गजब: लेखपाल ने 950 बीघा सरकारी जमीन की अपने रिश्तेदारों के नाम, खुद निकला अकूत संपत्ति का मालिक

Highlights:

-मैनपुरी के राजा बाग का रहने वाला है लेखपाल

-950 बीघा सरकारी जमीन अपने रिश्तेदारों के नाम की

-पुलिस ने पिछले साल गैंगस्टर लगाकर जेल भेजा

By: Rahul Chauhan

Published: 02 Apr 2021, 03:44 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मैनपुरी। गैंगस्टर मामले में जेल भेजा गया लेखपाल प्रदीपेंद्र सिंह अकूत संपति का मालिक निकला। जिसके बाद मैनपुरी प्रशासन ने उसकी करोड़ों की संपत्ति को कुर्क करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। इस क्रम में अब तक की जांच में पुलिस ने आरोपी लेखपाल की 5 करोड़ 30 लाख की संपत्ति कुर्क कर दी है। जिसमें मैनपुरी के राजा बाग स्थित 4 मंजिला मकान, देवी रोड स्थित एक दुकान शामिल है। इतना नही नहीं, पुलिस प्रशासन लेखपाल की नोएडा सहित अन्य स्थानों पर संपत्ति की जानकारी जुटाकर कुर्क करने की कार्रवाई में जुट गई है।

यह भी पढ़ें: योगी सरकार का बड़ा आदेश, 11 अप्रैल तक बंद रहेंगे स्कूल

दरअसल, जनपद के राजा बाग निवासी लेखपाल प्रदीपेंद्र सिंह राठौर 2012 से 2017 तक भोगांव तहसील में तैनात रहा था। आरोप है कि इस दौरान उसने गांव अहिरवा में अपनी रिश्तेदारों और अन्य लोगों के नाम 950 बीघा सरकारी जमीन को फर्जी तरीके से अंकित कर दी। इसका खुलासा 2018 में हुआ। जिसके बाद प्रशासन में हड़कंप मच गया और आनन-फानन में मामले की जांच के आदेश दिए गए। जांच के बाद प्रशासन की तरफ से लेखपाल सहित 52 लोगों के खिलाफ जालसाजी और धोखाधड़ी के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया गया। वहीं वर्ष 2020 में लेखपाल और उसके साथियों पर गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई करते हुए पुुलिस ने उसे जेल भेज दिया।

यह भी पढ़ें: भारत में सबसे बड़ा प्रोजेक्ट शुरू करेगी Microsoft, 103 करोड़ में खरीदी 60 हजार वर्गमीटर जमीन

पुलिस अधिकारी अमर बहादुर के मुताबिक नोएडा के चिपयाना बुजुर्ग गांव में लेखपाल प्रदीपेंद्र के नाम 3 आवासीय प्लाट भी हैं। इसके अलावा उसने अपने गांव के आसपास भी कृषि भूमि खरीदी है। वह अवैध क्रियाकलापों से संपत्ति अर्जित करता रहा है। जिसकी जांच के बाद उसकी पांच करोड़ से अधिक की संपत्ति को कुर्क किया गया है। अन्य संपत्ति की भी जांच कराई जा रही है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned