दिवाली पर फारयिंग का वीडियो हुआ वायरल तो बोले पूर्व विधायक, कार्रवाई हुई तो करेंगे आंदोलन

Highlights:

-दीपावली की रात घर के बाहर लाइसेंसी असलाह से फायरिंग करने का आरोप

-वीडियो वायरल होने के बाद पत्रकार वार्ता कर दी सफाई

By: Rahul Chauhan

Published: 17 Nov 2020, 02:42 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। हस्तिनापुर से भाजपा के पूर्व विधायक गोपाल काली ने पत्रकारों कर दीपावली के दिन लाइसेंसी असलाह से फायरिंग की करने के आरोपों पर सफाई देते हुए कहा कि पुरानी रंजिश व षड़यंत्र के तहत उनके खिलाफ गंगानगर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। यह सब पूर्व हस्तिनापुर एसओ धर्मेंद्र खटीक के खिलाफ कार्रवाई बंद कराने के लिए उन पर दवाब बनाया जा रहा है। यह रिपोर्ट उनका लाइसेंस निरस्त कराने के लिए की गई है, ताकि उन पर जानलेवा हमला किया जा सके। पूर्व विधायक गोपाल काली ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को संबोधित पत्र की प्रतिलिपि भाजपा प्रदेशाध्यक्ष स्वतंत्र देव और मेरठ जिलाध्यक्ष अनुज राठी को भेजी है। उन्होंने पूरे मामले की उच्च अधिकारी से जांच कराने की मांग की है।

यह भी पढ़ें: गजब! लग्जरी कार चोरी कर मेट्रो और रेलवे स्टेशन की पार्किग में छिपाता था ये शातिर

पूर्व विधायक गोपाल काली ने पत्रकारों से वार्ता में कहा कि दिवाली पर शाम को वह अपने घर पर थे और पूजन की तैयारियां चल रही थीं। तभी छत पर दर्जनों बंदर आ गए तथा मकान की सजावट तोड़ने लगे। उन्होंने बंदरों को भगाने के लिए छर्रे रहित धमाके किए। आए दिन बच्चों व बड़ों के साथ बंदर हिंसक वारदात करते रहते हैं।

गोपाल काली ने आशंका जताते हुए कहा कि साजिश के तहत यदि उनका लाइसेंस जब्त हो गया तो उन पर कभी भी जानलेवा हमला हो सकता है। वर्ष 2019 में उन्हें 10 प्रतिशत पर सुरक्षा गार्ड गनर दिया गया था। जो कि समय पूरा होने के डेढ़ माह पूर्व ही वापस बुला लिया था। लगभग दो माह पहले छह बार कॉल कर उन्हें व परिवार को यह धमकी दी गई थी। इसका मवाना थाने में मुकदमा पंजीकृत है। इस मामले की साइबर सेल जांच कर रही है।

यह भी पढ़ें: RTI से बड़ा खुलासा: नहीं रुक रहा भारतीय गैंडों का शिकार, 2 वर्षों में मार दिए गए इतने Rhinoceros

ये था मामला

हस्तिनापुर में पूर्व विधायक और भाजपा नेता ने दीपावली के मौके पर लाइसेंसी पिस्टल से ताबड़तोड़ हवाई फायरिंग कर डाली थी। यही नहीं भाजपा नेता ने अपने बेटे से फायरिंग का वीडियो भी बनवाया था, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। दिवाली से अगले दिन तक अर्जुन काली का विडिओ फेसबुक पर था, मगर विडिओ वायरल होने पर दोपहर में उन्होंने वो विडिओ फेसबुक से हटा लिया था। पुलिस के अनुसार कानूनी तौर पर लाइसेंसी पिस्टल, बंदूक आदि से हर्ष की फायरिंग की इजाजत नहीं है। मामले को लेकर पुलिस ने जांच पड़ताल के बाद पुलिस ने पूर्व विधायक गोपाल काली व बेटे अर्जुन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned