59 Chinese app Ban किए जाने से बैचेन China, India के साथ Bilateral talks में उठाया मुद्दा

  • India-China Dispute में आई नरमी के बाद चीन ने Ban of 59 Chinese apps किए जाने का मुद्दा उठाया
  • India ने China को दो टूक कहा है कि ऐप्स पर प्रतिबंध राष्ट्रीय सुरक्षा कारणों को देखते हुए किया गया

नई दिल्ली। लद्दाख की गलवान घाटी ( Galwan Valley ) में सैनिकों के बीच खूनी संघर्ष को लेकर भारत-चीन सीमा ( India-China Dispute ) पर तनातनी में आई नरमी के बाद चीन ( China ) ने अब 59 चीनी ऐप्स के बैन ( 59 Chinese app Ban ) किए जाने का मुद्दा उठाया है। भारत के साथ हाल ही में द्विपक्षीय वार्ता ( Bilateral talks ) के दौरान चीन ने यह मुदृा उठाया। आपको बता दें कि भारत सरकार ( Indian Goverment ) ने लद्दाख में चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद ( India-China Border dispute ) के बीच 59 चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी। सरकार की ओर से सुरक्षात्मक द्रष्टिकोण से इन एप्स पर प्रतिबंध लगाने की बात कही गई थी। भारत के इस कदम के बाद चीन के विदेश मंत्रालय ( Foreign Ministry of China ) के प्रवक्ता ने कहा था कि इससे हम काफी चिंतित हैं।

यह खबर भी पढ़ें— Maharashtra में अब Corona Drug Remdesivir खरीदने के लिए दिखाना होगा Aadhaar card, कालाबाजारी पर लगेगी रोक

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार दोनों देशों के बीच हाल ही में राजनयिक स्तर की एक बैठक हुई थी। इस बैठक में चीन ने भारत में अपनी मोबाइल ऐप्स पर प्रतिबंध का मुद्दा उठाया है। सूत्रों की मानें तो इस दौरान भारत ने चीन को दो टूक कहा है कि ऐप्स पर प्रतिबंध राष्ट्रीय सुरक्षा कारणों को देखते हुए किया गया है। भारत नहीं चाहता है कि हमारे नागरिकों के डेटा से किसी भी तरह की कोई छेड़छाड़ हो। गौरतलब है कि भारत द्वारा बैन की गई 59 चीनी मोबाइल ऐप्स पर सुरक्षा और भारतीय यूजर्स के डाटा का गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगा है। इन ऐप्स में टिकटॉक, वीचैट, हेलो आदि शामिल हैं।

यह खबर भी पढ़ें— Weather Update: Deli-NCR में 24 घंटे के भीतर Heavy Rain के आसार, जाने इन राज्य में कैसा रहेगा मौसम का हाल?

आपको बता दें कि भारत ने चीनी ऐप्स पर बैन सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69 ए ( Information Technology Act ) के तहत लगाया है। इसको लेकर एक सरकारी बयान में कहा गया कि भारत के प्रति शत्रुता रखने वाले तत्वों द्वारा इन भारतीय नागरिकों ( Indian citizens ) के डाटा से छेड़छाड़ भारत की संप्रभुता और अखंडता पर गहरी चोट है। यह एक बेहद गंभीर मामला है। इस समस्या से निपटने के लिए आपातकालीन उपायों की जरूरत है। इसके चलते गृह मंत्रालय के तहत काम करने वाले भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र ( Indian Cyber Crime Coordination Center ) की ओर से इन एप्स को बैन करने की सिफारिश की गई थी।

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned