19 पिचों के साथ इकाना बनेगा देश का पहला ऐसा स्टेडियम, जहां उभरते क्रिकेटरों को मिलेगी इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसी सुविधा

शहर का अटल बिहारी वाजपेई इकाना अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम देश ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में अपनी अलग पहचान बनाने जा रहा है।

लखनऊ. शहर का अटल बिहारी वाजपेयी इकाना अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम देश ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में अपनी अलग पहचान बनाने जा रहा है। हालांकि मुख्य इकाना स्टेडियम तो पहले से ही अपनी हाईटेक सुविधाओं के लिए हमेशा चर्चा में रहता है, पर अब बी-ग्राउंड भी अपने अनूठेपन के लिए जाना जाएगा। इस बी-ग्राउंड पर एक दो नहीं बल्कि 19 बच्चे तैयार की गई हैं। यह देश का पहला ऐसा मैदान है।

यहां की मिट्टी से तैयार हुईं पिचें

बी-ग्राउंड पर लाल और काली मिट्टी की पिचें तैयार की गई हैं। यह मुख्य पिच से जुड़ी होंगी। दोनों छोरों पर लाल मिट्टी की पिचें होंगी। इसके अलावा बीच में लाल और काली मिट्टी दोनों ही तरह की पिचें होंगी। क्रिकेट विशेषज्ञों का मानना है कि ओडिशा के बलांगीर के तारों की मिट्टी पिचों के लिए बहुत मुफीद होती है। इकाना के मुख्य स्टेडियम तीन पिचें भी इसी मिट्टी से बनी हैं। बीसीसीआई के पिच क्यूरेटर शिव कुमार ने बताया कि बलांगीर के तालाब की काली मिट्टी की पकड़ बहुत मजबूत होती है। नमी के साथ अगर अच्छी तरह रोलिंग कर दी जाए तो यह सीमेंट की तरह हो जाती है। ऐसी पिचों पर तेज गेंदबाजों के साथ बल्लेबाजों को भी मदद मिलती है। लाल मिट्टी महाराष्ट्र से मंगाई गई है। यहां उपयोग की गई दोनों तरह की मिट्टी की पिचों पर रन तो बनते ही है। गेंदबाजों को भी मदद मिलती है।

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के मैदानों की तरह सुविधा

बी-ग्राउंड पर इतनी पिचें होने से कई बल्लेबाज एक साथ नेट पर अभ्यास कर सकेंगे। ऐसी सुविधा सिर्फ इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के मैदानों पर मिलती है। यहां बल्लेबाजों को लाल और काली मिट्टी की पिचों पर अभ्यास करने को मिलेगा। अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाली टीमों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए इतनी पिचें बनाई गई हैं। साथ ही शहर के उभरते क्रिकेटरों को भी इससे ट्रेनिंग में सहूलियत मिलेगी।

हो चुके हैं कई अंतरराष्ट्रीय मैच

भले ही यह इकाना स्टेडियम का बी-ग्राउंड है, पर यहां कई अंतरराष्ट्रीय मैच हो चुके हैं। इस मैदान पर भारत ए, भारत बी और बांग्लादेश की टीमों के बीच त्रिकोणीय सीरीज भी खेली जा चुकी है। अफगानिस्तान और भारत की अंडर 19 टीमों के बीच पांच एकदिवसीय मैचों की सीरीज के मुकाबले भी यहां हो चुके हैं। वर्तमान में यहां दो शिफ्ट (सुबह-शाम) में करीब दो सौ खिलाड़ी क्रिकेट की बारीकियों से रूबरू हो रहे हैं।

द्रविड़ और क्लूजनर भी कर चुके हैं तारीफ

पूर्व भारतीय क्रिकेटर राहुल द्रविड़ और दक्षिण अफ्रीका के हरफनमौला खिलाड़ी लांस क्लूजनर इकाना के मुख्य मैदान के साथ ही बी-ग्राउंड की जमकर तारीफ कर चुके हैं। जब भारत और अफगानिस्तान की अंडर-19 टीमों के बीच यहां सीरीज खेली गई थी तो दोनों दिग्गजों ने इस मैदान पर काफी समय बताया था। राहुल द्रविड़ ने तो बी-ग्राउंड की तुलना न्यूजीलैंड के मैदान से कर दी थी।

जल्द खुलेगी राष्ट्रीय स्तर की क्रिकेट अकादमी

इकाना स्पोर्ट्स सिटी के प्रबंध निदेशक उदय सिन्हा ने बताया कि स्टेडियम के बी-ग्राउंड पर 19 पिचें बन रही हैं। जनवरी से इकाना स्पोर्ट्स सिटी में राष्ट्रीय स्तर की क्रिकेट अकादमी खोलने का भी विचार है। जहां खिलाड़ियों को अत्याधुनिक संसाधनों के साथ ट्रेनिंग मिलेगी। भविष्य में होने वाले अंतरराष्ट्रीय मैच के दौरान खिलाड़ियों के पास नेट अभ्यास के लिए पर्याप्त सुविधा होगी।

यह भी पढ़ें: अखिलेश की समाजवादी पार्टी में प्रसपा के विलय को लेकर शिवपाल का चौंकाने वाला बयान, सपाइयों के उड़े होश

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned