scriptAmarmani Tripathi and Madhumita Shukla love and murder story | शादीशुदा होते हुए भी इस चर्चित कवयित्री को दिल दे बैठे थे नेता अमरमणि त्रिपाठी, गर्भवती होने पर कर दिया था उनका ये हाल | Patrika News

शादीशुदा होते हुए भी इस चर्चित कवयित्री को दिल दे बैठे थे नेता अमरमणि त्रिपाठी, गर्भवती होने पर कर दिया था उनका ये हाल

पूर्वांचल के डॉन कहे जाने वाले हरिशंकर त्रिपाठी (Harishankar Tripathi) के राजनीतिक वारिस रहे अमरमणि का जलवा कुछ ऐसा था कि सरकार किसी भी रही हो, वे हर कैबिनेट का हिस्सा रहे हैं। लेकिन चार बार का विधायक, अलग-अलग सरकार में मंत्री रहा नेता आज राजनीतिक पार्टियों के लिए 'अछूत' बन गया है?

लखनऊ

Updated: March 05, 2022 01:39:35 pm

Madhumita Hatyakand: उत्तर प्रदेश की राजनीति में बाहुबली नेताओं का दबदबा हमेशा से रहा है। अपने रसूख के दम पर बाहुबली चुनावी बयार का रुख अपनी ओर मोड़ने में माहिर होते हैं। चाहे जेल की हवा भी खानी पड़े, तब भी इनका दमखम बरकरार रहता है। लेकिन एक बार लगा बड़ा आरोप पूरी जिंदगी के लिए करियर पर ब्रेक लगा सकता है। पूर्वांचल के ऐसे ही एक नेता हुए करते थे, अमरमणि त्रिपाठी (Amarmani Tripathi), जो कि चर्चित मधुमिता हत्याकांड (Madhumita Hatyakand) में पत्नी के साथ जेल में सजा काट रहे हैं। पूर्वांचल के डॉन कहे जाने वाले हरिशंकर त्रिपाठी (Harishankar Tripathi) के राजनीतिक वारिस रहे अमरमणि का जलवा कुछ ऐसा था कि सरकार किसी भी रही हो, वे हर कैबिनेट का हिस्सा रहे हैं। लेकिन चार बार का विधायक, अलग-अलग सरकार में मंत्री रहा नेता आज राजनीतिक पार्टियों के लिए 'अछूत' बन गया है? अमरमणि त्रिपाठी आज गोरखपुर जेल में सलाखों के पीछे अपने गुनाहों की सजा काट रहे हैं। आज हम आपको बताते हैं कि इतने रसूख वाले दबंग नेता आखिर जेल कैसे चला गया।
Amarmani Tripathi and Madhumita Shukla love and murder story
Amarmani Tripathi and Madhumita Shukla love and murder story
क्या है मधुमिता हत्याकांड

19 साल पहले 9 मार्च, 2003 को एक ऐसी बड़ी घटना हुई थी जिसने इस बाहुबली का पूरा करियर चौपट कर दिया। लखनऊ की पेपर मिल कॉलोनी में 24 वर्षीय कवियत्री मधुमिता ने उस दिन जब दरवाजा खोला तो सामने संतोष राय और प्रकाश पांडे खड़े थे। मधुमिता ने अंदर बुलाकर नौकर देशराज को चाय बनाने के लिए कहा। अभी चाय बन ही रही थी कि अचानक गोली चलने की आवाज आई। देशराज भागते हुए कमरे में पहुंचा तो मधुमिता खून से लथपथ पड़ी मिलीं। हादसे के वक्त मधुमिता सात माह की गर्भवती थीं। इस हादसे के बाद छह महीने के भीतर देहरादून फास्ट्रैक ने अमरमणि उनकी पत्नी मधुमिता समेत चार दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई।
यह भी पढ़ें

UP Assembly Election 2022: भाजपा प्रत्याशी दयाशंकर ने मुख्तार अंसारी से बताया जान को खतरा

मधुमिता पर दिल हार बैठे थे शादीशुदा अमरमणि

मधुमिता उन दिनों वीर रस की ओजपूर्ण कवियत्री हुआ करती थीं। लखीमपुर खीरी जिले की रहने वालीं मधुमिता 16-17 साल में चर्चित हो गई थीं। अपने तेज तर्रार अंदाज के लिए मशहूर मधुमिता देश के प्रधानमंत्री समेत कई बड़े नेताओं को अपने निशाने पर रखती थीं। इसी प्रसिद्धी के चलते उनकी मुलाकात अमरमणि त्रिपाठी से हुई। दोनों में नजदीकियां बढ़ीं और शादीशुदा अमरमणि, मधुमिता पर दिल हार बैठे। मधुमिता का नाम उस दौर के और भी कई सियासतदानों के साथ जुड़ने लगा। सब कुछ सही चल रहा था कि एक दिन अचानक ही उनकी हत्या की खबरें फैल गईं जो पूर्वांचल के बाहुबली अमरमणि त्रिपाठी के पतन का कारण बन गया।
यह भी पढ़ें

UP Assembly Election 2022: यूपी की सबसे हॉट सीट गोरखपुर में आज मतदान, इन प्रत्याशियों का सीएम योगी के साथ मुकाबला

मधुमिता की मौत के बाद उनके कमरे से एक पत्र मिला जो उन्होंने 2002 में लिखा था। उसमें उन्होंने लिखा था, 4 महीने से मैं मां बनने का सपना देखती रही हूं, तुम इस बच्चे को स्वीकार करने से मना कर सकते हो पर मैं नहीं, क्या में महीनों इसे अपनी कोख में रखकर हत्या कर दूं? तुमने सिर्फ मुझे उपभोग की वस्तु समझा है।' हत्या के बाद मधुमिता की कोख में मर चुके बच्चे का डीएनए टेस्ट किया गया। उसका मिलान अमरमणि त्रिपाठी के डीएनए से हुआ तो दोनों एक मिले। इस हत्याकांड के बाद तो जैसे अमरमणि का राजनीतिक करियर खत्म ही हो गया। मायावती ने मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया तो सपा में चले गए। 2007 में जेल के अंदर से ही चुनाव लड़ा और लक्ष्मीपुर सीट से जीत गए। लेकिन सात महीने बाद ही मधुमिता हत्याकांड में उम्रकैद की सजा मिली और राजनीतिक करियर पूरी तरह से खत्म हो गया।
चुनाव मैदान में बेटे को उतारा

पिता को जेल के बाद 2012 के चुनाव में सपा ने बेटे अमनमणि को प्रत्याशी बनाया। लेकिन कौशल किशोर ने उन्हें 7,837 वोटों से हरा दिया। 2017 के चुनाव में सपा ने अमनमणि को टिकट नहीं दिया तो वह निर्दलीय उतर गए और कौशल किशोर को 32,256 वोटों से हराकर पहली बार विधायक बन गए। इस बार अमन बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। लेकिन पिता की ही तरह बेटे पर फभी हत्या का आरोप है। आरोप है कि 2015 में अमनमणि स्विफ्ट डिजायर कार से नौतनवा से दिल्ली जा रहे थे, फिरोजाबाद में कार दुर्घटनाग्रस्त हो गई और इनकी पत्नी की मौत हो गई लेकिन अमनमणि को एक खरोंच तक नहीं आई। सीबीआई जांच में अमनमणि त्रिपाठी के खिलाफ चार्जशीट दायर हो चुकी है।
वर्तमान में क्या हाल

वर्तमान समय में अमनमणि जमानत पर बाहर हैं। उन्हें बसपा ने महाराजगंज की नौतनवा से प्रत्याशी बनाया है। फिलहाल 3 मार्च को वोट पड़ चुके हैं। 10 मार्च को नतीजों की घोषणा होगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.