दिल्ली में 1 नवंबर से फिर शुरू होगी High Security Registration Plates की ऑनलाइन बुकिंग

  • तकनीकी समस्या के चलते दिल्ली सरकार ने अस्थायी रूप से बंद कर दी थी ऑनलाइन बुकिंग।
  • हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट ( HSRP number plate ) और कलर कोड वाले स्टिकर सभी वाहनों के लिए जरूरी।
  • अब इनके आउटलेट्स की संख्या मौजूदा 150 से बढ़ाकर 650 की जाएगी और हर अपडेट एसएमएस से।

नई दिल्ली। दिल्ली में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट (एचएसआरपी) और कलर कोड वाले स्टिकर के लिए ऑनलाइन बुकिंग 1 नवंबर, 2020 से फिर से शुरू हो जाएगी। राज्य सरकार ने ऑनलाइन बुकिंग की प्रणाली के कारण अस्थायी रूप से प्रक्रिया को रोक दिया था और प्लेट्स ( high security registration plates ) समय पर तैयार नहीं हो रही थीं।

अगर आप भी नई कार खरीदने की सोच रहे हैं, तो दिल्ली सरकार की इस योजना से लें 1.50 लाख तक का फायदा

दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने भारतीय ऑटोमोबाइल निर्माता सोसाइटी (SIAM) के प्रतिनिधियों से मुलाकात कर इसके तौर-तरीकों पर चर्चा की। यह निर्णय लिया गया है कि अब इन हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट्स और कलर कोड स्टिकर लगाए जा सकने वाले आउटलेट्स की संख्या मौजूदा 150 से बढ़ाकर 650 कर दी जाएगी।

सरकार ने यह भी कहा है कि हर चरण में ग्राहक को एसएमएस के माध्यम से सूचित किया जाएगा और हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट और कलर कोड वाले स्टिकर की होम डिलीवरी का विकल्प प्रदान किया जाएगा।

दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग ने हाल ही में जारी एक सार्वजनिक नोटिस में अप्रैल 2019 से पहले पंजीकृत वाहनों के मालिकों को बिना देरी के हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट (एचएसआरपी) और कलर कोड वाले स्टिकर प्राप्त करने के लिए कहा था।

आरोग्य सेतु ऐप किसने बनाया, बन गया है सबसे बड़ा राज, ना सरकार को पता ना ही NIC को, अब मांगा जवाब

2019 से पहले पंजीकृत 10 लाख कारों और 20 लाख दोपहिया वाहनों सहित दिल्ली में लगभग 30 लाख वाहनों को एचएसआरपी और तीसरा कलर कोड वाला स्टिकर लगाना जरूरी होगा। बुकिंग के बाद इस प्रक्रिया के दौरान हर चरण में ग्राहक को एसएमएस के माध्यम से सारी जानकारियां मुहैया कराई जाएंगी।

ईंधन के प्रकार के आधार पर वाहनों की पहचान के लिए कलर कोड वाले स्टिकर की जरूरत होती है। जैसे पेट्रोल और सीएनजी के लिए हल्के नीले और डीजल वाहनों के लिए नारंगी रंग के कलर कोड स्टिकर चाहिए होंगे। इनमें रजिस्ट्रेशन नंबर, रजिस्ट्ररिंग अथॉरिटी, एक लेजर-ब्रांडेड पिन और वाहन के इंजन और चेसिस नंबर जैसे विवरण दर्ज किए जाते हैं। 1 अप्रैल 2019 के बाद पंजीकृत नए वाहन HSRP और कलर कोड वाले स्टिकर दोनों से लैस आते हैं।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned