Drone से होगी Corona Vaccine की डिलिवरी, 20 कंपनियों को सरकार से मिली मंजूरी

  • Corona संकट के बीच Drone से होगी वैक्सीन की डिलिवरी
  • नागरिक विमानन मंत्रालय ने 7 और कंपनियों को दी इजाजत है
  • 20 कंपनियों को मिली ड्रोन की लंबी अवधि की उड़ानों के प्रयोग की मंजूरी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ( Coronavirus ) महामारी से पूरी दुनिया परेशान है। हालांकि नए वर्ष की शुरुआत के साथ ही वैक्सीनेशन ने थोड़ी राहत जरूरी दी है। देशभर में भी लगातार ड्राई रन के जरिए वैक्सीनेशन की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। माना जा रहा है कि अगले हफ्ते से भारत में टीकाकरण भी शुरू हो सकता है।

इस बीच एक बड़ी खबर सामने आई है। दरअसल सरकार ने 7 और कंपनियों को ड्रोन ( Drone ) की लंबी अवधि की उड़ानों के प्रयोग की मंजूरी दी है। इसके मुताबिक आने वाले दिनों में पिज्जा (Pizza) से लेकर वैक्सीन (Vaccine) तक की डिलीवरी ड्रोन से हो सकेगी।

डोनाल्ड ट्रंप से बात करेंग केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले! बोले- हमारी पार्टी की छवि को किया धूमिल

स्विगी भी शामिल
नागरिक विमानन मंत्रालय ने 7 और कंपनियों को ड्रोन की लंबी अवधि की उड़ानों के प्रयोग करने की इजाजत दे दी है। इसमें फूड डिलीवरी कंपनी स्विगी ( Swiggy ) भी शामिल है। स्विगी, Skylark के साथ मिलकर इस पर प्रयोग कर रही है।

ये होगा फायदा
इस सुविधा के शुरू होने से समय की बचत तो होगी ही साथ ही लोगों को घर बैठे सुविधा भी मिलेगी। यही नहीं इसका सबसे बड़ा फायदा रिमोट एरिया ( ग्रामीण क्षेत्रों ) में इन वस्तुओं को पहुंचाने में सहूलियत मिल सकेगी।

ये कंपनी कर रही काम
तेलंगाना सरकार के साथ मेडिकल सप्लाई डिलिवरी पर काम कर रही मारूत ड्रोनटेक को भी बीवीएलओसी ( BVLOS ) की अनुमति मिली है।

काम कर रहे 52 ड्रोन
कोविड के दौरान मारूत ड्रोनटेक कंपनी ने काफी काम किया है। इस दौरान करीब 52 ड्रोन काम में जुटे रहे। कंपनी ने वैक्सीन की सप्लाई के लिए इच्छा जताई है।

इन कंपनियों को भी मिली इजाजत
स्विगी और मारुत ड्रोनटेक के साथ-साथ ऑटो माइक्रो यूएएस, सेंटिलियन नेटवर्क, टेराड्रोन, वर्जिनाटेक को भी BVLOS की इजाजत मिली है।

मौसम विभाग ने जारी किया अब तक का सबसे बड़ा अलर्ट, इस बार ठंड के टूटेंगे सारे रिकॉर्ड, इन राज्यों में बारिश और बर्फबारी से बढ़ेगी मुश्किल

ये है BVLOS
BVLOS फ्लाइट्स को विजुअल रेंज के आगे भी उड़ाया जा सकता है। साथ ही, इससे ड्रोन्स को अधिक दूरी तय करने में भी मदद मिलती है। इसे कई तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है और यह बेहद किफायती भी होता है। दुनियाभर के कई देश इसे लेकर अपने ड्रोन पॉलिसी में संशोधन कर रहे हैं ताकि मानवरहित एरियल व्हीकल्स (UAV's) को अधिकतम दक्षता के साथ उड़ाया जा सके।

13 कंपनियों को पिछले वर्ष मिली थी मंजूरी
आपको बता दें कि वर्ष 2020 में ही 13 अन्य कंपनियों को ड्रोन से सप्लाई की इजाजत मिल चुकी है। नई 7 कंपनियों के साथ कुल कंपनियों की संख्या 20 हो चुकी है।

पहले जिन कंपनियों को मंजूरी दी गई उनमें स्पाइसजेट (SpiceJet) के डिलीवरी विंग SpiceXpress प्रमुख रूप से शामिल है।

Coronavirus in india
Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned