Gold/Silver Price: दो महीने में 3000 रुपए तक सस्ता हो सकता है Gold, क्या है बड़ी वजह

  • बीते एक साल में Gold Price में देखने को मिल चुकी है 40 फीसदी की बढ़ोतरी
  • जानकारों के अनुसार June और July के महीने में कम ही रहती है Gold Demand
  • आसमान छूती कीमतों की वजह से भी Gold से बनाई जा रही है थोड़ी दूरी

By: Saurabh Sharma

Updated: 23 May 2020, 11:40 AM IST

नई दिल्ली। मौजूदा समय में सोने के दाम ( Gold Price Today ) में इजाफा देखने को मिल रहा हो, लेकिन आने वाले महीनों में सोने के दाम ( Gold Rate Today ) में गिरावट देखने को मिल सकती है। यह गिरावट दो से तीन हजार रुपए प्रति दस ग्राम की देखने को मिल सकती है। जानकारों की मानें तो देश में जून और जुलाई का महीना गोल्ड में निवेश ( Gold Investment ) के मामले में हल्का ही रहा है। मौजूदा समय में तो कोरोना वायरस लॉकडाउन ( Coronavirus Lockdown ) है, तो लोग और ज्यादा खौफजदा हैं। इंटरनेशनल मार्केट में सोने के दाम ( Gold Price in International Market ) में तेजी देखने को मिल चुकी है। आने वाले दिनों में लॉकडाउन खुलेगा और इकोनॉमी बेहतर होगी तो लोगों का रुझान इक्विटी मार्केट की ओर जाएगा। ऐसे में सोने की कीमतों में कमी देखने को मिल सकती है। आइए आपको भी बताते हैं कि इस पूरे मामले में एक्सपर्ट किस तरह से बात करते हैं।

कम हो सकती है कीमतें
केडिया एडवाइजरी के डायरेक्टर अजय केडिया के अनुसार आने वाले दो से तीन महीनों में सोने के दाम में 3 हजार रुपए तक का करेक्शन या यूं कहें कि गिरावट देखने को मिल सकती है। उन्होंने इसके कारण गिनाते हुए कहा कि सोना घरेलू बाजार में रिकॉर्ड उंचाई पर है। ऐसे में सोना इंवेस्टमेंट के तौर पर खरीदने से लोग बचेंगे। इसका कारण ये भी है कि देश में सोने के इंपोर्ट पर 12.5 फीसदी शुल्क भी है। वहीं दूसरी ओर जून और जुलाई के महीने में सोने की डिमांड कम ही देखने को मिलती है। क्योंकि शादियों का सीजन निकल चुका होता है। ऐसे में कंज्म्पशन डिमांड ना होना भी वजह बन सकता है। वहीं कोरोना वायरस के कारण लोगों के जेब में अभी रुपया नहीं है। ऐसे में सोना खरीदने का जोखिम लोग ना के बराबर ही उठाएंगे।

यह भी पढ़ेंः- बदल गया देश के सबसे बड़े Bank का Time Table, अब इतने बजे खुलेगा SBI

कोरोना का एंटी डोट भी कम कर सकता है कीमतें
वहीं दूसरी ओर एजेंल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट ( कमोडिटी एंड रिसर्च ) अनुज गुप्ता का कहना है कि मौजूदा समय में जिस तरह के हालात देखने को मिल रहे हैं कि उससे कीमतों में गिरावट की संभावना कम ही देखने को मिल रही है, लेकिन आने वाले दिनों में लॉकडाउन में थोड़ी ढील मिलती है और कोरोना वायरस का एंटी डोट सामने आ जाता है तो आने वाले दिनों में दिनों में सोने के दाम 44000 हजार रुपए के स्तर पर आ सकते हैं। वैसे भी कीमतों में काफी बढ़ोत्तरी हो चुकी है। अब कीमतों के इससे ज्यादा जाने के आसार काफी कम ही हैं।

अगर कुछ ऐसा हुआ तो
वहीं दूसरी अजय केडिया का यह भी कहना है कि अगर जियो पॉलिटिकल टेंशन जैसे नॉर्थ कोरिया और साउथ कोरिया या फिर अमरीका चीन के बीच ट्रेड वॉर जैसी स्थिति उत्पन्न होती है तो सोने के दाम में और उछाल देखने को मिल सकता है। कुछ दिन पहले ट्रंप की ओर से चीन पर सीमा शुल्क लगाने के बयान के बाद सोने के दाम में तेजी देखने को मिली थी। अजय केडिया का कहना है कि सोने के दाम में उछाल के लिए एक बड़े बयान या फिर ट्रेड वॉर जैसी परिस्थिति की जरुरत है। पिछले दिनों माहौल थोड़ा बना जरूर है। अगर आने वाले दिनों में सब कुछ सामान्य रहता है तो वर्ना सोने की कीमतों में गिरावट ही देखने को मिलेगी

47 हजार रुपए है सोने के दाम
भारत के वायदा बाजार की बात करें तो शुक्रवार को आखिरी कारोबारी दिन सोने के दाम 673 रुपए प्रति दस ग्राम की बढ़त के साथ 47 हजार रुपए के स्तर को पार कर गया है। जबकि शुक्रवार को सोना 46,466 रुपए प्रति दस ग्राम पर खुला था। वहीं चांदी की बात करें तो 915 रुपए प्रतअ किलोग्राम की बढ़त के साथ 48250 रुपए प्रति किलोग्राम पर पहुंच गया है। जबकि शुक्रवार सुबह चांदी 47,227 रुपए के चाथ खुला था। वहीं विदेशी बाजारों में सोने के दाम की बात करें तो न्यूयॉर्क में सोना करीब 14 डॉलर प्रति ओंस की बढ़त के साथ 1,735.50 रुपए प्रति ओंस पर कारोबार कर रहा है। वहीं लंदन में सोना करीब 13 पाउंड प्रति ओंस की बढ़त के साथ 1426 पाउंड प्रति ओंस पर कारोबार कर रहा है।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned