ड्रोन हमले जैसी नापाक साजिश से निपटने के लिए वेस्ट यूपी के सैन्य क्षेत्रों में सेना अलर्ट

इंटीग्रेटेड एयर कमांड एंड कंट्रोल सिस्टम और रडार से हो रही कैंट की सुरक्षा और निगरानी, हवा में ही दुश्मनों के ड्रोन को मार गिराने में सक्षम है आईएसीसीएस।

By: lokesh verma

Published: 30 Jun 2021, 01:06 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ. जम्मू एयरपोर्ट पर हुए ड्रोन हमले जैसी नापाक साजिश से निपटने के लिए मेरठ कैंट सैन्य इलाकों में भी सतर्कता बढ़ा दी गई है। कैंट इलाके में सेना ने मोर्चा संभाल लिया है। कैंट की सुरक्षा और निगरानी इंटीग्रेटेड एयर कमांड एंड कंट्रोल सिस्टम (आईएसीसीएस) और रडार से हो रही है, जो हवा में ही दुश्मनों के ड्रोन को मार गिराने में पूरी तरह सक्षम है।

उल्लेखनीय है कि जम्मू एयरपोर्ट पर हाल में ड्रोन हमले किए गए थे, जिसको देखते हुए वेस्ट यूपी सैन्य ठिकानों पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। मेरठ के अलावा मध्य वायु कमान में बरेली, आगरा, गाजियाबाद के हिंडन समेत कई वायुसेना स्टेशन पर फाइटर स्क्वाड्रन तैनात कर दिए गए हैं, जो हर समय आसमान की सुरक्षा में एक मजबूत दीवार की तरह खड़े रहते हैं। वहीं, फाइटर कंट्रोलर को प्रशिक्षण देने वाली तकनीक से लैस कर दिया है। यह सिस्टम और रडार दुश्मन देशों के लड़ाकू विमानों, ड्रोन, माइक्रोलाइट विमान और गुब्बारे के सैन्य क्षेत्र में आते ही उसकी सीधी तस्वीर ऑपरेशनल रूम को भेज सकेगा।

यह भी पढ़ें- पारंपरिक धरोहर को बयां करेगा विंध्य धाम, धार्मिक स्थलों का बनेगा सबसे बड़ा केंद्र

पूरी तरह ऑपरेशनल है आईएसीसीएस

मेरठ कैंट सैन्य क्षेत्र के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, आईएसीसीएस पूरी तरह ऑपरेशनल है। यह सिस्टम देश के सभी कैंट इलाकों के अलावा महत्वपूर्ण वायुसेना स्टेशन के रडारों से जुड़ा है। यह सिस्टम तय करेगा कि देश में किस हिस्से से जवाबी कार्रवाई करनी है। मेरठ कैंट इलाके में सेना ने महत्वपूर्ण इलाकों में नजर रखी हुई है। आसमान पर नजर रखने के साथ ही जमीन से भी निगरानी की जा रही है। कैंट इलाकों में हर आने वालों पर सेना की नजर है। वहीं संदिग्ध लोगों की भी निगरानी की जा रही है। रात में सेना की गश्त और तेज हो गई है। पूरे सैन्य क्षेत्र में क्विक रिएक्शन टीम (क्यूआरटी) को अलर्ट कर दिया गया है। यह टीम लगातार छावनी क्षेत्र की पेट्रोलिंग कर रही है। इसके साथ ही गार्डों की संख्या में बढ़ोतरी करते हुए यूनिट्स, महत्वपूर्ण स्थानों और छावनी की सीमा पर चौकसी बढ़ा दी गई है।

प्रमुख मार्गों पर शुक्रवार से सघन जांच

मेरठ कैंंट में बैरियर लगाने का काम भी शुरू कर दिया गया है। ऐसे में छावनी के प्रमुख मार्गों पर चेकिंग का सघन दौर शुक्रवार को देखने को मिलेगा। आए दिन जहां छह क्यूआरटी को चौकसी में लगाया जाता है। गुरुवार से इनकी संख्या बढ़ाकर नौ कर दी गई है। इसके साथ गार्डों की संख्या भी बढ़ा दी गई है। सैन्य क्षेत्र के प्रमुख मार्गों की भी चौकसी कड़ी कर दी गई है। इसके साथ ही छावनी के सीमांत इलाकों को सील कर चेकिंग बढ़ा दी गई है। एमएच, माल रोड, आरए बाजार, खटकाना पुल, कंकरखेड़ा, कासमपुर, फाजलपुर सहित अन्य सभी छावनी क्षेत्र में फौजियों की तैनाती बढ़ा दी गई है। इसके साथ ही कैंट क्षेत्र के सभी सैन्य इकाइयों और ऑफिसर्स मेस की सुरक्षा और पुख्ता कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें- अयोध्या में बवाल, हनुमानगढ़ी पर लगा ताला, नाराज व्यापारियों ने अयोध्या बंद कराया

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned