केरल में जीका वायरस के 3 नए केस, अब तक कुल 18 मरीज मिले

दो बैच में कुल 27 सैम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 26 में संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई। आठ सैम्पल्स तीसरे बैच में भेजे गए थे, जिनमें से तीन में इन्फेक्शन पाया गया है।

नई दिल्ली। रविवार को केरल में जीका वायरस के एक बच्चे सहित तीन मरीज मिले हैं। सरकारी सूत्रों के अनुसार बच्चे की उम्र 22 माह तथा अन्य दो मरीजों की उम्र क्रमश: 46 वर्ष व 29 वर्ष है। अब तक राज्य में जीका वायरस से संक्रमित कुल 18 केस सामने आ चुके हैं। केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने जानकारी देते हुए कहा कि राज्य सरकार ने तिरुवनंतपुरम, त्रिशूर तथा कोझिकोड मेडिकल कॉलेजों के अलावा राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (NIV) की अलप्पुझा यूनिट में जीका वायरस संक्रमण की जांच करने की व्यवस्था की है।

यह भी पढ़ें : देश में कोविड-19 के नए मामलों में कमी पर डरा रहे हैं यह आंकड़े, जानिए ये 10 फैक्ट

उन्होंने बताया कि दो बैच में कुल 27 सैम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 26 में संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई। आठ सैम्पल्स तीसरे बैच में भेजे गए थे, जिनमें से तीन में इन्फेक्शन पाया गया है।

यह भी पढ़ें : भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा शुरू, टीवी पर कर सकेंगे लाइव दर्शन

स्वास्थ्य मंत्री जॉर्ज ने बताया कि 500 ट्रिप्लेक्स किट तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज को दिए गए हैं, इन किट्स के जरिए इन्फेक्शन के साथ-साथ डेंगू, चिकनगुनिया और जीका वायरस के आरएनए में अंतर को बताया जा सकता है। इनके अलावा 500 सिंगलप्लेक्स किट दिये गये हैं, जिनके माध्यम से केवल जीका वायरस का पता लगाया जा सकेगा। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार सरकार को कुल एनआईवी, पुणे से कुल 2100 किट्स मिले थे जिनमें से एक हजार तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज को, 300 किट त्रिशूर को, 300 कोझिकोड को और 500 किट एनआईवी, अलप्पुझा को दिए गए हैं।

क्या है जीका वायरस
यह एडीज मच्छरों से फैलने वाला वायरल संक्रमण है। इन्हीं मच्छरों के जरिए डेंगू, चिकनगुनिया जैसी बीमारियां भी फैलती हैं। ये मच्छर दिन के समय सक्रिय रहते हैं। संक्रमण होने के बाद मरीजों में बुखार, स्किन पर रैशेज, कंजक्टिवाइटिस, मसल्स तथा जोड़ों में दर्द, सिरदर्द और बैचेगी जैसे सामान्य लक्षण दिखाई देते हैं। संक्रमण के लक्षण मरीज के इन्फेक्टेड होने के लगभग 3 से 14 दिनों के बीच दिखाई देते हैं। ये लक्षण मरीज में 2 से 7 दिनों तक दिखाई दे सकते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार फिलहाल इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है। मरीजों को आराम करना चाहिए तथा अधिक से अधिक तरल पदार्थ लेना चाहिए और बुखार एवं दर्द के लिए डॉक्टर से सलाह तथा उपचार लेना चाहिए। ऐसा नहीं है कि भारत में पहली बार जिका वायरस का संक्रमण हुआ है वरन वर्ष 2017 में भी गुजरात के अहमदाबाद में इसके तीन केस सामने आए थे।

Corona virus
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned