निजी स्कूलों में नर्सरी से पहली कक्षा में दाखिले की प्रक्रिया शुरू, ड्रॉ के जारिए आएगा नंबर

नर्सरी से पहली कक्षा तक आर्थिक पिछड़े वर्ग व वंचित वर्ग की 25 फीसदी सीटों पर एडमिशन की प्रक्रिया शुरू हो गई।

नई दिल्ली। कोरोना काल में स्कूल बंद पड़े थे। दूसरी लहर के कारण दाखिला प्रक्रिया को भी रोक दिया गया था। मगर सुधरते हालात को देखते हुए मंगलवार को निजी स्कूलों में नर्सरी, केजी और पहली कक्षा में आर्थिक पिछड़े वर्ग व वंचित वर्ग की 25 फीसदी सीटों पर एडमिशन की प्रक्रिया शुरू हो गई।

Read More: कोरोना संक्रमित रह चुके लोगों की इम्यूनिटी में वैक्सीन लगने के बाद होता अधिक इजाफा, नए वैरिएंट से लड़ने में सक्षम

दाखिले के लिए पहला कंप्यूटराइज्ड ड्रॉ होगा। इस ड्रॉ में चुने जाने वाले बच्चों को स्कूलों में दाखिला मिलेगा। इसके बाद दाखिला प्रक्रिया शुरु होनी है। अभी दाखिला प्रक्रिया की तिथियों को जारी नहीं किया गया है।

ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया 7 अप्रैल से शुरू की थी

शिक्षा निदेशालय के अनुसार लगभग 1700 निजी स्कूलों में इस वर्ग के दाखिले के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया की शुरूआत 7 अप्रैल से की थी। ऑनलाइन आवेदन करने के लिए 20 दिन का समय दिया गया। अवेदन प्रक्रिया 26 अप्रैल तक समाप्त हुई। पहला कंप्यूटराइज्ड ड्रॉ 30 अप्रैल को निकाला जाना था। मगर कोरोना महामारी की दूसरी लहर में लगातार बढ़ते संक्रमण के मामलों को देखते हुए आवेदन करने की तिथि को 15 मई तक बढ़ाई गई। इसके बाद अभिभावक ड्रॉ होने का इंतजार कर रहे थे।

Read More: यमुना नदी में कम होगा प्रदूषण, नए BIS मानकों का पालन नहीं करने वाले साबुन-डिटर्जेंट पर लगी रोक

गौरतलब है कि एक लाख वार्षिक आय से कम आय वाले ईडब्ल्यूएस के अभिभावकों के बच्चे, डीजी श्रेणी के तहत अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और पिछड़ा वर्ग (नॉन क्रीमी लेयर),अनाथ, ट्रांसजेंडर व एचआईवी प्रभावित बच्चों को 22 फीसदी सीटों पर दाखिले का अवसर दिया गया है। वहीं तीन फीसदी सीटों पर दिव्यांग श्रेणी के बच्चों का दाखिला होना है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned