Data Story: भारत में चार साल में 19 गुना तक कम हुआ डेटा की कीमत, इंटरनेट यूजर्स की संख्या 75 करोड़ पार

HIGHLIGHTS

  • Patrika Data Story: भारत में 15 अगस्त 2020 को इंटरनेट की शुरूआत के 25 साल पूरे हो गए।
  • वर्तमान में भारत में इंटरनेट यूजर्स की संख्या 76 करोड़ से अधिक है।
  • बीते चार वर्षों में डेटा इस्तेमाल में बढ़ोतरी और कीमत में 19 गुना तक की कमी देखने को मिला है।

नई दिल्ली। इंटरनेट ( Internet ) एक ऐसा माध्यम है जिसके बिना आज जिन्दगी की कल्पना करना शायद ही मुश्किल है। आज संभवतः कोई ऐसा क्षेत्र बचा हो जहां पर इंटरनेट का इस्तेमाल न किया जाता हो। यही कारण है कि इसकी उपयोगिता के मद्देनजर इंटरनेट यूजर्स ( Internet Users ) की संख्या में काफी तेजी से बढ़ोतरी हुई है। इतना ही नहीं, बढ़ते इंटरनेट यूजर्स को देखते हुए इंटरनेट सेवा देने वाली कंपनियों ने डेटा की कीमतों में भी भारी कटौती की है। भारत में चार सालों में 19 गुना तक इंटरनेट डेटा के कीमतों में कमी देखने को मिली है।

भारत में 15 अगस्त 2020 को इंटरनेट की शुरूआत के 25 साल पूरे हो गए। बीते 25 वर्षों में दुनियाभर में इंटरनेट इस्तेमाल को लेकर कई परिवर्तन देखने को मिले हैं। भारत की बात करें तो इन 25 वर्षों में कई ऐतिहासिक रिकॉर्ड ( Internet Uses In India ) बने हैं और आम लोगों तक इंटरनेट की सुविधा पहुंची है। इसी महीने भारत में इंटरनेट यूजर्स की संख्या 75 करोड़ पार कर गई है। आम नागरिकों को जीवन को बदलने में इंटरनेट ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

देश में इंटरनेट प्रयोग करने वाले 45.1 करोड़ लोगों में 67 फीसदी पुरुष

डेटा इस्तेमाल की बात करें तो भारत में प्रतिव्यक्ति डेटा का इस्तेमाल दुनिया में सबसे अधिक औसतन 12 GB तक होता है। आइए कुछ आंकड़ों से समझते हैं भारत में इन 25 वर्षों में इंटरनेट के इस्तेमाल में किस तरह से क्या-क्या परिवर्तन देखने को मिला है..

patrika_data_story_1.jpeg

इंटरनेट यूजर्स की संख्या चार वर्षों में दोगुना

आपको बता दें कि इटंरनेटर यूजर्स की संख्या बीते चार वर्षों में दो गुना से अधिक हो गया है। इससे पहले 21 वर्षों में जीतने इंटरनेट यूजर्स थे उससे कहीं अधिक बीते चार वर्षों में बढ़ गए हैं। इसके कई कारण है। टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) की ओर से जारी जून 2020 की तिमाही रिपोर्ट के अनुसार, भारत में जून 2015 में 31.94 करोड़ इंटरनेट यूजर्स थे, वहीं 2016 में थोड़ा से इसमें कमी देखने को मिला। जून 2016 में यह संख्या 30.05 करोड़ रही। लेकिन इसके बाद से इंटरनेट यूजर्स की संख्या में रफ्तार देखने को मिली। जून 2017 में 43.12, जून 2018 में 51.22 करोड़, जून 2019 में 66.54 करोड़ और जून 2020 तक ये आंकड़ा बढ़कर 74.91 करोड़ हो गया। वर्तमान समय तक भारत में 76 करोड़ लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। औसतन हर महीने करीब 71 लाख नए यूजर्स जुड़ रहे हैं।

अब तक नहीं बिछाए गए ऑप्टिकल केबल, गांवों तक इंटरनेट की सुविधा पहुंचाने का सपना अधूरा

राज्यों की बात करें तो महाराष्ट्र में 6.4 करोड़, आंध्रप्रदेश में 5.9 करोड़ , तमिलनाडु में 5.1 करोड़, गुजरात में 4.5 करोड़ और कर्नाटक 4.6 करोड़ इंटरनेट यूजर्स हैं। देश के बाकी 23 राज्यों और 9 केंद्रशासित प्रदेशों में 65फीसदी इंटरनेट यूजर्स हैं।

patrika_data_story_3.jpeg

डेटा कीमतों में 19 गुना की कमी

भारत में इंटरनेट यूजर्स की संख्या में जहां बीते चार वर्षों में भारी बढ़ोतरी देखने को मिला है, वहीं डेटा कीमतों में भी भारी कमी देखने को मिला है। इसके कई कारण हो सकते हैं। TRAI के आंकड़ों पर नजर डालें तो बीते चार वर्षों में लगभग 19 गुना तक डेटा के कीमतों में कमी देखने को मिला है।

एक और जहां प्रतिव्यक्ति डेटा इस्तेमाल काफी बढ़ गया है, वहीं प्रति जीबी डेटा के कीमतों में भी कमी हुई है। जून 2016 की बात करें तो तब एक जीबी डेटा की कीमत 200 रुपये के करीब था, लेकिन वहीं अब जून 2020 की बात करें तो इसकी कीमत में 19 गुना की कटौती देखने को मिला है। मौजूदा समय में एक जीबी डेटा की कीमत औसतन 10.55 रुपये (करीब 11 रुपये) है। जून 2017 में एक जीबी डेटा की कीमत 17.43 रुपये, 2018 में 12.06 रुपये और 2019 में 7.70 रुपये एक जीबी डेटा की कीमत थी।

patrika_data_story1.jpeg

प्रति व्यक्ति डेटा खर्च में 10 गुना इजाफा

पूरी दुनिया में भारत डेटा खर्च में सबसे आगे है। इसके कई कारण हो सकते हैं, लेकिन 2016 में रिलायंस जियो के फ्री डेटा के पेशकश की वजह से इंटरनेट यूजर्स की संख्या में बढ़ोतरी होने के साथ ही डेटा खर्च में भी बढ़ोतरी हुई है। बीते चार वर्षों में डेटा खर्च में 10 गुना तक बढ़ोतरी देखने को मिला है। 2017 में प्रति व्यक्ति जहां महज 1.2 जीबी डेटा का इस्तेमाल करता था, वहीं 2020 में 12.2 जीबी डेटा प्रतिव्यक्ति खर्च किया जा रहा है। TRAI के आंकड़ों के अनुसार, 2017 में 1.2 GB डेटा इस्तेमाल किया गया। वहीं 2018 में ये आंकड़ा बढ़कर 3.2 GB और 2019 में 9.8 GB प्रति व्यक्ति हो गया।

patrika_data_story_2.jpeg

डेटा खर्च में भारत सबसे आगे

आपको बता दें कि पूरी दुनिया में प्रति व्यक्ति डेटा खर्च करने के मामले में भी भारत सबसे आगे है। वर्तमान समय में भारत में प्रतिव्यक्ति डेटा का इस्तेमाल 12 जीबी है। वहीं उत्तरी अमरीका में 8.5 GB, पश्चिमी यूरोप में 8.2 GB, उत्तर-पूर्व एशिया में 7.5 GB, चीन में 7.5 GB, मध्य-पूर्व यूरोप में 5.8 GB तक प्रतिव्यक्ति डेटा का खर्च किया जाता है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned