अयोध्‍या विवाद: सुप्रीम कोर्ट में 5वें दिन राम मंदिर पर सुनवाई जारी

अयोध्‍या विवाद: सुप्रीम कोर्ट में 5वें दिन राम मंदिर पर सुनवाई जारी

Dhirendra Kumar Mishra | Publish: Aug, 13 2019 08:29:29 AM (IST) | Updated: Aug, 13 2019 01:38:08 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

  • Ayodhya dispute: मुस्लिम पक्षकार के वकील राजीव धवन कर रहे हैं बहस
  • राजीव धवन ने 5 दिन की सुनवाई पर जताया था ऐतराज
  • मुस्लिम पक्षकारों की दलील सीजेआई ने कर दिया था खारिज

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट में अयोध्‍या विवाद पर सुनवाई जारी है। आज दिन-प्रतिदिन की सुनवाई का 5वां दिन है। अयोध्‍या विवाद पर प्रधान न्‍यायाधीश रंजन गोगोई की अध्‍यक्षता में सुनवाई होगी।

मुस्लिम पक्षकारों का विरोध खारिज

इससे पहले शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में अयोध्‍या विवाद पर सुनवाई शुरू होते ही मुस्लिम पक्षकार और वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता राजीव धवन ने सप्‍ताह में 5 दिन सुनवाई का विरोध किया था। उन्‍होंने शीर्ष अदालत से कहा कि ऐसी खबरें हैं कि कोर्ट सप्‍ताह में पांच दिन इस केस की सुनवाई करेगा।

अयोध्‍या विवाद: सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर पर आज से फिर होगी नियमित सुनवाई

मुस्लिम पक्ष के वकील रजीव धवन ने कहा कि यदि सप्ताह में 5 दिन केस की सुनवाई चलती है तो यह अमानवीय होगा। केस की सुनवाई लगातार जारी रखने पर सुप्रीम कोर्ट को अपेक्षित मदद नहीं मिलेगी।

उन्‍होंने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि पांच सुनवाई का मतलब मुझ पर केस छोड़ने का दबाव बनाने जैसा भी हो सकता है।

लेकिन सेजीआई रंजन गोगोई ने इस तर्क को खारिज करते हुए सप्‍ताह में 5 दिन सुनवाई जारी रखने का निर्देश दिया था।

1857 से 1947: जानिए स्‍वतंत्रता संग्राम की प्रमुख घटनाएं जिन्‍हें जानना सबके लिए है जरूरी

बेंच की प्राथमिकता में शामिल है अयोध्‍या विवाद

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में रोजाना सुनवाई का फैसला लिया था। इसके मुताबिक हफ्ते के मंगलवार, बुधवार और गुरुवार को सुनवाई के लिए तय किया गया था। सुप्रीम कोर्ट में सोमवार और शुक्रवार को नए मामलों की सुनवाई होती है।

लेकिन गुरुवार को हुई सुनवाई के दौरान कोर्ट ने तय किया कि इस केस की सुनवाई हफ्ते के पांचों दिन होगी। ऐसा पहली बार हुआ जब संवैधानिक बेंच किसी केस की सप्ताह में 5 दिन सुनवाई करेगी।

TMC ने गोरखालैंड पर जताई आपत्ति, अमित शाह पर लगाया पश्चिम बंगाल को बांटने का आरोप

बताया जा रहा है कि इस बार अयोध्‍या विवाद पर सुनवाई संवैधानिक बेंच की प्राथमिकता में शामिल है। बेंच का मानना है कि जजों को केस पर फोकस बनाए रखना चाहिए। जिसका रिकॉर्ड 20,000 पेजों में दर्ज है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned