कोविशील्ड वैक्सीन की दो डोज के बीच अंतराल बढ़ाने की मांग, 12-16 हफ्तों का हो गैप

नेशनल इम्युनाइजेशन टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप (NTAGI) ने की सिफारिश, अभी दोनों डोज के बीच अंतराल 4-8 हफ्तों का रखा गया है।

नई दिल्ली। कोविशील्ड वैक्सीन के दो डोज के बीच अंतराल में बड़ा बदलाव किया जा सकता है। मीडिया रिपोर्ट की माने तो नेशनल इम्युनाइजेशन टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप (NTAGI) ने इस अवधि को बढ़ाकर 12-16 हफ्ते के लिए करने का आग्रह किया है। हालांकि, इस दौरान कोवैक्सीन के मामले को कोई बदलाव नहीं किया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार मंजूरी के बाद ही इन सिफारिशों को लागू किया जा सकेगा। अभी दोनों डोज के बीच अंतराल 4-8 हफ्तों का रखा गया है।

Read More: बड़ी खबर: देश में जल्द शुरू हो सकता है 2 से 18 साल के बच्चों का कोरोना वैक्सीनेशन, डीसीजीआई ने दी ट्रायल की मंजूरी

गर्भवती महिलाओं को लेकर बड़ा दावा

रिपोर्ट्स के अनुसार, NTAGI की सिफारिशों को कोरोना वायरस के लिए गठित नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप के पास भेजा जाएगा। इस दौरान गर्भवती महिलाओं को लेकर बड़ा दावा किया गया है। पैनल के अनुसार गर्भवती महिलाएं वैक्सीन का चुनाव कर सकती है। स्तनपान कराने वाली महिलाएं डिलीवरी के बाद वैक्सीन लेने के लिए तैयार होगी। NTAGI ने सलाह दी है SARS-CoV2 से पीड़ित होने वाले लोगों को टीकाकरण 6 माह के लिए टालना चाहिए।

दूसरी बार लिया गया है फैसला

गौरतलब है कि कोविशील्ड के दो डोज के बीच अंतराल को लेकर लंबे समय से चर्चा जारी है। तीन माह में यह दूसरी बार है, जब इस वैक्सीन के डोज के बीच अंतराल को बढ़ाने की सिफारिश कर गई है। मार्च में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को ये गैप 28 दिनों से 6-8 हफ्तों तक के लिए करने को कहा गया था।

Read More: महाराष्ट्र में 1 जून तक बढ़ाया गया लॉकडाउन, कोरोना की रफ्तार पर रोक के लिए बढ़ाई गई सख्तियां

कई राज्यों में वैक्सीन की कमी

भारत में 16 जनवरी को टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत हुई थी। पहले ये 45 की आयुवर्ग के ज्यादा उम्र के लोगों को दिया गया। अब इसे 18 से 45 के बीच के आयुवर्ग को दिया जा रहा है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने कोरोना वैक्सीन कोविडशील्ड और कोवैक्सीन को लगाने की अनुमति दी। मगर तीन माह बाद कई राज्यों में वैक्सीन की कमी देखने को मिली। केंद्र और राज्य सरकारों के बीच सप्लाई को लेकर तनाव जारी है। देश में अब तक 17.5 करोड़ खुराक लगाई जा चुकी हैं।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned