बड़ी खबर: देश में जल्द शुरू हो सकता है 2 से 18 साल के बच्चों का कोरोना वैक्सीनेशन, डीसीजीआई ने दी ट्रायल की मंजूरी

कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया यानी डीसीजीआई ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को 2 से 18 साल के बच्चों पर ट्रायल की मंज़ूरी पर हामी भर दी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार भारत बायोटेक की ओर से ये ट्रायल 525 वॉलंटियर्स पर होगा।

नई दिल्ली। अब देश में जल्द ही 2 साल से 18 साल तक के बच्चों का भी कोरोना वैक्सीन शुरू हो सकता है। इसके लिए सरकार की ओर से गुरुवार को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया यानी डीसीजीआई ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को 2 से 18 साल के बच्चों पर ट्रायल की मंज़ूरी पर हामी भर दी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार भारत बायोटेक की ओर से ये ट्रायल 525 वॉलंटियर्स पर होगा। यह ट्रायल 2 से 18 साल के बच्चों पर होने जा रहा कोवैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल का फेज़ 2 और फेज़ तीन होगा. ट्रायल के दौरान पहली डोज के बाद दूसरा डोज 28 दिन के बाद दिया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः- महाराष्ट्र सरकार ने ईद को लेकर लागू किए अहम नियम, पालन ना करने पर होगी कार्रवाई

तीसरी लहर की तैयारी
वास्तव में सरकार अब तीसरी लहर की तैयारी में जुट गई है। इससे पहले दूसरी लहर ने देश के हेल्थ इंफ्रा की पोल खोलकर रख दिया है। पूरे देश में तबाही का मंजर देखने को मिल रहा है। हर रोज 4000 से ज्यादा लोगों की मौत हो रही हैं। 3.50 लाख से ज्यादा नए केस सामने आ रहे हैं। जानकारों का कहना है कि भारत में अभी कोरोना की तीसरी लहर भी आने वाली है जो बच्चों पर ज्यादा खतरनाक हो सकती है।

यह भी पढ़ेंः- अदार पूनावाला का महाराष्ट्र सरकार को वादा, 20 मई तक देंगे कोविशील्ड की करीब 1.5 करोड़ खुराक

सुप्रीम कोर्ट ने भी किया था सवाल
वैज्ञानिकों की चेतावनी के बाद सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से तीसरी लहर की तैयारियों के बारे में पूछा था। जिसके बाद देश की कई राज्य सरकारों की ओर से बच्चों के लिए अलग से अस्पताल बनाने पर काम शुरू कर दिया है। वैसे वैक्सीन पर सभी निगाहें हैं। वैसे दुनिया में बहुत कम देश ऐसे हैं जहां पर बच्चों की वैक्सीन को लेकर काम शुरू हुआ है।अमेरिका में फाइजऱ की वैक्सीन को मंजूरी मिल चुकी है और 12 साल से अधिक उम्र वाले बच्चों लगाई जा रही है।

Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned