scriptSummer Weather update heat wave hottest day in may | मौसम का कहर शुरू: 122 वर्षों बाद सबसे गर्म दिन, गर्मी ने लिया विकराल रूप, जानें अपने शहर का हाल | Patrika News

मौसम का कहर शुरू: 122 वर्षों बाद सबसे गर्म दिन, गर्मी ने लिया विकराल रूप, जानें अपने शहर का हाल

Summer Weather update: क्लाइमेट चेंज की वजह से मार्च 2022 के आधे महीने के बाद ही उत्तर पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों में लू चलने लगी। पिछले दो दशक में मार्च का महीना सबसे गर्म रहा। अमूमन मार्च के माह में यूपी सहित देश के कई हिस्सों में हल्की बारिश होती रही है। लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। इस वजह से तापमान बढ़ गया।

लखनऊ

Updated: April 06, 2022 04:23:21 pm

Summer Weather update: अभी अप्रेल का पहला हफ्ता भी नहीं बीता है। गर्मी के सारे रिकार्ड टूट गए हैं। यूपी के अधिकतर किसानों के खेतों में गेहूं और रबी की फसलें अभी खड़ी हैं लेकिन लू चलने से गेहूं सूख गया है। चना और मटर की फसलें भी प्रभावित हुई हैं। दानों का वजन कम हो गया है। मौसम विज्ञानियों को कहना है कि 1901 के बाद से सबसे ज्यादा गर्म मार्च 2022 का महीना रहा है। इसके पहले का रिकार्ड मौसम विज्ञान विभाग के पास नहीं है। क्योंकि भारत में तापमान का रिकार्ड 1901 से ही रखा जाना शुरू हुआ। इसके पहले मार्च 2010 में भी इसी तरह की गर्मी पड़ी थी। तब अधिकतम औसत तापमान का औसत 33.09 डिग्री सेल्सियस था। लेकिन मार्च 2022 में औसत तापमान 33.1 डिग्री दर्ज हुआ। इसी के साथ लू भी मार्च में ही चलने लग गयी।
girl.jpg
परेशान करने लगी लू

Summer Weather update: क्लाइमेट चेंज की वजह से मार्च 2022 के आधे महीने के बाद ही उत्तर पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों में लू चलने लगी। पिछले दो दशक में मार्च का महीना सबसे गर्म रहा। अमूमन मार्च के माह में यूपी सहित देश के कई हिस्सों में हल्की बारिश होती रही है। लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। इस वजह से तापमान बढ़ गया।
लू पर मौसम विज्ञानी की चेतावनी

मौसम विज्ञानियों का कहना है कि अप्रेल माह में लू की तीव्रता बढ़ेगी। पर्यावरण विशेषज्ञ डॉ. सीमा जावेद का कहना है कि इसकी वजह ग्लोबल वार्मिंग है। इसकी वजह से अभी लू की फ्रीक्वैंसी और तीव्रता और बढऩे का अनुमान है।
झुलस गयीं गेहूं की बालियां

मौसम का बदला मिजाज किसानों को नुकसान दे रहा है। इसका सबसे ज्यादा असर गेहूं की फसल पर पड़ा है। पहले तो बारिश के कारण बुवाई काफी लेट हुई। मार्च-अप्रेल माह में गर्मी के तेवर के कारण गेहूं-जौ, चना,मटर, अरहर फलियों और बाली को काफी नुकसान पहुंचा है। गर्मी ज्यादा होने से बालियों के अंदर जो दाना था, उसका दूध सूख गया। इससे दाने छोटे हो गए हैं। इसका असर सीधा गेहूं के उत्पादन पर पड़ा है। कृषि वैज्ञानिकों की मानें तो गेहूं को पकने के औसतन 25 से 30 डिग्री पारा अच्छा रहता है, लेकिन मार्च में ही पारा 33 के ऊपर चला गया।
घट गया उत्पादन

कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार बढ़ते तापमान से न केवल गेहूू की फसल का उत्पादन प्रभावित हुआ, बल्कि टमाटर, भिंडी, बैंगन, तरबूज आदि की फसलें भी प्रभावित हुई हैं। कृषि वैज्ञानिकों का मानना है। कि जिन किसानों ने 15 नवंबर से पहले गेहूं की फसल बो दी थी। उनमें 10 फीसदी उत्पादन प्रभावित हुआ है। 15 नवंबर के बाद बोई गेहूं की बोई गई फसल में 25 फीसदी उत्पादन प्रभावित हुआ है। केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने इस साल गेहूं के लिए 111.32 मिलियन टन के उत्पादन का अनुमान लगाया था। लेकिन माना जा रहा है यह घट सकता है।
यूपी सरकार ने इस साल सरकारी क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद का मूल्य 2015 रुपए प्रति कुंतल रखा है। लेकिन अभी तक सिर्फ 5176 क्रय केंद्र ही चालू हो पाए हैं। और अब तक सिर्फ 18 किसानों ने ही 94.65 मीट्र्रिक टन गेहूं ही बेचा है। इसकी वजह गेहूं की कटाई का देर से शुरू होना है। दूसरे फसल खेतों में ही सूख गयी है। प्रोडक्शन कम हुआ है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra: गृहमंत्री शाह ने महाराष्ट्र के उमेश कोल्हे हत्याकांड की जांच NIA को सौंपी, नुपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने के बाद हुआ था मर्डरMaharashtra Politics: बीएमसी चुनाव में होगी शिंदे की असली परीक्षा, क्या उद्धव ठाकरे को दे पाएंगे शिकस्त?PM Modi In Telangana: 6 महीने में तीसरी बार तेलंगाना के CM केसीआर ने एयरपोर्ट पर PM मोदी को नहीं किया रिसीवSingle Use Plastic: तिरुपति मंदिर में भुट्टे से बनी थैली में बंट रहा प्रसाद, बाजार में मिलेंगे प्लास्टिक के विकल्पकेरल में दिल दहलाने वाली घटना, दो बच्चों समेत परिवार के पांच लोग फंदे पर लटके मिलेक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशाना500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.