उपचुनाव में करारी हार के बाद मायावती का बड़ा कदम, बदल डाला प्रदेश अध्यक्ष, इन्हें दी जिम्मेदारी

2022 (2022 election) की तैयारी में जुटीं मायावती (Mayawati) ने बड़ा कदम उठाते हुए बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) का प्रदेश अध्यक्ष बदल दिया है।

By: Abhishek Gupta

Published: 15 Nov 2020, 05:31 PM IST

लखनऊ. यूपी उपचुनाव (UP bypolls) में करारी हार के बाद 2022 (2022 election) की तैयारी में जुटीं मायावती (Mayawati) ने बड़ा कदम उठाते हुए बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) का प्रदेश अध्यक्ष बदल दिया है। बसपा सुप्रीमो ने मुनकाद अली (Munkad Ali) को हटाकर भीम राजभर (Bhim Rajbhar) को बसपा प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंरी। मायावती ने खुद इसका ऐलान अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर दिया। उन्होंने कहा कि यूपी में अति-पिछड़े वर्ग (ओबीसी) में राजभर समाज के पार्टी व मूवमेन्ट से जुड़े पुराने, कर्मठ एवं अनुशासित सिपाही मऊ के निवासी भीम राजभर को बीएसपी का नया प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। इनको हार्दिक बधाई व शुभकामनायें।'

ये भी पढ़ें- उपचुनाव में हार के बाद इस नेता ने छोड़ा बसपा का साथ, पार्टी पर लगाया मानसिक प्रताड़ना का आरोप लगाया

कौन है भीम राजभर-

भीम राजभर यूपी प्रदेश अध्यक्ष तो मुनकाद अली को उत्तराखंड का स्टेट कोऑर्डिनेटर बनाया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो भीम राजभर के पिता छत्तीसगढ़ में सरकारी नौकरी करते हैं। भीम से पहले कोई को परिवार का सदस्य राजनीति में नहीं रहा है। भीम लंबे समय से बसपा के संगठन में अलग-अलग पदों पर जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। वह 2012 में बसपा के विधानसभा चुनाव भी लड़े थे। हाल ही के बिहार विधानसभा चुनाव में उन्हें बसपा से चुनाव प्रभारी बनाया गया था।

ये भी पढ़ें- Samajwadi Party ने दी डिप्टी सीएम को दिवाली की शुभकामनाएं, जानिए फिर क्या कहा

राजभर वोट बैंक पर साधेंगी निशाना-

2014, 2019 के आम चुनाव व 2017 विधानसभा चुनाव व 2020 उपचुनाव के नतीजों से मायावती काफी भयभीत। यूपी में अपना जनाधार बचाए रखने की अनेकों चुनौती उनके सामने हैं। राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो भाजपा वे बसपा के वोट बैंक में सेंधमारी की है। हालांकि अनुसूचित जाति में हरिजन अभी भी बसपा सुप्रीमो के पक्ष में है, लेकिन अन्य जातियों का बड़ा वोट बैंक बसपा से खिसकर भाजपा को चला गया। जिसका असर बीते चुनावों में देखने को मिला है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में राजभर वोट बैंक निर्णायक भूमिका में होता है। माना जा रहा है कि इसी कारण बसपा सुप्रीमो ने प्रदेश अध्यक्ष के पद पर भीम राजभर को तैनात किया है ताकि राजभर वोट बैंक पार्टी के पक्ष रहे।

Show More
Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned