कल्याण सिंह को आया फोन कि आपकी सरकार गिर गई, एक दिन बाद फिर बन गए मुख्यमंत्री

राज्यपाल के फैसले के खिलाफ अटल बिहारी ने मोर्चा खोल दिया था। भाजपा के यूपी की सत्ता से बेदखल होने के बाद दिग्गज नेता अटल बिहारी अनशन पर बैठे गए थे।

By: Nitish Pandey

Published: 21 Aug 2021, 11:22 PM IST

लखनऊ. देश में बीजेपी के मजबूत होने की बात हो तो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी (Former PM Atal Bihari) और लाल कृष्ण आडवाणी (Lal Krishna Advani) का नाम भुलाया नही जा सकता है। वहीं इस लिस्ट में एक नाम और है जिसने बीजेपी को उत्तर प्रदेश में मजबूत किया और वो नाम है कल्याण सिंह (Kalyan Singh)। उत्तर प्रदेश की राजनीति में पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (Ex. CM Kalyan Singh) एक ऐसी तारीख हैं जिसे कभी मिटाया नहीं जा सकता है। पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (Ex. CM Kalyan Singh) ने बीजेपी (BJP) को महज एक साल में उस मुकाम पर लाकर खड़ा कर दिया कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने 1991 में अपने दम पर सरकार बना ली। कल्याण सिंह (Kalyan Singh) सूबे में भाजापी के पहले सीएम बने।

यह भी पढ़ें : राम मंदिर आंदोलन का बड़ा किरदार थे कल्याण सिंह, अटल बिहारी से नाराज होकर बना ली थी नई पार्टी

फोन आया और गिर गई सरकार

उत्तर प्रदेश के तत्कालीन सीएम कल्याण सिंह (Ex. CM Kalyan Singh) बीजेपी प्रत्याशी के पक्ष में अमरोहा जिले में के रहरा में जनसभा को संबोधित कर रहे थे। उसी समय कल्याण सिंह (Ex. CM Kalyan Singh) का फोन बजा, फोन उठाते ही पता चला कि उनकी सरकार गिर गई है और तत्कालीन कांग्रेस के नेता जगदंबिका पाल मुख्यमंत्री (Ex. CM Jagdambika Pal ) बन गए हैं। कल्याण सिंह (Kalyan Singh) को राज्यपाल ने 21 फरवरी 1998 में बर्खास्त कर दिया था। उस समय राज्यपाल थे रोमेश भंडारी, जिनके फैसले ने सबको चौंकाया दिया था। राज्यपाल ने रात साढ़े दस बजे जगदंबिका पाल (Jagdambika Pal) को सीएम पद की शपथ दिलाई थी। जगदंबिका पाल कल्याण सिहं की कैबिनेट में ही मंत्री थे।

अटल बिहारी ने खोला था मोर्चा

राज्यपाल के फैसले के खिलाफ अटल बिहारी (Former PM Atal Bihari) ने मोर्चा खोल दिया था। भाजपा के यूपी की सत्ता से बेदखल होने के बाद दिग्गज नेता अटल बिहारी (Former PM Atal Bihari) अनशन पर बैठे गए थे। मामला हाई कोर्ट (High Court) तक पहुंच गया। हाईकोर्ट ने राज्यपाल के इस फैसले पर रोक लगा दी थी। इसके बाद तो अगले ही दिन बाजी पलट गई।

एक दिन के सीएम बनकर रह गए जगदंबिका पाल

विधानसभा में जगदंबिका पाल (Ex. CM Jagdambika Pal) बहुमत साबित न कर सके और उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ी। इस तरह वो प्रदेश के सिर्फ एक दिन के मुख्यमंत्री (CM) बनकर रह गए। उस समय कल्याण सिंह (Kalyan Singh) तो रातों-रात सत्ता से बेदखल हो गए थे वो अटली जी के बदौलत फिर से सत्ता में वापस आ गए।

यह भी पढ़ें : BSP सांसद अतुल राय मामले में सुप्रीम कोर्ट के बाहर खुदकुशी करने वाले युवक की मौत, युवती का इलाज जारी

Nitish Pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned