF : जून के मुकाबले जुलाई के महीने में 86 फीसदी बढ़ा निवेश

एअर इंडिया का स्पष्टीकरण
एअर इंडिया की ओर से सपष्टीकरण जारी करते हुए कहा कि इस मामले का तथ्य यह है कि 57 पायलटों ने बेहतर विकल्प की चाह में वित्तीय मजबूरी का हवाला देते हुए एअर इंडिया की सेवाओं से इस्तीफा दे दिया था। एअर इंडिया ने कहा कि इनमें स्थाई और संविदा पर नियुक्त पायलट शामिल हैं। कुछ पायलटों ने बाद में अपने इस्तीफे वापस ले लिए थे।

एअर इंडिया को अब इन पायलटों की सेवाओं की आवश्यकता नहीं है और इनके इस्तीफे स्वीकार कर लिए गए हैं। बयान के अनुसार इनमें से कुछ पायलटों ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की है, जिसमें उन्होंने आग्रह किया है कि एअर इंडिया को उनके इस्तीफों को स्वीकार नहीं करने का निर्देश दिया जाए। यह मामला अदालत में विचाराधीन है।

यह भी पढ़ेंः- US Stimulus Package और Monsoon के हाल पर निर्भर करेगी Share Market की चाल

50 पायलटों को अवैध तरीके से निकाले की खबर
शुक्रवार को एअर इंडिया के चेयरमैन व प्रबंध निदेशक राजीव बंसल को लिखे एक पत्र में भारतीय वाणिज्यिक पायलट संघ ने कहा कि लगभग 50 पायलटों को कंपनी के ऑपरेशन मैनुअल और सेवा नियमों के उल्लंघन में कार्मिक विभाग से अवैध टर्मिनेशन लेटर प्राप्त हुए हैं।

आईसीपीए ने एक ट्वीट में कहा कि क्या हो रहा है? बिना उचित प्रक्रिया अपनाए रातों-रात हमारे लगभग 50 पायलटों की सेवाएं समाप्त कर दी गईं। इस महामारी के समय में राष्ट्र की सेवा करने वालों के लिए यह एक सदमे की बात है। यह भी पता चला है कि दक्षिण में पांच साल पूरे कर चुके कई बेस क्रू के कॉन्ट्रैक्ट का नवीनीकरण नहीं किया जा रहा है। दक्षिणी क्षेत्र में 18 केबिन क्रू की सेवाएं भी समाप्त कर दी गईं हैं।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned