Odisha Flood से नुकसान का जायजा लेने पहुंची केंद्रीय टीम, बीजेडी सरकार ने की 1100 करोड़ की मांग

  • ओडिशा में भीषण बाढ़ और तूफान से 2.25 लाख हेक्टयर क्षेत्र में 33 फीसदी फसल बर्बाद हुई।
  • प्रदेश सरकार ने केंद्रीय टीम से पुनर्निर्माण कार्य के लिए 1100 करोड़ रुपए की मांग की।
  • केंद्रीय टीम ने बीजेडी सरकार की ओर से जनता को राहत दिलाने के लिए उठाए गए कदमों की सराहना की है।

नई दिल्ली। असम और बिहार की तरह इस बार ओडिशा में भी बाढ़ ( Odisha Flood ) की वजह से भारी नुकसान हुआ। इस बात का जायजा लेने इन दिनों केंद्रीय टीम ओडिशा में हैं। फिलहाल, ओडिशा सरकार ने केंद्र से 1100 करोड़ रुपए बतौर सहायता राशि जारी करने की मांग की है।

केंद्रीय टीम ओडिशा के दो दिवसीय दौरे पर है। केंद्रीय टीम ने बाढ़ से प्रभावित तीन जिलों का दौरा किया है। तीन जिलों का दौरा करने के बाद केंद्रीय टीम ने प्रदेश सचिवालय में मुख्य सचिव, विशेष राहत आयुक्त एवं अन्य अधिकारियों के साथ इस मुद्दे पर गहन चर्चा की।

PM Modi ने बिहार में की सौगातों की बारिश, 3000 करोड़ की परियोजनाओं से रेल नेटवर्क को मिलेगी मजबूती

ओडिशा सरकार ने सौंपी सर्वेक्षण रिपोर्ट

ओडिशा सरकार की ओर से केंद्रीय टीम को प्रदेश की जनता को बाढ़ से हुए नुकसान से राहत दिालने था पुननिर्माण कार्य के लिए एक सर्वेक्षण रिपोर्ट केंद्रीय टीम को सौंपी गई है। जानकारी के मुताबिक बाढ़ से प्रदेश की जनता को राहत दिलाने के लिए बीजेडी सरकार से उठाए गए कदमों की केंद्रीय टीम ने सराहना की है। केंद्रीय टीम ने एसडीआरएफ नियम के तहत सहायता राशि मुहैया कराने का भी प्रदेश सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों को आश्वासन दिया है।

जानकारी के मुताबिक ओडिशा सरकार ने नदी बांध निर्माण एवं मरम्मत, मकानों को हुए नुकसान और टूटे सड़कों के पुनर्निर्माण के लिए केंद्रीय टीम से सहायता राशि जल्द मुहैया कराने का अनुरोध किया है।

Agriculture Bill लोकसभा से पास होते ही मोदी सरकार को लगा झटका, जानें क्यों हो रहा है इसका विरोध

गौरतलब है कि ओडिशा में भीषण बाढ़ और तूफान से लगभग 2.25 लाख हेक्टयर क्षेत्र में 33 फीसदी फसल बर्बाद हो गई है। इसके साथ 1.20 लाख आवास मकान ध्वस्त हो गए। विशेष आयुक्त राहत प्रदीप कुमार जेना ने कहा है कि प्रदेश में कई सड़कें कटाव की वजह से बह गईं।

प्रदीप कुमार जेना बताया कि इस सहायता राशि के अलावे आपदा प्रतिरोध के लिए स्थाई कदम उठाने के मकसद से आवश्यक राशि मुहैया कराने के लिए एक स्मारक पत्र केंद्र सरकार सौंपी गई हैं।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned