scriptKanpur Violence Accused Hayat Zafar and 8 others Jail Changed | कानपुर हिंसा : जेल में खतरा! आखिर क्यों हयात समेत आठ उपद्रवियों की बदल दी जेल | Patrika News

कानपुर हिंसा : जेल में खतरा! आखिर क्यों हयात समेत आठ उपद्रवियों की बदल दी जेल

Kanpur Violence: कानपुर हिंसा के लेकर पुलिस कड़ा रुख अपना रही है। पूछताछ के साथ आरोपियों के संपर्क भी तलाश रही। अब जेल में...

लखनऊ

Updated: June 20, 2022 09:45:52 am

कानपुर की नई सड़क हिंसा के मुख्य आरोपित समेत आठ उपद्रवियों को सुरक्षा कारणों से दूसरे जिले की जेलों में शिफ्ट किया गया है। इसमें एक पीएफआई सदस्य भी शामिल है। कोर्ट में पेशी पर सभी आरोपित अलग-अलग जेलों से आएंगे। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, सभी आरोपितों को दूसरी जेल भेजने का आदेश शासन से 16 जून को आया था। इसके बाद गार्द लगाकर सभी को यहां से ट्रांसफर किया गया है।
Kanpur Violence Accused Hayat Zafar and 8 others Jail Changed
Kanpur Violence Accused Hayat Zafar and 8 others Jail Changed
नई सड़क हिंसा में पुलिस ने हयात जफर हाशमी को मुख्य आरोपित बनाया है, वहीं जावेद अहमद खां, मोहम्मद सुफियान और मोहम्मद राहिल सह अभियुक्त की भूमिका में हैं। सुरक्षा कारणों से हयात जफर हाशमी को चित्रकूट, मोहम्मद राहिल को पीलीभीत, मोहम्मद सुफियान को सोनभद्र, जावेद अहमद खां को बस्ती जेल ट्रांसफर किया गया है।
यह भी पढ़ें

3.5 घंटे गोलियों की तड़तड़ाहट से एक बार फिर थर्राया कानपुर, कहा विकास दुबे से बड़ा वाला हूं...

पीएफआई एजेंट की भी बदली जेल

पुलिस ने मामले में पीएफआई एजेंट मोहम्मद उमर को भी गिरफ्तार किया था। उसे खीरी जेल ट्रांसफर किया गया है। इसके अलावा मोहम्मद फैसल को सुल्तानपुर और पूर्व सपा नेता निजाम कुरैशी देवरिया औऱ सऊद कालिया को कासगंज जेल ट्रांसफर किया गया है।
क्या बोले जिम्मेदार

जेल अधीक्षक आरके जायसवाल के अनुसार आठ बंदियों को सुरक्षा के लिहाज से यहां से दूसरे जिलों की जेलों में ट्रांसफर किया गया है। इसमें से छह बंदी शनिवार और दो बंदी रविवार को भेजे जा चुके हैं। शासनादेश के बाद बंदियों की ट्रांसफर प्रक्रिया की गई है।
घटना के गवाह तैयार

कानपुर में के नई सड़क हिंसा में पुलिस टीम और एसआईटी नए नए खुलासे कर रही हैं। घचना के 15 दिन पूरे हो चुके हैं। विवेचना के लिए गठित की गई एसआईटी ने 15 दिनों ने 145 पर्चे काट दिए हैं। प्रतिदिन नौ की औसत से पर्चे काटे गए हैं। जिसमें 62 लोगों की गवाही हो चुकी है। एसआईटी का दावा है कि 90 दिनों में वह इस प्रकरण में चार्जशीट फाइल कर देगी। सूत्रों के मुताबिक एसआईटी के अबतक के काटे गए पर्चों में 42 ऐसे गवाहों को शामिल किया गया है जिनके सामने पथराव और बमबाजी हुई थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शरद पवार ने किया बड़ा दावा- फडणवीस डिप्टी सीएम बनकर नहीं थे खुश, लेकिन RSS से होने के नाते आदेश मानाUdaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल'इज ऑफ डूइंग बिजनेस' के मामले में 7 राज्यों ने किया बढ़िया प्रदर्शन, जानें किस राज्य ने हासिल किया पहला रैंक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.