अब से राशन की दुकानों पर मिलेगा सस्ता प्याज, केंद्र सरकार ने की घोषणा

अब से राशन की दुकानों पर मिलेगा सस्ता प्याज, केंद्र सरकार ने की घोषणा

Shivani Sharma | Updated: 13 Sep 2019, 11:46:19 AM (IST) बाजार

  • दिल्‍ली सरकार को राशन दुकानों के जरिए प्‍याज बेचने मिला निर्देश
  • प्याज की कीमत 23.90 रुपए/किलो होगी

नई दिल्ली। देश में बढ़ते सब्जियों के दाम के कारण दिल्ली सरकार अब से राशन की दुकानों पर कम दाम में प्याज बेचेगी। केंद्र ने दिल्ली सरकार को ऐसा करने का निर्देश दिया है। दिल्ली में प्याज के दाम काफी बढ़ गए हैं, जिसको देखते हुए केंद्र सरकार ने यह फैसला लिया है। फिलहाल बफर स्टॉक से प्याज लेकर उसे नागरिक आपूर्ति विभाग और राशन की दुकानों के जरिये 23.90 रुपये किलो के भाव पर बेचने को कहा गया है।


40 रुपए किलो मिल रहा प्याज

केंद्र सरकार के आंकड़ों के अनुसार प्याज का भाव दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में 39-40 रुपए प्रति किलो है। शहर में कुछ खुदरा विक्रेता गुणवत्ता और स्थान विशेष के आधार पर इसे 50 रुपए किलो के भाव पर बेच रहे हैं। सरकार के निर्देश पर भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ (नाफेड) और भारतीय राष्ट्रीय उपभोक्ता सहकारी संघ (एनसीसीएफ) के साथ-साथ मदर डेयरी बफर स्टॉक से प्याज लेकर उसे राष्ट्रीय राजधानी में बेच रहे हैं।


ये भी पढ़ें: 25 सितंबर से लेकर 27 सितंबर तक बैंकिग कर्मचारी करेंगे हड़ताल, वेतन बढ़ाने की लगाई गुहार


सफल में भी मिल रहा सस्ता प्याज

मदर डेयरी सफल दुकानों के जरिये प्याज 23.90 रुपए किलो के भाव पर बेच रही है। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हमने दिल्ली सरकार से केंद्रीय बफर स्टॉक से प्याज नागरिक आपूर्ति विभाग और राशन की दुकानों के जरिये बेचने का आग्रह किया है। अधिकारी ने कहा कि राज्य द्वारा अधिकतम 23.90 रुपए प्रति किलो के भाव पर प्याज बेचा जा रहा है। केंद्र से प्याज का स्टॉक 15 से 16 रुपए प्रति किलोग्राम पड़ रहा है।


दिल्ली में हर दिन बिकता है 350 टन प्याज

दिल्ली में प्रतिदिन 350 टन प्याज की जरूरत है, जबकि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र यानी एनसीआर की जरूरत प्रतिदिन 650 टन प्याज की है। केंद्र ने इस साल 56,000 टन प्याज का बफर स्‍टॉक बनाया है। इसमें से 10,000-12,000 टन नाफेड, एनसीसीएफ और मदर डेयरी ने अब तक बेचा है। खरीफ उत्पादन कम होने के कारण प्याज की कीमतों पर दबाव बना हुआ है। उत्पादक राज्यों विशेषकर महाराष्ट्र में खेती के रकबे में 10 फीसदी की गिरावट के कारण प्याज के दामों में तेजी आई है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned