Earthquake: बीते 12 घंटे में भूकंप के झटकों से थर्राए देश के 4 राज्य, ये है बड़ी वजह

  • Earthquake देश के चार राज्य बीते 12 घंटों में भूकंप के झटकों से कांपे
  • दिल्ली, यूपी के कुछ जिले, राजस्थान और मणिपुर में थर्राई धरती
  • राजधानी में अप्रैल से अब तक 15 बार से ज्यादा महसूस किए गए भूकंप के झटके

नई दिल्ली। देशभर के ज्यादातर इलाकों में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। सर्दी के इस सितम के बीच देश के चार राज्यों में बीते 12 घंटे में भूकंप ( Earthquake ) के झटके महसूस किए गए हैं। देर रात जहां दिल्ली ( Delhi ) में भूकंप के झटकों से धरती कांपी तो वहीं यूपी के कुछ जिलों नोएडा, गाजियाबाद में ये भी ये झटके महसूस किए गए। इसके साथ ही राज्सथान ( Rajasthan ) और मणिपुर ( Manipur ) में भी भूकंप के झटकों से धरती थर्राई है।

ये झटके इतने तेज थे कि लोगों को महसूस भी हुए और कुछ लोग तो घरों से बाहर भी निकल आए। आईए जानते हैं कि देशभर के ज्यादातर इलाकों में भूकंप के झटकों की क्या है बड़ी वजह।

पीएम मोदी ने बार-बार देने पर भी नहीं पहना मास्क, आप ने वीडियो साझा कर इस तरह कसा तंज

दिल्ली-एनसीआर में जोरदार झटके
दिल्ली और उससे सटे उत्तर प्रदेश के जिलों में गुरुवार देर रात भूकंप के जोरदार झटके महसूस किए गए। देर रात करीब 11.46 मिनट पर भूकंप के झटकों से दिल्ली-एनसीआरवासी घबरा गए। भूकंप की तीव्रता 4.2 मापी गई।
भूकंप का केंद्र गुरुग्राम से 48 किलोमीटर दक्षिण पश्चिम बताया जा रहा है। इससे पहले 2 दिसंबर को तड़के दिल्ली-एनसीआर में हल्के भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।

अप्रैल के बाद 15 से ज्यादा बार कांपी धरती
आपको बता दें कि अप्रैल के बाद दिल्ली-एनसीआर में इस बार 15 से ज्यादा बार भूकंप के झटके महसूस किए गए। इस दौरान भूकंप का केंद्र दिल्ली के आसपास के इलाकों में ही था।

राजस्थान के सीकर में भी झटके
राजस्थान के सीकर जिले में भी बीते 12 घंटे में भूकंप के झटके महसूस किए गए। इस दौरान भूकंप की तीव्रता 3.0 मापी गई। यहां भूकंप के झटके गुरुवार शाम को महसूस किए गए। इस भूंकप का लेटिट्यूट नार्थ साइड में 27.40 और लॉगिट्यूट ईस्ट दिशा में 75.43 मापा गया है।

655652-eart.jpg

कांपी मणिपुर की धरती
देश के पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर की धरती भी गुरुवार देर रात भूकंप के झटकों से कांपी। मणिपुर के पास मोइरंग में भूकंप की तीव्रता 3.2 रिक्टर स्कैल पर मापी गई। भूकंप का केंद्र मोइरंग, मणिपुर से 38 किलोमीटर दक्षिण में था। भूकंप भारतीय समयानुसार गुरुवार रात 10 बजकर 03 मिनट पर आया। ये भूकंप सतह से 36 किलोमीटर की गहराई में आया।

दिल्ली में ठंड ने तोड़ा 10 साल का रिकॉर्ड, मौसम विभाग ने देश के इन राज्यों में जारी की कड़ाके के सर्दी पड़ने की चेतावनी

इसलिए बढ़ रहा भूकंप का खतरा
भारतीय उपमहाद्वीप में लगातार भूकंप दस्तक दे रहे हैं। 2001 में गुजरात के कच्छ क्षेत्र में आए भूकंप में हजारों की संख्या में लोग मारे गए थे। भारत में लगातार भूकंप और भूकंप के तगड़े झटके आने के पीछे बड़ी वजह है। दरअसल भारत तकरीबन 47 मिलीमीटर प्रति वर्ष की गति से एशियाई टेक्टॉनिक प्लेटों से टकरा रहा है।
इन टेक्टॉनिक प्लेटों में टक्कर के चलते ही भारतीय उपमहाद्वीप में अक्सर भूकंप आते रहते हैं।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned