scriptReduced treatment rates in medical insurance know what will be the benefit | मेडिकल बीमा में इलाज की दरें घटाईं, मरीजों की भर्ती पर आफत, जानिए क्या होगा फायदा-नुकसान | Patrika News

मेडिकल बीमा में इलाज की दरें घटाईं, मरीजों की भर्ती पर आफत, जानिए क्या होगा फायदा-नुकसान

Medical Insurance: मेडिकल बीमा कंपनियों ने इलाज के रेट घटा दिए हैं। लेकिन इससे नर्सिंगहोम संचालकों की समस्या बढ़ गई है।

लखनऊ

Updated: July 18, 2022 09:59:33 am

मेडिकल बीमा में कम्पनियों ने इलाज के रेट घटा दिए हैं। इस पर नर्सिंग होम संचालकों ने नाराजगी जताई है। यही नहीं, प्राइवेट अस्पतालों ने मरीजों को भर्ती करने से ही इनकार कर दिया है। नर्सिंग होम संचालकों का बीमा कम्पनियों के साथ टीपीए (थर्ड पार्टी एडमिनिस्ट्रेटर) से विवाद पैदा हो गया है। यही नहीं, नर्सिंग होम एसोसिएशन ने आपात बैठक कर फैसला किया कि अगर रेट नहीं बढ़ाए गए तो टीपीए से करार खत्म कर ऐसे मरीजों की भर्ती बंद कर दी जाएगी।
Reduced treatment rates in medical insurance know what will be the benefit
Reduced treatment rates in medical insurance know what will be the benefit
मेडिकल बीमा के बाद टीपीए हर नर्सिंग होम से अलग-अलग करार कर मरीजों को इलाज की सुविधा देते हैं लेकिन एक जुलाई से टीपीए ने डॉक्टर की एक विजिट 600 रुपये देने का रेट तय किया है। इससे पहले यह एक से दो हजार तक प्रति विजिट के दिए जाते रहे हैं। इसी तरह आईसीयू में मरीज के भर्ती होने पर 10-20 हजार की जगह अब चार हजार रुपये तय किए गए हैं। जनरल वार्ड के बेड के लिए 15 सौ की जगह अब एक हजार रुपये प्रतिदिन, प्राइवेट रूम के 4000 से 2500 रुपये कर दिए गए हैं। इसी तरह गाल ब्लैडर की सर्जरी, घुटना, कूल्हा प्रत्यारोपण के इलाज में भी 30 से 40 फीसदी तक रेट कम कर दिए गए हैं। नर्सिंग होम संचालकों ने ऐतराज जताते हुए कहा कि आयुष्मान योजना की देखादेखी रेट कम किए जा रहे हैं।
यह भी पढ़ें

पानी के लिए जिले-जिले में दौड़ेगी यूपी सरकार की वैन, शुरू हुआ जल संरक्षण के लिए जन आंदोलन

रेट कम होने से मुश्किलें पैदा होंगी

नर्सिंग होम एसोसिएशन की आपात बैठक बुलाकर गंभीर मंत्रणा की गई। संचालकों ने कम रेट पर मरीजों की भर्ती और ऑपरेशन से हाथ खड़े कर लिए हैं। पैरामाउंट के बाद स्टार्स से भी विवाद होने पर मंत्रणा का दौर शुरू करने पर सहमति जताई गई है लेकिन यह फैसला भी लिया गया है कि मेडिकल बीमा में कम रेट पर इलाज संभव नहीं होगा। महंगाई का दौर है, ऐसे में रेट बढ़ाने की जगह कम करने से मुश्किलें पैदा होंगी।

मरीजों को होगी समस्या

डॉ.एमके सरावगी, अध्यक्ष नर्सिंग होम एसोसिएशन के अनुसार बैठक में सभी सदस्यों ने कम रेट लिस्ट पर आपत्ति दर्ज करा दी है। करार रद करने की चेतावनी दे दी है। रेट कम करने से मेडिकल बीमा ले चुके मरीजों को मुश्किल होगी। बातचीत के दरवाजे खुले हैं पर कम रेट मंजूर नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार : नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, 20 लाख युवाओं को देंगे नौकरी और रोजगारIndependence Day 2022 : अगले 25 सालों का क्या है प्लान, पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातेंIndependence Day 2022: लाल किले पर बना नया रिकार्ड, पहली बार मेड इन इंडिया तोप ने दी सलामी, जानें इसके बारे मेंHar Ghar Trianga Campaign में 30 करोड़ से ज्यादा के झंडे बिके, CAIT ने बताया इतने करोड़ का हुआ कारोबारIndependence Day 2022: मोहन भागवत ने RSS मुख्यालय में फहराया तिरंगा, बोले-देश को क्या दे रहे हैं यह सोचकर जीने की जरूरत15 August 2022: स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पीएम मोदी 3 हेल्थ स्कीम कर सकते हैं लॉन्च , जानें इनके बारेHar Ghar Trianga Live Updates: 'यह राजनीति करने का समय नहीं,मिलकर स्वतंत्रता दिवस मनाने का है समय है', प्रियंका गांधी वाड्रास्वतंत्रता दिवस 2022: गूगल भी मना रहा भारत की आजादी का जश्न, पतंगों के साथ डूडल बनाकर भारत की संस्कृति को दर्शाया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.