scriptअकबरनगर का कायाकल्प: इको टूरिज्म हब और नाइट सफारी से होगी नई पहचान | Patrika News
लखनऊ

अकबरनगर का कायाकल्प: इको टूरिज्म हब और नाइट सफारी से होगी नई पहचान

कुकरैल नदी के पुनर्जीवन की राह हुई आसान: भूमाफिया, घुसपैठियों और रोहिंग्या से मुक्त हुई नदी। अकबरनगर का इतिहास के पन्नों में हुआ दफन. दिसंबर में शुरू हुए अभियान में 24.5 एकड़ जमीन पर बने 1800 से अधिक अवैध निर्माण जमींदोज किए गए।

लखनऊJun 20, 2024 / 10:01 am

Ritesh Singh

अकबरनगर

अकबरनगर

लखनऊ का अकबरनगर इलाका, जिसे कुकरैल नदी को अतिक्रमण कर अवैध कब्जों से पाट दिया गया था, अब इतिहास के पन्नों में दफन हो चुका है। इस क्षेत्र को इको टूरिज्म हब के रूप में विकसित किए जाने की तैयारी हो रही है। रिवर फ्रंट और देश की पहली नाइट सफारी के साथ, सरकार ने इस क्षेत्र को चमकाने का पूरा रोडमैप तैयार कर लिया है।

भूमाफिया और अवैध कब्जों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई

योगी सरकार के प्रयासों और सुप्रीम कोर्ट के आदेश से इस पूरे क्षेत्र को भूमाफिया, घुसपैठियों, रोहिंग्या और बांग्लादेशियों के कब्जे से खाली करा लिया गया है। 10 जून से शुरू हुई कार्रवाई के दौरान 1800 से अधिक अवैध निर्माणों को जमींदोज कर दिया गया है। इनमें 1169 मकान और 101 वाणिज्यिक प्रतिष्ठान शामिल हैं। बुधवार तड़के आखिरी बची चार मंजिला इमारत को भी ध्वस्त कर एलडीए ने अपनी कार्रवाई को अंजाम दिया।
अकबरनगर

1800 से अधिक अवैध निर्माण हुए जमींदोज

पिछली सरकारों और भूमाफिया की सांठगांठ के चलते कुकरैल नदी की जमीन पर कब्जा कर अवैध निर्माण किए गए थे। सीएम योगी ने प्रदेश की बागडोर संभालने के बाद इस ओर ध्यान दिया। शासन के निर्देश पर सर्वे के दौरान नदी की जमीन पर बड़ी संख्या में अवैध निर्माण सामने आए, जिसके बाद सीएम योगी ने इन अवैध निर्माणों के खिलाफ बुलडोजर चलाने का निर्णय लिया। दिसंबर 2023 से शुरू हुआ यह अभियान 19 जून के तड़के अंतिम इमारत को ध्वस्त करने के बाद ही रुका। इस दौरान 24.5 एकड़ जमीन पर बने 1800 से अधिक अवैध निर्माण ध्वस्त किए गए हैं।
अकबरनगर

नए सिरे से विकसित होगा क्षेत्र

कुकरैल नदी का क्षेत्र खाली होने के बाद यहां रिवर फ्रंट विकसित किया जाएगा। बख्शी के तालाब के पास दशौली गांव से इसका विकास किया जाएगा। साथ ही यहां मौजूद सभी तालाबों को इंटर लिंक करके क्षेत्र को संवारा जाएगा। नगर विकास विभाग के अंतर्गत कई अन्य परियोजनाओं को मूर्त रूप दिया जाएगा। अन्य विभागों को भी इस क्षेत्र के विकास की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इन परियोजनाओं का लेआउट प्लान तैयार किया जा रहा है और जल्द ही सीएम योगी की मंजूरी के बाद इसकी घोषणा की जाएगी।
अकबरनगर

नाइट सफारी पर फोकस

योगी सरकार कुकरैल वन क्षेत्र को इको टूरिज्म का हब बनाने जा रही है। यहां देश की पहली नाइट सफारी विकसित की जाएगी। कुकरैल नाइट सफारी पार्क में इंडियन वॉकिंग ट्रेल, इंडियन फुटहिल, इंडियन वेटलैंड, एरिड इंडिया और अफ्रीकन वेटलैंड की थीम पर क्षेत्र विकसित किए जाएंगे। नाइट सफारी में 42 इनक्लोजर में 54 प्रजातियों के जानवरों को रखा जाएगा। पर्यटक 5.5 किमी ट्राम-वे और 1.92 किमी पाथ-वे के माध्यम से सफारी का अवलोकन कर सकेंगे। एशियाटिक लायन, घड़ियाल, बंगाल टाइगर, उड़न गिलहरी, तेंदुआ, हायना आदि मुख्य आकर्षण होंगे। योगी सरकार के इन प्रयासों से लखनऊ का अकबरनगर इलाका न सिर्फ अवैध कब्जों से मुक्त हुआ है, बल्कि इको टूरिज्म और नाइट सफारी के माध्यम से एक नई पहचान भी बनाने जा रहा है।

Hindi News/ Lucknow / अकबरनगर का कायाकल्प: इको टूरिज्म हब और नाइट सफारी से होगी नई पहचान

ट्रेंडिंग वीडियो