script महुआ मोइत्रा की  सांसदी तत्काल बहाल की उठी मांग :  भाकपा | Immediate Reinstatement of Mahua Moitra's Parliamentary Membership: Bhakpa Demand | Patrika News

महुआ मोइत्रा की  सांसदी तत्काल बहाल की उठी मांग :  भाकपा

locationलखनऊPublished: Dec 09, 2023 09:16:33 am

Submitted by:

Ritesh Singh

लखनऊ के भाकपा (माले) राज्य सचिव सुधाकर यादव ने महुआ मोइत्रा को लेकर जारी किया बयान।

विपक्ष को चुप कराने की कोशिश
विपक्ष को चुप कराने की कोशिश
भाकपा (माले) ने लोकसभा से टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा के निष्कासन को विपक्ष को चुप कराने की मोदी सरकार की कोशिश बताया है। पार्टी ने इसकी कड़ी निंदा की है और उनकी सांसदी तत्काल बहाल करने की मांग की है। राज्य सचिव सुधाकर यादव ने जारी बयान में कहा कि निष्कासन स्पष्ट रूप से इस तथ्य की ओर इशारा करता है कि मोदी सरकार अडानी की विशाल कॉरपोरेट धोखाधड़ी या मोदी-अडानी साठगांठ के बारे में कोई भी सवाल न करने देने के लिए किसी भी हद तक जा सकती है।
महुआ मोइत्रा अपने शक्तिशाली भाषण से बनी पहचान
उन्होंने कहा कि महुआ मोइत्रा संसद में मोदी-अदानी सांठगांठ को उजागर करने वाले अपने शक्तिशाली भाषणों के लिए जानी जाती हैं। उनके खिलाफ कार्रवाई झारखंड के गोड्डा से भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने अपमानजनक और स्त्री द्वेषपूर्ण शब्दों का इस्तेमाल करने के आदी हैं, की एक मामूली शिकायत पर आधारित है। उनकी शिकायत को लोकसभा अध्यक्ष ने तुरंत लोस आचार समिति को भेज दिया, जिसने बिना सोचे-समझे उसे स्वीकार कर लिया।
महुआ मोइत्रा को नहीं दिया मौका : माले नेता

महुआ मोइत्रा को समिति द्वारा निष्पक्ष सुनवाई का मौका नहीं दिया गया। उनके खिलाफ जिस तेजी से और बिना विचार-विमर्श के कार्रवाई हुई है, उससे लगता है कि भाजपा ने पहले ही मोदी और उनके कॉर्पोरेट साथियों को बचाने के लिए आचार समिति की सिफारिश निर्धारित कर दी थी।
इन सभी नेताओं पर हुई कार्यवाही
माले नेता ने कहा कि महुआ का निष्कासन संसद के विपक्षी सदस्यों के खिलाफ भाजपा के प्रतिशोध की लंबी सूची में जुड़ गया है - राहुल गांधी की लोकसभा से बर्खास्तगी, संजय सिंह की गिरफ्तारी और संसद के अंदर दानिश अली को सांप्रदायिक निशाना बनाना। भाजपा ने महुआ मोइत्रा का निष्कासन करने में कोई समय बर्बाद नहीं किया। जबकि भाजपा सांसद रमेश बिधूड़ी, जिन्होंने संसद के अंदर बसपा सांसद दानिश अली को नफरत भरी और सांप्रदायिक धमकियां दीं, बिना किसी नतीजे के मुक्त हो गए।

ट्रेंडिंग वीडियो