Delhi: अमित शाह की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक खत्म, अगले 2 दिनों में कोरोना टेस्टिंग होगी दोगुनी

  • सर्वदलीय बैठक में बीजेपी, आप, कांग्रेस और बसपा को मिला आमंत्रण।
  • शाह की पहल केजरीवाल ने बताया सार्थक, कहा - मिलकर करेंगे कोरोना का सफाया।
  • हॉटस्पॉट्स में घर-घर जाकर व्यापक स्वास्थ्य सर्वेक्षण कराया जाएगा।

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के लगातार बढ़ते मामले को लेकर केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में आज सर्वदलीय बैठक हुई। बैठक में बीजेपी के आदेश गुप्ता, दिल्ली कांग्रेस चीफ अनिल कुमार और आम आदमी पार्टी नेता संजय कुमार व बसपा नेता भी मौजूद थे। बैठक में दिल्ली में कोरोना टेस्ट बढ़ाने की मांग की गई। कांग्रेस अध्यक्ष ने अनिल चौधरी ने कोरोना से प्रभावित सभी परिवारों व कंटेनमेंट जोन के सभी परिवारों को 10—10 हजार रुपए सहायता राशि देने की मांग की।

देशभर में कोरोना वायरस महामारी ( Corona Pandemic ) के खिलाफ संकट गहराता जा रहा है। खासकर दिल्ली में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए गृहमंत्री अमित शाह ( Home Minister Amit Shah ) ने खुद मोर्चा संभाल लिया है। ताकि कोरोना के खिलाफ सभी की सहमति से एक प्रभावी रणनीति तैयार कर जल्द से जल्द दिल्लीवासियों को कोरोना के कहर ( Coronavirus Impact ) से राहत दिलाना संभव हो सके।

4 घंटे तक चली बैठक

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने रविवार को जानकारी दी कि इस मुद्दे पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ( CM Arvind Kejriwal ) और उप-राज्यपाल अनिल बैजल ( LG Anil Baijal ) की करीब चार घंटे तक बैठक चली। बैठक के बाद केंद्र ने दिल्ली के लिए विशेषज्ञों की तीन टीमें बनाई हैं। इनका काम दिल्ली के अस्पतालों का निरीक्षण करने के साथ ही कोविड-19 मामलों के क्लीनिकल मैनेजमेंट पर उनको गाइड करना है।

जासूसी कांड के बाद बौखलाया पाक, भारत ने दिलाए विएना समझौतों की याद

उन्होंने कहा कि अमित शाह ने शहर में अगले दो दिनों में कोविड-19 ( Covid-19 ) की जांच की संख्या दोगुनी करने की घोषणा की है। इसके बाद इसे तीन गुना किया जाएगा। गृह मंत्री ने कहा कि कुछ दिनों में दिल्ली के निषिद्ध क्षेत्रों में हर मतदान केंद्र पर कोविड-19 की जांच शुरू की जाएगी और संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने के लिए अधिक प्रभावित क्षेत्रों यानी हॉटस्पॉट्स में घर-घर जाकर व्यापक स्वास्थ्य सर्वेक्षण कराया जाएगा।

शाह और केजरीवाल मिलकर कोरोना को करेंगे नियंत्रित

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को हुई बैठक को काफी रचनात्मक सार्थक रहा। उन्होंने कहा कि अब दिल्ली में प्रदेश और केंद्र सरकार मिलकर कोरोना को नियंत्रित करने का काम करेंगे। इस बैठक में निजी अस्पतालों को 60 फीसदी बेड कोविद-19 मरीजों के लिए आरक्षित रखने को कहा गया है। साथ ही प्रदेश सरकार को भारतीय रेल ( Indian Rail ) के 500 बोगियों को हॉस्पिटल में तब्दील करने के लिए दिया गया है।

भारत में Coronavirus महामारी नवंबर में चरम पर होगी : ICMR

SC और DHC ने लगाई थी फटकार

सु्प्रीम कोर्ट ( SC ) और दिल्ली हाईकोर्ट ( DHC ) द्वारा दो दिन पहले दिल्ली के अस्पतालों में खराब स्थिति को लेकर फटकार लगाए जाने के बाद यह कदम उठाया गया है। न्यायालय ने राष्ट्रीय राजधानी में कम संख्या में हो रही जांच पर भी नाराजगी जाहिर करते हुए इन्हें बढ़ाने को कहा था। दिल्ली में कोविड-19 की गंभीर स्थिति को देखते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय ने भी आप सरकार और केंद्र को कोरोना वायरस से संक्रमितों के लिए बिस्तरों और वेंटिलेटरों की संख्या बढ़ाने को कहा था।

कोरोना मरीजों की संख्या 40 हजार पार

बता दें कि दिल्ली में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 40 हजार से ज्यादा हो गई है। देश की राजधानी में इस महामारी से 1,200 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना मरीजों की तेजी से बढ़ती संख्या को देखते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने राजनीतिक दलों के साथ कोविड-19 से निपटने के लिए आज सभी राजनीतिक दलों की बैठक बुलाई है।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned