scriptyogi government to give employees and pensioners cashless treatment | सरकारी कर्मचारियों और पेंशनर्स को योगी सरकार का बड़ा तोहफा, इसी महीने लागू होगी ये योजना, जानें पूरी डिटेल | Patrika News

सरकारी कर्मचारियों और पेंशनर्स को योगी सरकार का बड़ा तोहफा, इसी महीने लागू होगी ये योजना, जानें पूरी डिटेल

योगी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में ही राज्य कर्मचारियों और पेंशनरों को कैशलेस इलाज की सुविधा देने का वादा किया था। इसके लिए सभी कर्मचारियों का स्टेट हेल्थ कार्ड बनेगा, जिसकी मदद से वह कैशलेस इलाज की फ्री सुविधा का लाभ उठा पाएंगे।

लखनऊ

Published: May 12, 2022 10:04:31 am

योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) की राज्य सरकार ने सरकारी कर्मचारियों (Government Employee) को एक बहुत ही बड़ा तोहफा देने का फैसला किया है। उत्तर प्रदेश (UP) के करीब 22 लाख सरकारी कर्मचारियों (Government Servants) और पेंशनरों के लिए राज्य सरकार बड़ी सुविधा देने की योजना लेकर आई है। जानकारी के मुताबिक, इन कर्मचारियों और पेंशनरों(pensioners) के परिवारों को मई यानी इसी महीने से कैशलेस इलाज (Cashless Treatment) की सुविधा दी जाएगी। इसका लाभ पाने वालों की संख्या तकरीबन एक करोड़ होगी। इस बावत स्वास्थ्य विभाग की तरफ से सभी तैयारियां पूरी की जा चुकी हैं। अब इंतजार है तो सिर्फ योजना के शुभारंभ के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की हरी झंडी दिखाने का। जिसके बाद यूपी ऐसा करने वाला पहला राज्य बन जाएगा।
yogi.jpeg
ये भी पढ़ें: खुशियां मातम में बदलीं: बांदा में शादी समारोह से लौट रहे बाक सवार युवकों को ट्रक ने रौंदा, तीन की मौत

सभी कर्मचारियों का बनाया जाएगा स्टेट हेल्थ कार्ड

गौरतलब है कि इस योजना को गति देने के लिए योगी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में ही राज्य कर्मचारियों और पेंशनरों को कैशलेस इलाज की सुविधा देने का वादा किया था। वहीं जनवरी में राज्य कैबिनेट की तरफ से इस प्रस्ताव को हरी झंडी भी दे दी गई थी। लेकिन इस योजना को अमल में आने से पहले ही प्रदेश में चुनाव प्रक्रिया शुरू हो गई थी। बता दें, इस योजना को स्वास्थ्य विभाग द्वारा अपने सौ दिन के एजेंडे में शामिल किया गया है। इसके लिए सभी कर्मचारियों का स्टेट हेल्थ कार्ड बनेगा, जिसकी मदद से वह कैशलेस इलाज की फ्री सुविधा का लाभ उठा पाएंगे।
ये भी पढ़ें: चाचा के शिकवे शिकायत के बीच अखिलेश ने शिवपाल के साथ पोस्ट की तस्वीर, क्या करीब आ रहे हैं चाचा-भतीजा?

पांच लाख रुपये तक का इलाज मुफ्त

नई व्यवस्था से राज्य कर्मचारी और पेंशनर या उनके परिवारीजन निजी अस्पतालों में भी पांच लाख रुपये तक का इलाज मुफ्त करा सकेंगे। वहीं सरकारी संस्थानों में खर्च की कोई समयसीमा नहीं होगी। इसके अलावा सरकार पहले भुगतान करके रिंबर्समेंट लेने की पुरानी व्यवस्था भी खत्म नहीं करेगी। ऐसे में नई व्यवस्था से कर्मचारियों और पेंशनरों को सरकारी अस्पतालों, विभाग और सीएमओ के चक्कर काटने से भी मुक्ति मिल जाएगी। साथ ही कई महंगी जांचें और बीमारियों का इलाज भी अब आयुष्मान योजना की जद में आने से लोगों को बड़ी सुविधा मिल सकेगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंऐसा होगा यूपी का पहला कृत्रिम समुद्र, यहां देखें तस्वीरें, मुफ्त मनोरंजन और रोजगार भीबनना चाहते थे फौजी, किस्‍मत ने बनाया क्रिकेटर, ऐसी है Delhi Capitals के मैच विनर की कहानीरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मतबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करेंकई संपत्ति के मालिक होते हैं इन 3 तारीखों में जन्मे लोग, होते हैं किस्मत वालेइन 4 बर्थ डेट वाली लड़कियां बनती हैं अच्छी पत्नी, चमका देती हैं पति की तकदीरजबरदस्त डिमांड के चलते 17 महीनों तक पहुंचा Kia की इस 7-सीटर कार का वेटिंग! कम कीमत में Innova को देती है टक्कर

बड़ी खबरें

कटरा से जम्मू जा रही बस में लगी आग, 4 लोगों की मौत, 20 यात्री झुलसेInflation in States : पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक महंगाई, राजस्थान भी देश के 10 सबसे महंगे राज्यों मेंपंजाब DGP ने खोला मोहाली हमले का राज, कनाडा में बैठे मास्टरमाइंड ने ISI की मदद से करवाया ब्लास्टतमिलनाडु के मंत्री का विवादित भाषण, 'हिंदी बोलने वाले कोयंबटूर में पानी पूरी बेचते हैं'Congress Chintan Shivir 2022 : सोनिया गांधी ने कहा, अपनी नाकामयाबियों से बेखबर नहीं हैं, पार्टी को उसी भूमिका में लाएंगे जो सदैव निभाई हैजेपी नड्डा का कांग्रेस पर करारा हमला, बोले- यह सिर्फ भाई-बहन की पार्टी, राजस्थान में रेप हो तो साध लेते है चुप्पीNFHS 5 Survey : औरतें ही नहीं हर 10वां पुरुष भी वैवाहिक हिंसा का शिकार, पत्नी ज्यादा पढ़ी तो हिंसा की आशंका ज्यादासुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर के परिसीमन प्रस्ताव पर केंद्र सरकार से मांगा जवाब
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.