मेरठ के डबल मर्डर के पीछे की यह है कहानी, आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे!

कुख्यात सुशील मूंछ व उसके बेटे टोनी समेत छह बनाए मुल्जिम, मुख्य आरोपी मांगे पुलिस की पूछताछ में बतार्इ कहानी

By: sanjay sharma

Published: 10 Feb 2018, 02:59 PM IST

मेरठ। मेरठ के परतापुर क्षेत्र में मां-बेटे के मर्डर के पीछे की कहानी सुनकर आप चौंक जाएंगे। चुनावी रंजिश में कुटुम्ब के ही भाइयों ने 2016 में नरेंद्र की हत्या कर दी थी। इसमें चश्मदीद गवाह नरेंद्र की पत्नी निछत्तर व बलविन्दर थे। बाइक पर सवार तीन बदमाशों ने इसी 24 जनवरी को गोलियां बरसाकर हत्या कर दी थी। इसके मुख्य आरोपी मांग ने दिल्ली कोर्ट में समर्पण कर दिया। वह आठ दिन के लिए पुलिस रिमांड पर है। पूछताछ में मुख्य आरोपी मांगे ने जो कहानी बतार्इ है, उसके आधार पर पश्चिम उत्तर प्रदेश के कुख्यात सुशील मूंछ व उसके बेटे टोनी समेत छह लोगों पर धारा 120 b के तहत साजिश रचने का मुल्जिम बनाया है। मर्डर के बाद दोनों पक्षों में समझौते की जो बात आ रही थी, वह सुशील मूंछ ही था। समझौते के लिए हुर्इ पंचायत में उसके साथ उसका बेटा भी था। बताया जा रहा है कि दोनों भूमिगत हो गए हैं।

यह भी पढ़ेंः पति गला दबाकर पंखे पर टांग गया, एक साल का तुषार मां के शव के पास रोता रहा, देखें वीडियो

यह भी पढ़ेंः मेरठ के इस विवादित बंगले में कार्रवार्इ करने पहुंची टीम का एेसा सदमा लगा...बाला नहीं रही!

सुशील मूंछ की अहम भूमिका

डबल मर्डर के मुख्य आरोपी मांगे ने पुलिस हिरासत में बताया कि सोहरका डबल मर्डर केस में गवाह मां-बेटे की हत्या में सुशील मूंछ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। मांगे सुशील मूंछ का दूर का रिश्तेदार लगता है। मांगे ने बलविंदर और उसकी मां निछत्तर कौर को गवाही न देने से मनाने के लिए सुशील मूंछ को बिचौलिया बनाया था। सुशील मूंछ ने दोनों पक्षों को अपने गांव मथेड़ी बुलाया था। जहां पर दोनों पक्षों में सुशील मूंछ के सामने करीब पांच घंटे पंचायत चली थी। दोनों पक्षों ने फैसला सुशील मूंछ पर छोड़ दिया था। उस पंचायत में सुशील मूंछ का बेटा टोनी भी मौजूद था। मांगे ने जैसा पुलिस को बताया, उसके अनुसार सुशील मूंछ ने फैसला सुनाते हुए कहा था कि बलविंदर और निछत्तर 15 लाख रूपये ले और गवाही देने न जाएं। पंचायत में बलविंदर पर दबाव डाला गया और वहीं पर उसे पांच लाख रूपये दे दिए गए। जिसे उसने भारी मन से लिया और पंचायत में कहा कि वह गवाही देने नहीं जाएगा, लेकिन गांव आकर बलविंदर ने अपना वादा तोड़ दिया और कहा कि वह गवाही देने जाएगा। पंचायत में उस पर दबाव था इसलिए उसने वहां पर मना कर दिया था।

यह भी पढ़ेंः यही स्थिति रही तो पूरे जनपद में भूजल की स्थिति होगी खतरनाक डार्क जाेन में

यह भी पढ़ेंः मेरठ में अब एक आैर हत्या के केस में चश्मदीद गवाह को मिली जान से मारने की धमकी

दोनों को रास्ते से हटा दो

बलविंदर के वादे से पलटने की बात जब सुशील मूंछ तक पहुंची तो उसने मांगे से कहा कि दोनों को रास्ते से हटा दो। उसी दिन मांगे सुशील मूंछ के गांव मथेड़ी पहुंचा और वहीं पर मां-बेटे की हत्या की पूरी साजिश रची गई। सुशील मूंछ ने ही भाड़े के शूटर विकास जाट को फोन करके बुलाया और उसकी मुलाकात मांगे से कराई। मांगे ने पुलिस को हत्या के बारे में और महत्वपूर्ण सुराग उपलब्ध कराए हैं।

देखें वीडियोः डांस से किया ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरुक

वीडियो देखेंः हापुड़ ट्रेन फायर

 

 

 

 

sanjay sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned