आईएलएंडएफएस मामला: 'रेड' कंपनियों की संख्या बढ़कर 82 हुई, 'ग्रीन' कंपनिया हुईं 55

आईएलएंडएफएस मामला: 'रेड' कंपनियों की संख्या बढ़कर 82 हुई, 'ग्रीन' कंपनिया हुईं 55

Saurabh Sharma | Publish: May, 22 2019 05:54:42 AM (IST) | Updated: May, 22 2019 07:34:36 AM (IST) कॉर्पोरेट

  • रेड कंपनियों की श्रेणी में हुआ 2 कंपनियों का इजाफा
  • ग्रीन कंपनियों की श्रेणी में 5 कंपनियों की बढ़ोतरी

नई दिल्ली। आईएलएंडएफएस समूह की उन कंपनियों की सूची में दो और कंपनियां शामिल हो गई हैं, जो अपनी देनदारियां चुकता नहीं करने में अक्षम हैं। इसके साथ ही इस तरह की कंपनियों की संख्या 82 हो गई है।

यह भी पढ़ेंः- HDFC बना देश का सबसे बड़ा समूह, Reliance Industries और Tata समूह को छोड़ा पीछे

ग्रीन-रेड कंपनियों की संख्या में इतना इजाफा
कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय कंपनी कानून अपीली न्यायाधिकरण ( एनसीएलएटी ) में दाखिल एक हलफनामे के अनुसार, कुल 'रेड' कंपनियों की संख्या अब 82 है, जो प्रारंभ में 80 थी। हलफनामे के अनुसार, 'ग्रीन' कंपनियों की संख्या भी पांच की वृद्धि के साथ 55 हो गई है।

यह भी पढ़ेंः- सरकार की 656 करोड़ रुपए की पूंजी के बदले शेयर जारी करेगा एएआई, वित्त मंत्रालय ने दिया आदेश

कंपनियों को तीन श्रेणियों में बांटा गया था
जो कंपनियां अपनी सभी देनदारियों का भुगतान करने में सक्षम हैं, वे 'ग्रीन' कंपनियां हैं। जो कंपनियां सिर्फ संचालन भुगतान और सीनियर सेक्योर्ड ऋण देनदारियां चुकता करने में सक्षम हैं, वे 'अंबर' कंपनियां हैं, और जो सीनियर सेक्योर्ड फायनेंशियल क्रेडिटर्स की भी देनदारियां चुकता करने में अक्षम हैं, वे 'रेड' कंपनियां हैं।

यह भी पढ़ेंः- जेट एयरवेज को फिर से उड़ान भरने में ब्रिटेन के ये दो अरबपति करेंगे मदद, भारत से है गहरा नाता

ये कंपनियां शामिल हुईं रेड और ग्रीन
रेड श्रेणी में शामिल हुईं नई कंपनियां झारखंड इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड और उड़ीसा प्रोजेक्ट डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड हैं। ग्रीन श्रेणी में शामिल हुईं नई कंपनियों में गुजरात इंटरनेशनल फायनेंस टेक-सिटी कंपनी लिमिटेड, मंगलोर सेज लिमिटेड, न्यु तिरुपुर एरिया डेवलपमेंट कॉरपोरेशन, ओएनजीसी त्रिपुरा पॉवर कंपनी और कैनोपी हाउसिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्च र शामिल हैं। सूची में इन कंपनियों को शामिल किए जाने के बाद अब 11 कंपनियां बची हैं, जिन्हें किसी श्रेणी में शामिल नहीं किया गया है।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned