खुलासा: कोरोना के बाद मरीज को है सबसे बड़ा खतरा, जा सकती है जान

शोध में खुलासा हुआ है कि कोरोना मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने के दौरान स्ट्रोक लगने खतरा ज्यादा है

नई दिल्ली। भारत समेत दुनिया के तमाम देशों में एक बार फिर कोरोना वायरस ( coronavirus in India ) तबाही मचा रहा है। इस बीच अमरीका में हुए एक नए शोध से खुलासा हुआ है कि हॉस्पिटल में भर्ती कोविड-19 के मरीजों को स्ट्रोक लगने का खतरा अपेक्षाकृत अधिक रहता है। दरअसल, यह खतरा उन मरीजों के मुकाबले में अधिक होता है, जिनमें पहले के जांच में इन्फ्लूएंजा और सेप्सिस जैसी संक्रामक स्थितियां पाई गई थीं। अंतर्राष्ट्रीय स्ट्रोक कॉन्फ्रेंस 2021 में प्रस्तुत शोध के निष्कर्ष से पता चला है कि कोरोना वायरस कार्डियोवस्कुलर डिजीज ( Cardiovascular disease ) रजिस्ट्री में 1.4 प्रतिशत मरीजों को हॉस्पिटल में भर्ती होने के दौरान नैदानिक इमेजिंग द्वारा पुष्टि की गई थी।

COVID-19: देश में फिर से डराने लगा कोरोना, सरकार उठा रही सख्त कदम

कोविड-19 स्ट्रोक के जोखिम को बढ़ा सकता है

इनमें से 52.7 प्रतिशत मरीजों ने इस्कीमिक स्ट्रोक का अनुभव किया, 2.5 प्रतिशत को क्षणिक इस्केमिक अटैक ( TIA ) आया और 45.2 प्रतिशत ने रक्तस्राव स्ट्रोक या अनिर्दिष्ट प्रकार के स्ट्रोक का अनुभव किया। वाशिंगटन विश्वविद्यालय के प्रमुख लेखक सैटे एस. शकील ने कहा कि इन निष्कर्षो से पता चलता है कि कोविड-19 स्ट्रोक के जोखिम को बढ़ा सकता है, हालांकि इससे संबंधित सटीक तंत्र अभी भी अज्ञात है। शकील ने कहा कि जैसा कि महामारी जारी है, हम पा रहे हैं कि कोरोनावायरस सिर्फ एक श्वसन बीमारी नहीं है, बल्कि एक संवहनी बीमारी है जो कई अंग प्रणालियों को प्रभावित कर सकती है। टीम ने अध्ययन के लिए अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के कोविड-19 सीवीडी रजिस्ट्री का सहारा लिया, जिसमें पूरे अमेरिका के अस्पतालों में भर्ती कोविड-19 के साथ 20,000 से ज्यादा मरीज शामिल थे।

क्या देश में सबको नहीं लगेगी कोरोना वैक्सीन? जानिए स्वास्थ्य मंत्री का जवाब

स्ट्रोक के विनाशकारी परिणाम

विश्लेषण में यह भी पाया गया कि स्ट्रोक वाले रोगियों की तुलना में किसी भी प्रकार के स्ट्रोक वाले पुरुष और वृद्ध (औसत उम्र 65) होने की संभावना अधिक थी। अधिकांश इस्केमिक स्ट्रोक के रोगियों में बिना स्ट्रोक के रोगियों की तुलना में उच्च रक्तचाप था। शकील ने कहा कि अपने दम पर स्ट्रोक के विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं और कोविड-19 से उबरना अक्सर जीवित रहने वालों के लिए एक कठिन रास्ता होता है। उन्होंने कहा कि यह पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है कि हम सार्वजनिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप और व्यापक वैक्सीन वितरण के माध्यम से कोविड-19 के प्रसार पर अंकुश लगा सकते हैं।

coronavirus Coronavirus in india Coronavirus In India in Hindi
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned