Facebook कंटेंट के हर 10,000 में से 10 से 11 नफरत फैलाने वाले पोस्ट, कंपनी ने लिया एक्शन

  • Facebook ने पहली बार किया हेट स्पीच का खुलासा।
  • 95 फीसदी हेट स्पीच को किया गया डिलीट।
  • हेट स्पीच किसे कहेंगे और किसे नहीं, इस पर अलग-अलग राय है।

By: Mahendra Yadav

Published: 21 Nov 2020, 11:19 AM IST

आजकल ज्यादातर लोग सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं। लोग अपनी बात रखने के लिए या किसी बात का विरोध करने के लिए भी ट्विटर (Twitter), इंस्टाग्राम (Instagram) और फेसबुक (Facebook) जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स का सहारा लेते हैं। हालांकि पिछले कुछ समय में इन प्लेटफॉर्म्स पर नेगेटिविटी भी बढ़ गई है। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद लोगों ने कई सेलेब्स को सोशल मीडिया पर निशाना बनाया। इसी वजह से बहुत से सेलेब्स ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से दूरी बना ली थी। अब फेसबुक ने पहली बार हेट स्पीच का खुलाया किया है।

किया हेट स्पीच का खुलासा
फेसबुक पोस्ट में भी किए जाने कमेंट्स में कई हेट स्पीच वाले कमेंट होते हैं। फेसबुक ने खुलासा करते हुए बताया कि साल 2020 में जुलाई से सितंबर तक की अवधि में फेसबुक में हेट स्पीच या नफरत फैलाने वाली बातों इत्यादि का प्रसार 0.10 से 0.11 प्रतिशत के बीच में रहा। मतलब फेसबुक पर पोस्ट किसी कंटेंट के हर 10,000 व्यूज में से 10 से 11 हेट स्पीच में शामिल रहे। कंपनी ने खुद इस बात की जानकारी दी है।

95 फीसदी हेट स्पीच को किया गया रिमूव
फेसबुक को अक्सर नफरत या हिंसा फैलाने वाले पोस्ट, स्पीच या कमेंट्स के चलते आलोचनाओं का सामना करना पड़ता है। इसी वजह से पहली बार अपने प्लेटफॉर्म पर हेट स्पीच के प्रसार का खुलासा करते हुए फेसबुक ने कहा कि कंपनी ने सक्रियता से इस दिशा में काम करते हुए लगभग 95 फीसदी हेट स्पीच को रिमूव कर दिया है।

यह भी पढ़ें—Facebook और Instagram से हटाए गए हजारों अकाउंट्स, जानिए क्यों किया गया ऐसा

facebook_2.png

कैलकुलेट कर करते हैं लेबलिंग
फेसबुक ने अपने एक बयान में कहाकि फेसबुक पर हेट स्पीच की संख्या को कैलकुलेट करते हैं और फिर हम इस आधार पर इनकी लेबलिंग करते हैं कि इसने हमारी हेट स्पीच पॉलिसी का कितना उल्लंघन किया है। चूंकि हेट स्पीच भाषा और संस्कृति पर आधारित होती है, तो हम समीक्षकों को भिन्न भाषाओं व क्षेत्रों से संबंधित इनमें से कुछ चुने हुए सैंपल भेजते हैं।

यह भी पढ़ें—जानिए facebook पर किस तरह के कंटेंट में है यूजर्स की ज्यादा दिलचस्पी

हेट स्पीच को परिभाषित करना आसान नहीं
हालांकि फेसबुक का मानना है कि हेट स्पीच को परिभाषित करना आसान नहीं है क्योंकि हेट स्पीच किसे कहेंगे और किसे नहीं, इस पर अलग-अलग राय है। कंपनी ने आगे कहा कि इतिहास, भाषा, धर्म, बदलते सांस्कृतिक मानंदड सभी वे महत्वपूर्ण कारक हैं, जिन पर हम अपनी नीतियों को परिभाषित करते हैं।

Show More
Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned