हैदराबाद की बेटी से हैवानियत पर देश भर में उबाल, महिला अपराध के मुद्दे पर घिरी योगी सरकार

- हैदराबाद की डॉक्टर बेटी संग हैवानियत को लेकर सड़क से संसद तक हंगामा मचा हुआ है
- यूपी में महिला अपराध के मुद्दों पर कांग्रेस, सपा और बसपा बीजेपी सरकार पर हमलावर हैं

लखनऊ. हैदराबाद की डॉक्टर बेटी संग हैवानियत को लेकर सड़क से संसद तक हंगामा मचा हुआ है। लोगों के जेहन में गुस्सा और आंखों में आंसू हैं। हर कोई दरिंदों के लिए कड़ी सजा की मांग कर रहा है कि ताकि कोई दुष्कर्मी फिर ऐसा दुस्साहस नहीं कर सके। यूपी सहित पूरे देश में महिला अत्याचार के खिलाफ विरोध की बयार चल रही है। सूबे की सियासी गलियारों में लॉ एंड ऑर्डर का मुद्दा छाया हुआ है। राज्य के प्रमुख राजनीतिक दल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी राज्य में महिला अपराध के मुद्दों पर बीजेपी सरकार पर हमलावर हैं। एक हफ्ते पहले हैदराबाद हुए 27 वर्षीय डॉक्टर के रेप व मर्डर केस के बीच यूपी में महिलाओं से अपराधिक घटनाएं रुक नहीं रही हैं। वहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दावा कर रहे हैं कि उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था अन्य प्रदेशों से बेहतर है।

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो के 2016 की रिपोर्ट के मुताबिक, बलात्कार के मामले में उत्तर प्रदेश दूसरे नंबर पर आता है, जहां 4,816 बलात्कार के मामले दर्ज हुए हैं। कांग्रेस विधानमण्डल दल की नेता आराधना मिश्रा 'मोना' ने कहा कि 2017 के बाद से आज तक एनसीआरबी की कोई रिपोर्ट सार्वजानिक क्यों नहीं हुई। यह दर्शाता है कि सरकार मामलों को छिपाना चाहती है, जबकि 2017 से पहले प्रत्येक वर्ष रिपोर्ट पब्लिश होती थी। इससे पता चलता है कि सरकार अपराधियों-बलात्कारियों को बढ़ावा दे रही है।

मैनपुरी के नवोदय विद्यालय में छात्रा की मौत का मामला हो या उन्नाव सामूहिक दुष्कर्म केस या फिर चिन्मयानंद प्रकरण, प्रियंका गांधी की अगुआई में कांग्रेसी हर मामले में बीजेपी सरकार को घेर रहे हैं। सपाई भी खामोश नहीं हैं, महिला अपराध के मुद्दे पर वह सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहे हैं। बसपा प्रमुख मायावती ने भी ट्वीट कर सरकार से सख्त कानून बनाने की मांग की है।

देखें वीडियो...

महिला अपराध के मामलों में यूपी सबसे ऊपर : प्रियंका गांधी
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामलों में यूपी सबसे ऊपर है। अपराधियों के खिलाफ मामले ही नहीं दर्ज होते। और अगर मामला रसूख वाले भाजपा विधायक का है तो पहले एफआइआर में देरी होती है, फिर गिरफ्तारी में और अब ट्रायल लटका पड़ा है। उन्होंने कहा कि उन्नाव मामले में सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया था कि 45 दिन में ट्रायल पूरा किया जाए। 80 दिन बीत चुके हैं। अभी तक ट्रायल पूरा नहीं हुआ।

बेटियों के लिए आज तक का सबसे खराब दौर : अखिलेश यादव
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश की बहन-बेटियों के साथ जिस प्रकार दुष्कर्म, अत्याचार व हत्याओं की खबरें आ रही हैं, वे दिल दहलाने वाली हैं। सुरक्षा की दृष्टि से प्रदेश की लड़कियों और महिलाओं के लिए यह आज तक का सबसे खराब दौर है। घोर निंदनीय।

सख्त कानून की जरूरत : मायावती
बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि महिलाओं के रेप व मर्डर मामले में देश की चिन्ताओं के मद्देनजर सरकार को संसद में सख्त कानून बनाना चाहिए। ताकि निचली अदालत से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक में निर्धारित न्यूनतम समय के भीतर मामले का निपटारा कर दोषियों को फांसी की सजा दी जा सके।

यूपी की कानून-व्यवस्था अन्य प्रदेशों से बेहतर : सीएम योगी
गोरखपुर में एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दावा करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था देश के अन्य प्रदेशों से बेहतर है। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि राज्य में तेजी से निवेश बढ़ रहा है।

यह भी पढ़ें : मैनपुरी छात्रा की मौत मामले में कांग्रेस ने बीजेपी पर लगाये गंभीर आरोप, सरकार के सामने रखीं ये चार मांगें

Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned