कांग्रेस की महिला विधायकों के ट्रैक्टर खींचने पर भावुक हुए सीएम खट्टर, कहा- ये देखकर रातभर सो नहीं पाया

Highlights

  • कहा, महिला दिवस पर महिला विधायकों के साथ बंधुवा मजदूरों जैसा व्यवहार हुआ।
  • पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि महिलाओं को देखकर आपका दिल क्यों नहीं पसीजता?

नई दिल्ली। महिला दिवस के मौके पर पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा को ट्रैक्टर पर बैठाकर महिला विधायकों द्वारा रस्से से खींचने को लेकर सीएम मनोहर लाल विधानसभा में भावुक हो गए।

अपने आंसू पोंछते हुए सीएम ने कहा, महिला दिवस पर महिला विधायकों के साथ बंधुवा मजदूरों जैसा व्यवहार हुआ। इसे देखकर इतना दर्द हुआ कि वह सारी रात सो नहीं सके।

बंगाल चुनाव: ममता बनर्जी ने टी-स्टॉल पर खुद चाय बनाई, भाजपा पर जबरदस्त हमला बोला

कुछ देर बाद पलटवार कर पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि, किसान आंदोलन में दिल्ली सीमा पर अपने बच्चों के साथ खुले आसमान के नीचे बैठीं महिलाओं को देखकर आपका दिल क्यों नहीं पसीजता? कांग्रेसी विधायक किरण चौधरी भी हुड्डा के सुर में सुर मिलाया। उन्होंने सीएम पर सवाल दागा कि प्रदेश में बढ़ते महिलाओं पर अपराध पर लगाम क्यों नहीं लगाते?

इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि एक ओर केंद्र और प्रदेश सरकार महिलाओं को सम्मान के लिए इतनी योजनाएं ला रही हैं। दूसरी ओर कांग्रेस विधायकों के साथ इस तरह का सलूक करती है। विधायक गीता भुक्कल और शकुंतला खटक को रस्से से ट्रैक्टर खिंचवा रहे हैं। वो भी महिला दिवस के मौके पर। हमारी सरकार ने इस दिन पूरा सदन ही महिलाओं को सौंप दिया।

सीएम ने कहा कि होना तो ये चाहिए कि महिला दिवस पर महिला विधायकों को ट्रैक्टर पर बैठाते और खुद इसे खींचते तो इसका मैसेज ज्यादा अच्छा जाता। विरोध प्रदर्शन करना सभी का हक है, लेकिन इसमें मर्यादा जरूरी है। इस बीच, किरण चौधरी और गीता भुक्कल भी हुड्डा के समर्थन में खड़ी हो गई और महिलाओं पर बढ़ते अपराध पर हमला बोला।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned