Coronavirus In Maharashtra: कोरोना के जबरदस्त उछाल के बीच अजित पवार ने बैठक, सख्त लॉकडाउन की तैयारी!

Coronavirus In Maharashtra अजित पवार ने पुणे में अधिकारियों के साथ की बैठक, सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के मुताबिक सख्त लॉकडाउन पर चर्चा, रूस की स्पूतनिक लाने की भी तैयारी

नई दिल्ली। देशभर में कोरोना वायरस ( Coronavirus ) का खतरा लगातार बढ़ रहा है। कुछ राज्यों में तो हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। खासतौर पर महाराष्ट्र में कोरोना वायरस का खतरा सबसे ज्यादा देखने को मिल रहा है। बीते 24 घंटे में महाराष्ट्र में एक बार फिर सबसे ज्यादा कोविड के नए केस सामने आए हैं। इन नए मामलों ने हर किसी की चिंता बढ़ा दी है।

कोरोना के इतने बड़े उछाल के बाद उपमुख्यमंत्री अजित पवार ( Ajit Pawar ) ने पुणे ( Pune ) में उच्च अधिकारियों के साथ अहम बैठक की। वहीं स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि रूस की स्पूतनिक वी वैक्सीन को महाराष्ट्र में लाने का प्रयास शुरू कर दिए गए हैं। इससे वैक्सीनेशन अभियान को गति देने में आसानी होगी।

यह भी पढ़ेँः देश में बेकाबू हो रहा कोरोना संक्रमण, एक दिन में सामने आए डराने वाले आंकड़े

महाराष्ट्र में बीते 24 घंटों में 67 हजार से ज्यादा कोरोना के नए केस सामने आने के बाद सरकार की चिंता और बढ़ गई है। एक तरफ वैक्सीन की किल्लत तो दूसरी तरफ लगातार मामलों में बढ़ोतरी के बाद सरकार कड़े कदम उठा रही है।

वहीं पुणे में कोरोना के मामलों में जबरदस्त उछाल देखने को मिला है। यही वजह है कि पुणे में उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने उच्च अधिकारियों और प्रशासन के साथ बैठक की। बैठक में लॉकडाउन को सख्ती से लागू करने को लेकर दिशा निर्देश भी दिए गए।

मंत्री अजीत पवार ने अब तक हुई समीक्षा बैठक में कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा के साथ महत्वपूर्ण दिशा निर्देश भी दिए। बैठक में सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिए गए सुझावों के साथ सख्त लॉकडाउन लगाए जाने पर भी बात हुई।

उधर दूसरी तरफ वैक्सीन की किल्लत से जूझ रहे महाराष्ट्र में रूस की स्पूतनिक वी वैक्सीन लाने की तैयारी चल रही है। स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि रूस की स्पूतनिक वी वैक्सीन को महाराष्ट्र में लाने का प्रयास शुरू कर दिया गया है।

यह भी पढ़ेँः सावधान! खाने में ज्यादा सोडियम का सेवन बन सकता है जानलेवा, WHO ने दी ये सलाह

इस विषय पर महाराष्ट्र सरकार की संबंधित कंपनी से बातचीत शुरू है। इसके लिए रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड से बातचीत कर वैक्सीन उपलब्ध करने का प्रयास किया जा रहा है।

स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक कोरोना महामारी के खतरे से निपटने के लिए अब तक राज्य में एक करोड़ 73 लाख लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। लेकिन अब भी वैक्सीन की कमी बड़ी चुनौती बनी हुई है।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned