कोरोना पॉजिटिव अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को AIIMS में सीधे मिल गया बेड, लोग पूछ रहे हैं सवाल

तिहाड़ जेल में बंद अंडरवर्ल्ड डॉन राजेंद्र सदाशिव निखलजे ऊर्फ छोटा राजन (Chhota Rajan) को दिल्ली एम्स (Delhi AIIMS) में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। बीते शनिवार को छोटा राजन की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के प्रकोप के बीच कई राज्यों में ऑक्सीजन की कमी से हाहाकार मचा है और 50 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। वहीं अस्पतालों में बेड की कमी की वजह से हजारों हजार लोगों को तकलीफ का सामना करना पड़ रहा है।

इस बीच तिहाड़ जेल में बंद अंडरवर्ल्ड डॉन राजेंद्र सदाशिव निखलजे ऊर्फ छोटा राजन (Chhota Rajan) को दिल्ली एम्स (Delhi AIIMS) में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। बीते शनिवार को छोटा राजन की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें भर्ती कराया गया है। बीते दिन सोमवार (26 अप्रैल) को तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने सेशन कोर्ट को जानकारी देते हुए बताया कि छोटा राजन की हालत अभी स्थिर है।

यह भी पढ़ें :- Coronavirus India Live Updates : कोरोना संक्रमण के चलते देश में बिगड़े हालात, पिछले 24 घंटों में 3 लाख से अधिक नए केस दर्ज

सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए छोटा राजन को कोर्ट में पेश होना था, लेकिन अधिकारियों ने जानकारी देते हुए कोर्ट को बताया कि चूंकि उसकी कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, इसलिए इलाज के लिए AIIMS में भर्ती कराया गया है। एम्स में छोटा राजन को सीधे बेड मिलने पर लोग हैरान हैं। सोशल मीडिया पर लगातार ये सवाल पूछ रहे हैं कि आखिर इन्हें कैसे बेड मिल गया, जबकि आम लोगों को किसी भी अस्पताल में आसानी से बेड नहीं मिल रहा है।

बता दें कि छोटा राजन को तिहाड़ के जिस सेल में रखा गया था, उसी सेल में कुछ दिन पहले पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। छोटा राजन 2015 से तिहाड़ जेल में बंद है। उसे इंडोनेशिया के बाली से गिरफ्तार किया गया था।

सोशल मीडिया पर लोग पूछ रहे हैं सवाल

बता दें कि दिल्ली एम्स में छोटा राजन को सीधे बेड मिलने को लेकर सोशल मीडिया पर लोग हैरानी जता रहे हैं और सवाल पूछ रहे हैं। लोगों का कहना है कि जहां एक ओर आम लोगों को अस्पतालों मे बेड नहीं मिल रहा है वहीं ऐसे लोगों को तुरंत बेड कैसे मिल जा रहा है?

एक ट्वीटर यूजर ने लिखा 'देश में आम इंसान रोड पर तड़प के मर जाए लेकिन आतंकवादियों को दमाद से कम ट्रीट नहीं करेंगे'। वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा कि यहां नॉर्मल लोगों को एडमिशन नहीं मिल रहा और डॉन को AIIMS.. बेटर था कि हम भी डॉन बन जाते।

यह भी पढ़ें :- दिली एम्स में ऑक्सीजन की कमी से इमरजेंसी सेवा बंद! हॉस्पिटल ने दिया स्पष्टीकरण

मालूम हो कि छोटा राजन पर 70 से ज़्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं। सबसे चर्चित पत्रकार ज्योतिर्मय डे की हत्या मामले में छोटा राजन को कोर्ट ने दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई है। बीते हफ्ते ही मुंबई की एक विशेष सीबीआई अदालत ने हनीफ कड़ावाला की हत्या के मामले में छोटा राजन और उसके गुर्गे को बरी कर दिया था।

screenshot_from_2021-04-27_18-57-09.pngscreenshot_from_2021-04-27_18-56-52.png
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned