scriptAtal Bihari Vajpayee was called pinnacle of Indian politics | Atal Bihari Vajpayee Birth Anniversary: भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष कहे जाते थे अटल बिहारी वाजपेयी, लखनऊ से रहा गहरा नाता | Patrika News

Atal Bihari Vajpayee Birth Anniversary: भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष कहे जाते थे अटल बिहारी वाजपेयी, लखनऊ से रहा गहरा नाता

जननायक अटल बिहारी वाजपेयी जमीन से जुड़े एक ऐसे राजनेता थे, जो शीर्ष पर पहुंचने के बाद भी आम आदमी के लिए अटल ही बने रहे। वह राजनीति के शिखर पर पहुंचने के बाद भी सादगी से ही अपना जीवन व्यतीत करने में विश्वास रखते थे।

लखनऊ

Updated: December 24, 2021 08:01:20 pm

लखनऊ. जननायक अटल बिहारी वाजपेयी जमीन से जुड़े एक ऐसे राजनेता थे, जो शीर्ष पर पहुंचने के बाद भी आम आदमी के लिए अटल ही बने रहे। वह राजनीति के शिखर पर पहुंचने के बाद भी सादगी से ही अपना जीवन व्यतीत करने में विश्वास रखते थे। शायद यही वजह रही है राजनीति में तरह-तरह के झंझावतों से जूझने के बाद भी सर्वदा बने रहे। आज अटल बिहारी वाजपेयी की बर्थ एनिवर्सरी है।
Atal Bihari Vajpayee was called pinnacle of Indian politics
Atal Bihari Vajpayee was called pinnacle of Indian politics
अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म मध्य प्रदेश के ग्वालियर में हुआ था। लेकिन उनका कर्मक्षेत्र उत्तर प्रदेश रहा है। यूपी की भूमि से उन्हें विशेष लगाव था। कानपुर में अटल बिहारी वाजपेयी ने उच्च शिक्षा से लेकर राजनीति तक का ककहरा सीखा। वहीं लखनऊ को कर्मभूमि बनाते हुए संसद का रास्ता यहीं से तय करते गए। अटल बिहारी वाजपेयी ने पढ़ाई के दौरान ही छात्र राजनीति में खास रूचि लेना शुरू कर दिया। तब इस बात का अंदाजा किसी को भी नहीं था कि साधारण सा दिखने वाला छात्र एक दिन देश का प्रधानमंत्री बनेगा।
लखनऊ को आज भी अटल बिहारी वाजपेयी की कर्मस्थली के रूप में जाना जाता है। वह लखनऊ से पांच बार सांसद चुने गए। इससे पहले भाजपा ने कभी लखनऊ से चुनाव नहीं जीता था। इससे पहले इसे कांग्रेस का गढ़ माना जाता था। अटल बिहारी वाजपेयी देश के उन चुनिंदा राजनेताओं में से थे, जिन्हें दूरदर्शी माना जाता था। आज वाजपेयी जी भले ही दुनिया में नहीं हैं लेकिन उनकी वाणी, उनका जीवन दर्शन सभी भारतवासियों को हमेशा प्रेरणा देता रहेगा। उनका ओजस्वी, तेजस्वी और यशस्वी व्यक्तित्व सदा देश के लोगों का मार्गदर्शन करता रहेगा। ऐसे में आइए जानते हैं वाजपेयी के बारे में ऐसी अनकही बातें, जिन्होंने उन्हें आम से खास बना दिया।
कवि प्रेमी

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अंदर बचपन से ही एक कवि था। सभी जानते हैं कि वह एक अच्छे राजनेता होने के साथ-साथ एक अच्छे कवि भी थे। उन्हें कविताओं का जादूगर कहा जाता था। 'हार नहीं मानूंगा, रार नहीं ठानूंगा, काल के कपाल पर लिखता मिटाता हूं, गीत नया गाता हूं'... उनकी लोकप्रिय कविताओं में से एक है। संसद से लेकर जनसभाओं तक में वह अक्सर कविता पाठ के मूड में आ जाते थे।
यह भी पढ़ें

पीएम मोदी ने कहा, गाय कुछ के लिए गुनाह हमारे लिए माता

हिंदी प्रेमी

अटल बिहारी वाजपेयी ने हिंदी को विश्व स्तर पर पहचान दिलाने के लिए कई प्रयास किए थे। उनकी खुद की हिंदी भाषा शैली में मजबूत पकड़ थी। 1977 में वे जनता सरकार में विदेश मंत्री थे। संयुक्त राष्ट्र संघ में
उनके द्वारा दिया गया हिंदी में भाषण उस समय काफी लोकप्रिय हुआ था। उनके द्वारा हिंदी के चुने हुए शब्दों का ही असर था कि यूएन के प्रतिनिधियों ने खड़े होकर वाजपेयी के लिए तालियां बजाईं थीं। उन्होंने कई बार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हिंदी में दुनिया को संबोधित किया था।
बाजरे का पुआ और कड़ी के शौकीन थे वाजपेयी

अटल बिहारी वाजपेयी पर डॉ. प्रीतम सिंह द्वारा लिखी गई पुस्तक ‘अटल बिहारी बाजपेयी सृजन और मूल्यांकन’ का विमोचन दिसंबर 2014 में हरियाणा के कुरुक्षेत्र जिले में विद्या भारती के संस्कृति भवन में हुआ था। डॉ. प्रीतम वे पहले शख्स हैं जिन्होंने वाजपेयी पर शोध किया है। कुल 275 पन्नों की इस पुस्तक के कई पृष्ठों पर डॉ. प्रीतम सिंह के शोध कार्य की झलक प्रस्तुत किए गए घटनाक्रमों के रूप में दिखाई देती है। डॉ. प्रीतम सिंह के किताब में उल्लेख है कि अटल को बाजरे का पुआ और गुझिया बहुत पसंद हैं। ग्वालियर का चूड़ा तो उन्हें इतना अच्छा लगता था कि जब भी वे ग्वालियर जाते तो ढेर सा चूड़ा खरीद लाते।
यह भी पढ़ें

चुनाव तक जेल में रहेंगे मंत्री टेनी के बेटे, धाराएं बदलने के बाद टल सकती है सुनवाई

अटल-आडवाणी की सुपरहिट जोड़ी

कभी राजनीति में अटल-आडवाणी की तूती बोलती थी। कांग्रेस के खिलाफ राजनीति का सबसे बड़ा केंद्र बनकर उभरी इस जोड़ी ने देश में पहली बार गैर कांग्रेस सरकार बनाई थी। लेकिन भारतीय राजनीति में अटल की भूमिका हमेशा याद रखी जाएगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.