Mayawati ने पहली बार एक मुस्लिम को बनाया BSP का प्रदेश अध्‍यक्ष, जानिए इसके पीछे की बड़ी वजह

Mayawati ने पहली बार एक मुस्लिम को बनाया BSP का प्रदेश अध्‍यक्ष, जानिए इसके पीछे की बड़ी वजह

sharad asthana | Updated: 08 Aug 2019, 12:09:45 PM (IST) Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

खास बातें-

  • Munquad Ali को बनाया गया BSP का प्रदेश अध्‍यक्ष
  • मेरठ के किठौर के रहने वाले हैं Munquad Ali
  • सांसद Danish Ali का कम किया गया रुतबा

मेरठ। बहुजन समाज पार्टी ( BSP ) सुप्रीमो मायावती ( Mayawati ) ने बुधवार को संगठन में बड़ा फेरबदल करते हुए मुनकाद अली ( Munquad Ali ) को प्रदेश अध्‍यक्ष की कमान सौंप दी है। उनके साथ ही संगठन में कई और फेरबदल भी किए गए हैं। अमरोहा ( Amroha ) से सांसद दानिश अली ( danish ali ) का रुतबा कम किया गया है।

वफादारी का दिया इनाम

मायावती ने पहली बार किसी मुस्लिम को बसपा प्रदेश अध्‍यक्ष बनाया है। मुनकाद अली को बसपा के प्रदेश अध्‍यक्ष की कमान सौंपी गई है। ऐसा करके बसपा सुप्रीमो ने मुनकाद अली को उनकी वफादारी का इनाम दिया है। मुनकाद अली मेरठ के किठौर के रहने वाले हैं। उनकी गिनती पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश के दिग्‍गज मुस्लिम नेताओं में होती है। उनको मायावती का सबसे बड़ा विश्वासपात्र माना जाता रहा है।

यह भी पढ़ें: Sushma Swaraj को श्रद्धांजलि देने गईं जया प्रदा का हुआ यह हाल- देखें फोटो

बसपा से की थी राजनीति‍क जीवन की शुरुआत

मुनकाद अली ने बसपा से ही अपने राजनीति‍क जीवन की शुरुआत की थी। इस बीच पार्टी में कई उतार-चढ़ाव आए लेकिन मुनकाद अली बसपा के लिए वफादार रहे। उन्‍होंने कभी भी बसपा सुप्रीमो की अनुमति के बिना अपना मुंह नहीं खोला। उन्‍होंने बसपा से मुस्लिमाें को जोड़ने के लिए काफी काम किया। उन्‍हें पार्टी में कई बड़ी जिम्‍मेदारियां भी दी जा चुकी हैं। उन्‍हें मायावती की सरकार में अल्पसंख्यक आयोग का सदस्य मनोनीत किया जा चुका है। वह मंडल अध्यक्ष और कई प्रदेशों के प्रभारी भी रहे। उन्‍हें मेरठ-सहारनपुर और मुरादाबाद मंडल के कोऑर्डिनेटर की जिम्‍मेदारी भी दी जा चुकी है। 2019 के लोकसभा चुनाव में उनको राजस्थान का प्रभारी बना कर भेजा गया था। फिलहाल उनके पास उत्‍तर प्रदेश के चार मंडलों मिर्जापुर, लखनऊ, अलीगढ़ और आगरा की जिम्मेदारी थी।

यह भी पढ़ें: BIG BREAKING: मायावती ने बसपा में किया बड़ा फेरबदल, इस मुस्लिम नेता को सौंपी यूपी की कमान

यह है वजह

मुनकाद अली को बसपा में पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी के बाद दूसरा बड़ा मुस्लिम नेता माना जाता है। नसीमुद्दीन सिद्दीकी के जाने के बाद पार्टी को काफी नुकसान हुआ था। माना जा रहा है क‍ि किसी मुस्लिम को पहली बार प्रदेश अध्‍यक्ष का पद देकर मायावती ने एक बार फिर मुस्लिमों को साधने की कोशिश की है।

मुनकाद अली का राजनीतिक सफर

- 1994 में किठौर क्रय विक्रय समिति के डायरेक्टर बने

- साल 2006 में पहली बार राज्यसभा के सदस्य निर्वाचित हुए

- 2012 में दोबारा राज्यसभा पहुंचे

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned